scorecardresearch
 

पामेला गोस्वामी ड्रग केस: BJP नेता राकेश सिंह गिरफ्तार, दो बेटे भी हिरासत में

बंगाल पुलिस ने बीजेपी नेता राकेश सिंह को बर्दवान जिले से गिरफ्तार कर लिया है. कोलकाता पुलिस ने राकेश सिंह को नोटिस भेजकर आज पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन वे दिल्ली जाने की बात कर नहीं पहुंचे थे.

 बीजेपी नेता राकेश सिंह गिरफ्तार बीजेपी नेता राकेश सिंह गिरफ्तार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पुलिस ने शुभम और साहेब सिंह को हिरासत में लिया
  • पामेला गोस्वामी ने लिया था राकेश सिंह का नाम
  • पुलिस ने राकेश के घर पर भी चलाया सर्च ऑपरेशन

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की युवा इकाई की नेता पामेला गोस्वामी को कोकीन के साथ गिरफ्तार किया गया था. पामेला ने अपनी ही पार्टी के नेता राकेश सिंह पर फंसाने  का आरोप लगाया था. पामेला ने कहा था कि राकेश सिंह ने उसे फंसाने के लिए कोकीन रखवाया था. बंगाल पुलिस ने इस मामले में पूछताछ के लिए राकेश सिंह को नोटिस जारी किया था, लेकिन वे नहीं पहुंचे. देर शाम बीजेपी नेता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.

पुलिस ने राकेश सिंह को देर शाम बर्दवान जिले के गलसी इलाके से गिरफ्तार कर लिया. राकेश सिंह से पूछताछ करने के लिए कोलकाता पुलिस की एक टीम गलसी थाने पहुंच गई है, जहां उन्हें रखा गया है. इससे पहले कोलकाता पुलिस की एंटी नारकोटिक्स टीम और डिटेक्टिव डिपार्टमेंट ने शाम को राकेश सिंह के घर पर सर्च ऑपरेशन चलाया. सर्च ऑपरेश के बाद कोलकाता पुलिस के डिटेक्टिव डिपार्टमेंट ने राकेश सिंह के दो बेटों को हिरासत में ले लिया है. राकेश सिंह का एक बेटा अचानक मीडियाकर्मियों से बात करने चला आया तो कोलकाता पुलिस के जवानों ने उसे अपनी गाड़ी में डाल लिया और वहां से रवाना हो गए.

बीजेपी नेता राकेश सिंह के जिन दो बेटों को पुलिस ले गई, उनमें 25 साल के शुभम सिंह और 21 साल के साहेब सिंह शामिल हैं. गौरतलब है कि कोलकाता पुलिस ने एक दिन पहले ही राकेश सिंह को नोटिस जारी कर आज यानी 23 फरवरी को बयान दर्ज कराने के लिए शाम 4 बजे तक आने के लिए नोटिस दिया था. बयान दर्ज कराने के लिए दिए गए समय सीमा के अंदर राकेश सिंह नहीं पहुंचे तो कोलकाता पुलिस ही उनके आवास पहुंच गई.

कोलकाता पुलिस के जवान और अधिकारी राकेश सिंह के घर पहुंचे तो परिवार के लोगों ने पुलिसकर्मियों को दरवाजे पर ही रोक लिया. परिजन दरवाजे पर ही खड़े हो गए और पुलिसकर्मियों से सर्च वारंट और अन्य कागजात दिखाने की मांग की. राकेश सिंह के परिजनों का कहना था कि सर्च वारंट दिखाने के बाद ही पुलिस को घर में घुसने दिया जाएगा. इसकी वजह से कोलकाता पुलिस को करीब दो घंटे तक राकेश सिंह के घर के बाहर इंतजार करना पड़ा.

राकेश सिंह के घर एंटी नारकोटिक्स टीम और एंटी रावड़ी सेक्शंस की टीम सर्च ऑपरेशन के लिए पहुंची है. दोनों ही सेक्शंस के असिस्टेंट पुलिस कमिश्नर रैंक के अधिकारी मौके पर मौजूद हैं. इससे पहले ड्रग्स केस में नाम आने के बाद कोलकाता पुलिस ने राकेश सिंह को नोटिस जारी कर बयान दर्ज कराने के लिए तलब किया था. राकेश सिंह ने इसे लेकर कहा था कि मुझे कोलकाता पुलिस की नोटिस मिली है.

राकेश सिंह ने कहा था कि 23 फरवरी को दिल्ली जाने का कार्यक्रम पूर्व निर्धारित होने की जानकारी दी और कहा कि उन्हें 24 और 25 फरवरी को पार्टी के कार्यक्रमों में शामिल होना है. वे 26 फरवरी को दिल्ली से लौटेंगे. दिल्ली से लौटने के बाद वे निश्चित तौर पर जांच में सहयोग करेंगे. सिंह ने साथ ही दो शर्तें भी रख दी थीं. वो यह कि पूछताछ के दौरान उनका निजी सुरक्षा अधिकारी, केंद्र का सुरक्षा गार्ड और दो वकील भी मौजूद रहेंगे. उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए, क्योंकि मुझे लगता है कि कोलकाता पुलिस सत्ताधारी दल के दबाव में है और सत्ताधारी दल के कुछ नेताओं को खुश करना चाहती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें