scorecardresearch
 

दिल्ली: पुलिस की गिरफ्त में आया शातिर बदमाश, चोरी के बाद घरों में लगाता था आग

लगातार इलाके में चोरी की कई वारदात से स्थानीय पुलिस भी परेशान हो चुकी थी. नाबालिग होने के दौरान इसे कई बार गिफ्तार किया गया, लेकिन बच्चों के जेल से आरोपी हर बार फरार हो जाता. चोरी की वारदात को अंजाम देने में इसका साथी और गैंग का दूसरा सदस्य सोनू शुक्ला उर्फ जग्गल है.

दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में बदमाश दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में बदमाश

  • दिल्ली का शातिर बदमाश संजय गिरफ्तार
  • चोरी के बाद घरों में लगा देता था आग
  • बचपन में कई बार हुआ गिरफ्तार
  • बाल सुधार गृह से कई बार हो चुका था फरार

सरोजिनी नगर थाना पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. पुलिस ने इलाके के शातिर बर्गलर गैंग के 2 सदस्यों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने 25 वर्षीय मुख्य बदमाश है को भी गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किए गए बदमाश का नाम संजय उर्फ संजू उर्फ दरिंदा उर्फ महाकाल है. इसी तरह कई और भी नाम हैं. दूसरे आरोपी का नाम साथी सोनू शुक्ला उर्फ जग्गल है.

पुलिस द्वारा दोनों की गिरफ्तारी के बाद इनसे देसी पिस्टल, 2 जिंदा कारतूस, सोने की ज्वेलरी और नगदी बरामद की है. पुलिस का दावा है कि इनकी गिरफ्तारी से 9 अलग-अलग मामले सुलझ सकते हैं.

बदमाश संजय है कोई मामूली चोर नहीं बहुत बड़ा शातिर चोर है. संजय बचपन से ही चोरी कर घर में आग लगा देता था. उसे पहले भी सरोजिनी नगर थाने इलाके में चोरी के कई मामलों में गिरफ्तार किया गया था. बदमाश दिल्ली में ही रहता है औऱ इसने सरोजिनी नगर के सरकारी स्कूल में पांचवीं कक्षा तक पढ़ाई भी की है. बचपन से ही इस इलाके में बदमाश ने आतंक मचा रखा था. बदमाश चोरी से पहले साथियों के साथ घर के सामने रेकी करता था और चोरी के बाद घर में आग लगाकर फरार हो जाता था.

लगातार इलाके में चोरी की कई वारदात से स्थानीय पुलिस भी परेशान हो चुकी थी. नाबालिग होने के दौरान इसे कई बार गिफ्तार किया गया, लेकिन बच्चों के जेल से आरोपी हर बार फरार हो जाता. चोरी की वारदात को अंजाम देने में इसका साथी और गैंग का दूसरा सदस्य सोनू शुक्ला उर्फ जग्गल है.

इलाके में लगातार एक के बाद एक कई चोरी की वारदात होने से इलाके की पुलिस काफी परेशान हो गई थी. 30 अगस्त को पीड़ित द्वारा चोरी की शिकायत मिलने के बाद एफआईआर दर्ज कर एक टीम बनाई गई और जांच शुरू हुई. सभी जांच टीम के सदस्यों को अलग अलग काम सौंपा गया. वारदात वाली जगहों की जांच और इलाके में लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगालना शुरू किया गया.

चोरी हुई घर के आसपास की गलियों में लगे सीसीटीवी कैमरों की जांच करते हुए एक फुटेज में तीन संदिग्ध देखे गए जिनमें संदिग्धों के चेहरे स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं दे रहे थे क्योंकि कैमरा कुछ दूरी पर था. सीसीटीवी फुटेज से 3 संदिग्धों की फोटो निकालकर अलग-अलग व्यक्तियों को फुटेज दिखाया गया था. दर्जनों लोगों को फुटेज दिखाने के बाद, लोगों ने उनकी पहचान संजू और उसके साथियों के रूप में की गई.

4 सितंबर को संजू के एक सहयोगी के बारे में एसएचओ सरोजिनी नगर को जानकारी मिली. गिरफ्तार शाहपुर जट्ट के इलाके का रहने वाला है और घर छोड़ने वाला था. पुलिस ने तुरंत एक टीम के संदिग्ध व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए भेज दिया.

गिरफ्तारी के बाद खुलासा हुआ कि उसका नाम सोनू उर्फ जगगल है जो कि संजू का सहयोगी है. पूछताछ के बाद उसने बताया कि हाल में जेल से छूटने के बाद हम दोनों ने इलाके में चोरी की कई वारदातों को अंजाम दिया है. क्षेत्र में गश्त के दौरान 8 सितंबर को सूचना मिली थी कि संजू उर्फ दरिंदा अपने सहयोगियों से मिलने के लिए नेताजी नगर के खाली क्वार्टर में आएगा.

पुलिस टीम को तुरंत खाली क्वार्टर के आसपास तैनात किया गया था. जानकारी के अनुसार संजू नेताजी नगर के एक क्वार्टर में आया था और पुलिस पार्टी को देखने के बाद उसने पुलिस कर्मचारियों पर हाथ बंटाने का इशारा किया, लेकिन पुलिस पार्टी ने उसे काबू कर लिया.

पूछताछ के दौरान आरोपी संजू उर्फ दरिंदा ने खुलासा किया कि उसने अपने साथी सोनू उर्फ जग्गल और श्याम के साथ कई चोरी की और सेक्टर 12 आरके पुरम के एक झुग्गी में आभूषण और लेख भी चुराए थे. 9 सितंबर को सेक्टर 12 आरके पुरम के एक निवासी की निशानदेही पर कैश, गोल्डन चेन, काले चश्मे बरामद किए गए.

पूछताछ पर आरोपी संजू उर्फ दरिंदा ने खुलासा किया कि तिहाड़ जेल से बाहर आने के ठीक बाद उसने अपने गिरोह के सदस्यों से संपर्क किया और अपराध करना शुरू कर दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें