scorecardresearch
 

क्या रिजवान को रिसीव करने आया था 8 लोगों का ग्रुप? हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही हैं एजेंसियां

आतंकी रिजवान जिस रात को बीएसएफ बॉर्डर से पकड़ा गया था उसी रात को वहां से 1.5 किलोमीटर दूर 8 लोगों का एक ग्रुप मौजूद था. जांच एजेंसियों को शक है कि ये ग्रुप रिजवान की मदद करने वहां आया था. इस पूरे मामले की जांच की जा रही है.

X
पाकिस्तान से भारत आया आतंकी रिजवान पाकिस्तान से भारत आया आतंकी रिजवान
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पाकिस्तान से भारत में घुसपैठ करते पकड़ा गया रिजवान
  • जांच एजेंसियों ने 8 लोगों को हिरासत में लिया

पाकिस्तान से भारत में घुसपैठ करते पकड़े गए आतंकी रिजवान अशरफ के मामले में एक और खुलासा हुआ है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 8 लोगों को हिरासत में ले रखा गया है. जिस दिन रिजवान पकड़ा गया था उसी दिन बॉर्डर से नजदीक BSF के एक पोस्ट से मात्र 1.5 किलोमीटर दूर ये ग्रुप मौजूद था. जांच एजेंसियां यह पता कर रही हैं कि क्या 8 लोगों का ये समूह रिजवान को रिसीव करने आया था? जिस दिन आतंकी रिजवान अशरफ भारत में घुसने की फिराक में था उस दिन ये ग्रुप भेड़-बकरी के साथ बीएसएफ पोस्ट से मात्र 1.5 किलोमीटर मौजूद था. ये लोग पहले गंगानगर में रहते थे. पिछले कुछ सालों से ये लोग पंजाब के फजिल्का में रह रहे हैं. 

बता दें कि पाकिस्तानी नागरिक रिजवान अशरफ भारत में घुसकर बीजेपी से निलंबित नेता नूपुर शर्मा की हत्या करना चाहता था. पुलिस के सूत्रों ने बताया कि 16-17 जुलाई की देर रात को खखां बॉर्डर जहां से रिजवान को पकड़ा गया था वहीं से 1.5 किलोमीटर दूर आठ लोगों के एक समूह को पकड़ा गया है जो कि कुछ भेड़-बकरियों के साथ मौजूद था.   

जांच एजेंसियां यह पता लगाने में लगी हुई हैं कि क्या ये लोग रिजवान को रिसीव करने आए थे? क्या इनकी कोई बड़ी साजिश थी जिसको यह अंजाम देना चाहते थे?  

बता दें कि 16-17 जुलाई की रात को रिजवान अशरफ को अवैध रूप से पाकिस्तान की तरफ से भारत में घुसपैठ करते हुए बी.एस.एफ. द्वारा पकडा गया था. रिजवान ने 8वीं तक की शिक्षा अपने गांव के स्कूल से हासिल की हुई है तथा इसने मण्डी बहाउदीन के मदरसा जामिया जलालिया रिजविया से कुरान की तालीम भी हासिल की है. 

8वीं पास करने के बाद यह अपने गांव में ही अपने पिता की बिजली की दुकान पर काम करने लग गया. पूछताछ में पाया गया कि रिजवान पिछले करीब एक-डेढ साल से पाकिस्तान के संगठन तहरीक-ए-लब्बैक के संस्थापक खादिम हुसैन रिजवी की विचारधारा से काफी प्रभावित है. इस दौरान वह काफी कट्टरपंथी भी बन गया था. विजुअल मीडिया के माध्यम से इसको भारत में नूपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ दिये गए विवादित बयान की जानकारी मिली. इसके बाद से ही वह बदला लेने की नीयत से भारत में घुसपैठ करने की योजना बनाने लगा. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें