scorecardresearch
 

अमित जेठवा मर्डर केस: पूर्व BJP सांसद दीनू बोघा सोलंकी का सरेंडर

सोलंकी की जमानत अर्जी को सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर 48 घंटे में आत्मसमर्पण करने का आदेश दिया था. गौरतलब है कि 20 जुलाई, 2010 में गुजरात हाई कोर्ट के पास अमित जेठवा की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी.

बीजेपी के पूर्व सांसद दीनू बोघा सोलंकी बीजेपी के पूर्व सांसद दीनू बोघा सोलंकी

आरटीआई कार्यकर्ता अमित जेठवा की हत्या मामले में बीजेपी के पूर्व सांसद दीनू बोघा सोलंकी ने आत्मसमपर्ण कर दिया है. दीनू बोघा सोलंकी ने सोमवार शाम को अहमदाबाद की सीबीआई कोर्ट में सरेंडर किया. इस के बाद सोलंकी को कोर्ट के आदेश पर साबरमती जेल भेज दिया गया.

कोर्ट के आदेश पर किया आत्मसमर्पण

सोलंकी की जमानत अर्जी को सुप्रीम कोर्ट ने रद्द कर 48 घंटे में आत्मसमर्पण करने का आदेश दिया था. गौरतलब है कि 20 जुलाई, 2010 में गुजरात हाई कोर्ट के पास अमित जेठवा की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी.

पुलिस ने छह लोगों को किया था गिरफ्तार

अमित जेठवा की हत्या के आरोप में गुजरात पुलिस ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया था, जिस में बीजेपी सांसद दीनू बोघा सोलंकी का भतीजा शिवा सोंलकी और शार्प शूटर पंड्या को भी पकड़ा गया था. इस मामले में सीबीआई जांच के बाद उस वक्त बीजेपी सांसद दीनू बोघा सोलंकी को नवंबर 2013 में गिरफ्तार किया गया था. उस दौरान सोलंकी गुजरात के जूनागढ़ से सांसद थे.

गिर के जंगलों में अवैध खनन पर उठाई थी आवाज

आरटीआई कार्यकर्ता अमित जेठवा ने गिर के जंगल में हो रहे अवैध खनन को लेकर पीआईएल दायर की थी. माना जा रहा है कि इसी वजह से उनकी हत्या कर दी गई. गुजरात हाई कोर्ट ने पुलिस की जांच पर सवाल खड़े करते हुए सीबीआई को जांच सौंप दी थी. हाई कोर्ट के निर्देश पर ही सीबीआई ने सोलंकी के खिलाफ मामला दर्ज किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें