scorecardresearch
 

27 बोरों में 520 कछुए, देवरिया से बंगाल भेजने की थी तैयारी, GRP-RPF ने ऐसे पकड़ा

देवरिया रेलवे स्टेशन पर जीआरपी और आरपीएफ की टीम ने तस्करी करके भेजे जा रहे 520 प्रतिबंधित कछुओं को बरामद किया. वन विभाग की टीम ने सभी कछुओं को नदी में छोड़ दिया है. हालांकि, अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है. पुलिस ने आशंका जताई कि कछुओं को तस्करी कर पश्चिम बंगाल भेजा जा रहा था.

X
मामले में किसी की नहीं हुई गिरफ्तारी.
मामले में किसी की नहीं हुई गिरफ्तारी.

उत्तर प्रदेश के देवरिया रेलवे स्टेशन से जीआरपी और आरपीएफ ने प्लेटफार्म पर तलाशी के दौरान प्रतिबंधित 520 कछुए बरामद किये हैं. सुरक्षाकर्मियों ने इन कछुओं को वन विभाग के सुपर्द कर दिया है. इनकी कीमत पांच लाख रुपये बताई जा रही है. हालांकि, इसमें किसी तस्कर की गिरफ्तारी नहीं हुई है. पुलिस ने आशंका जताई कि इन कछुओं को चोरी छिपे ट्रेन से पश्चिम बंगाल भेजा जा रहा था. लेकिन स्टेशन सुरक्षाकर्मियों की मुस्तैदी से ये कछुए बरामद कर लिए गए.

जानकारी के मुताबिक, रोजाना की तरह जीआरपी और आरपीएफ के सिपाही देवरिया सदर रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर सघन तलाशी कर रहे थे. इस दौरान प्लेटफार्म संख्या 2/3 पर निर्माणाधीन फुट ओवर ब्रिज के नीचे कपड़ों के गट्ठर अनगिनत संख्या में संदिग्ध अवस्था में दिखाई पड़े. जवानों ने वहां मौजूद यात्रियों से पूछा कि ये सामान किसका है? लेकिन कोई भी शख्स सामने नहीं आया. फिर जब पुलिस ने गट्ठरों को छुआ तो उन्हें लगा कि अंदर शायद कछुए हैं.

जवानों ने इसकी सूचना तुरंत अपने सीनियर अधिकारियों को दी. सूचना मिलते ही आरपीएफ के इंचार्ज मनभरन और जीआरपी इंचार्ज सुधाकर उपाध्याय टीम के साथ मौके पर पहुंचे. गट्ठर खुलवाए गए तो सभी के होश उड़ गए. गट्ठरों में कछुए भरे हुए थे और उन्हें चादर से लपेटा गया था, ताकि किसी को शक ना हो. पुलिस ने तुरंत वन विभाग को इसकी सूचना दी. वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची और कछुओं की गिनती शुरू की गई. गट्ठरों में कुल 520 प्रतिबंधित कछुए मिले. वन विभान की टीम फिर सारे कछुओं को अपने साथ ले गई और उन्हें नदी में छोड़ दिया गया. इन कुछओं की कीमत 5 लाख रुपये बताई जा रही है.

चीन में है कछुओं की डिमांड
बता दें कि पश्चिम बंगाल में कछुओं की बड़े पैमाने पर तस्करी की जाती है. चीन में भी इसकी मांग बहुत ज्यादा है. सम्भवना जताई जा रही है कि इन कछुओं को ट्रेन से तस्करी कर बंगाल ले जाया जा रहा था. लेकिन मंगलवार को जीआरपी और आरपीएफ की टीम के जवानों ने कछुओं को पकड़कर तस्करों के मंसूबों पर पानी फेर दिया.

नदी में छोड़ दिए गये कछुए
देवरिया सदर रेलवे स्टेशन के जीआरपी थाना प्रभारी सुधाकर उपाध्याय ने बताया कि जीआरपी और आरपीएफ की संयुक्त टीम द्वारा प्लेटफार्म नंबर 2/3 निर्माणाधीन फुट ओवर ब्रिज के नीचे से 27 गट्ठर संदिग्ध अवस्था में पड़े दिखाई दिए. गट्ठरों को चेक किया गया तो उसमें कुछ 520 कछुए बरामद हुए. वन विभाग की टीम ने सभी कछुओं को नदी में छोड़ दिया है. मामले की जांच की जा रही है. जल्द ही तस्करी करने वाले आरोपियों का पता लगाकर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें