scorecardresearch
 

एक सूट के लिए भाई ने बहन को दी ऐसी सजा, DCW ने पहुंचाया अस्पताल, गंभीर

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि जब राखी का त्यौहार करीब है, इस घटना से मुझे गहरा धक्का लगा है. इस भाई ने अपनी ही बहन के साथ जिस तरह की बर्बरता की है, वह कल्पना से परे है. यह जानवरों जैसा है.

युवती को सफदरजंग के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है. युवती को सफदरजंग के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है.

सावन माह में भाई और बहन के प्यार का पवित्र त्यौहार रक्षा बंधन की तैयारियां हर तरफ की जा रही हैं, ऐसे समय में देश की राजधानी दिल्ली से दिल दहला देने वाली एक घटना सामने आई है. एक भाई ने अपनी बहन को रक्षा बंधन का ऐसा तोहफा दिया, जो रूह कंपा देगी.

द्वारका की एक झुग्गी में रहने वाली 20 वर्षीय शर्मिला (काल्पनिक नाम) के 100 रुपये में एक सूट खरीदना 17 वर्षीय छोटे भाई को इतना नागवार गुजरा कि उसने बहन को बर्बरतापूर्वक मारा-पीटा और आंखें भी छेद डालीं. खून से लथपथ तड़पती, छटपटाती बहन को कमरे में बंद कर दिया. संयोगवश दिल्ली महिला आयोग के महिला पंचायत प्रोग्राम के कर्मचारियों की टीम डोर टू डोर विजिट करती हुई वहां पहुंच गई.

युवती की आह सुनकर आसपास के लोगों से घटना के संबंध में जानकारी मिली तो टीम ने युवती को जैसे-तैसे वहां से सफदरजंग अस्पताल पहुंचाया. युवती को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है. उसकी हालत नाजुक बताई जाती है. जानकारी के अनुसार भाई ने घर में घुसते समय महिला आयोग की टीम के साथ भी बदसलूकी की.

टीम जैसे-तैसे अंदर दाखिल हुई तो नजारा देख कर सन्न रह गई. खून से लथपथ शर्मिला फर्श पर पड़ी थी. चेहरे पर सूजन थी और आंखें भी छेदी गई थीं. कर्मचारियों ने तत्काल महिला आयोग को इसकी जानकारी दी और युवती को अस्पताल पहुंचाया.

घर में नहीं थे माता-पिता

घटना के समय युवती के माता-पिता घर में नहीं थे. बताया जाता है कि वह बिहार राज्य स्थित अपने गांव गए हुए हैं. उन्हें घटना की सूचना दे दी गई है. बताया जाता है कि शर्मिला से पहले भी भाई ने अपनी आठ वर्षीय बहन के साथ मारपीट की थी.

स्वाति मालीवाल ने बताया पशु जैसा व्यवहार

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि जब राखी का त्यौहार करीब है, इस घटना से मुझे गहरा धक्का लगा है. इस भाई ने अपनी ही बहन के साथ जिस तरह की बर्बरता की है, वह कल्पना से परे है. यह जानवरों जैसा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें