scorecardresearch
 

सैलरी न बढ़ने पर कर्मचारी ने फूंका था गोदाम, मालिक को कराया 78 लाख का नुकसान, 10 दिन बाद खुलासा

Gujarat News: सूरत में 10 दिन पहले एक कपड़े के गोदाम में हुए अग्निकांड मामले में सनसनीखेज खुलासा हुआ है. सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि आग गोदाम के कर्मचारी ने ही लगाई थी. दरअसल, कर्मचारी को कम तनख्वाह मिल रही थी, जिस वजह से उसने गोदाम में आग लगाकर कारखाना मालिक का 78 लाख का नुकसान कर दिया.  

X
कपड़े के गोदाम में आग लगाता कर्मचारी.
कपड़े के गोदाम में आग लगाता कर्मचारी.

गुजरात के सूरत में 10 दिन पहले एक कपड़े के गोदाम में लगी आग मामले में सनसनीखेज खुलासा हुआ है. सीसीटीवी फुटेज से पता चला है कि आग गोदाम के कर्मचारी ने ही लगाई थी. बताया गया कि कर्मचारी को कम तनख्वाह मिल रही थी, जिस वजह से उसने गोदाम में आग लगाकर कारखाना मालिक का 78 लाख का नुकसान कर दिया. देखें Video:- 

शहर के इंस्ट्रियल एरिया स्थित एक कपड़ा गोदाम में बीते 27 अगस्त को आग लग गई थी. सूचना मिलने पर पहुंची दमकल की गाड़ियों ने आग पर काबू पा लिया था, लेकिन तब तक काफी नुकसान हो चुका था. आकलन करने पर पता चला कि आग लगने से गोदाम मालिक को तकरीबन 78 लाख रुपए का नुकसान हुआ है. 

इसके बाद पुलिस ने आग लगने के कारणों की जांच की तो सनसनीखेज खुलासा हुआ. गोदाम में लगे सीसीटीवी फुटेज में दिखा कि एक कर्मचारी ही गोदाम में रखे कपड़ों में आग लगा रहा है. इसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू की तो अनोखी कहानी सामने आई.

आरोपी कर्मचारी ने बताया कि वह कम सैलरी मिलने की वजह से नाखुश था. इसी कारण उसने मालिका को घाटा कराने का ठाना और बंद गोदाम में चुपचाप जाकर आग लगा दी. 

बता दें कि सूरत को पूरे एशिया में टेक्सटाइल हब के रूप में पहचाना जाता है. यहां के कपड़ा बाजार की बात करें तो तकरीबन 12 लाख से ज्यादा लोग इस व्यवसाय से जुड़े हैं और रोज का 3 करोड़ मीटर कपड़ा यहां पर बनता है. देश-विदेश में ज्यादातर कपड़े सूरत से ही जाते हैं. 

एक न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, वैसे भी सूरत के टेक्सटाइल उद्योग पर भारी संकट आन पड़ा है. दीपावली का त्यौहार आने में कुछ समय ही बाकी है, उसके बावजूद कपड़ा बाजार में जो तेजी आनी चाहिए थी, वैसी तेजी आई नहीं है.

सूरत का कपड़ा बाजार पिछले कई महीनों से मंदी की मार झेल रहा है. ऐसे में त्यौहारों के दिनों में यहां के कपड़े कारोबारियों की अपेक्षा थी कि आने वाले दिनों में बाजार में तेजी दिखेगी. मगर दो साल कोरोना काल तक और अब बढ़ती महंगाई के कारण सूरत का कपड़ा बाजार बुरी हालात में देखने को मिल रहा है.  

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें