scorecardresearch
 

आजमगढ़ से IS का संदिग्ध गिरफ्तार, 15 अगस्त पर था धमाके का प्लान, मिला IED बनाने का सामान

स्वतंत्रता दिवस पर धमाके की साजिश रच रहे आतंकी संगठन ISIS के एक संदिग्ध को यूपी एटीएस की टीम ने आजमगढ़ से गिरफ्तार किया है. फिलहाल उससे एटीएस मुख्यालय में पूछताछ चल रही है.

X
संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार
संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार

देश में स्वतंत्रता दिवस के पहले धमाके की साजिश रच रहे ISIS के एक संदिग्ध को उत्तर प्रदेश एटीएस की टीम ने आजमगढ़ से गिरफ्तार किया है.

संदिग्ध का नाम सबाउद्दीन आजमी है जो ISIS के रिक्रूटर से सीधे संपर्क में था. यूपी एटीएस ने उस संदिग्ध से  IED बनाने का सामान भी बरामद किया है.  

आरोपी की गिरफ्तारी के बाद उसे पूछताछ के लिए एटीएस मुख्यालय लाया गया. मोबाइल डेटा खंगाले जाने पर संदिग्ध द्वारा प्रतिबंधित आतंकी संगठन ISIS द्वारा आतंक और जेहाद के लिए मुस्लिम युवकों का ब्रेनवॉश करने के लिए बनाए गए टेलीग्राम चैनल AL-SAQR MEDIA से उसे जुड़े हुए होने के सबूत मिले हैं. वर्तमान समय में आरोपी सबाउद्दीन, AIMIM का सदस्य है.

यूपी एटीएस के लिए इसे बड़ी कामयाबी मानी जा रही है. यूपी पुलिस महानिदेशक के निर्देश और अपर पुलिस महानिदेशक, कानून-व्यवस्था के पर्यवेक्षण में एटीएस द्वारा स्वतंत्रता दिवस की संवेदनशीलता को देखते हुए लगातार रेडिकल तत्वों पर नजर रखी जा रही है.

इसी क्रम में UP एटीएस को सहयोगी एजेंसी से सूचना मिली थी कि आजमगढ़ में अमिलो मुबारकपुर में एक व्यक्ति, अपने साथियों के माध्यम से ISIS विचारधारा से प्रभावित होकर Whats APP और अलग-अलग सोशल मीडिया ऐप के माध्यम से जिहादी विचारधारा का प्रचार-प्रसार कर रहा है. आरोप है कि वो लोगों को भी प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन ISIS से जुड़ने के लिए प्रेरित कर रहा था.

खतरनाक योजना पर काम कर रहा था सबाउद्दीन आजमी

रिपोर्ट के मुताबिक बिलाल नाम के व्यक्ति से फेसबुक पर जुड़ने के बाद, बिलाल सबाउद्दीन से जिहाद और कश्मीर में मुजाहिदों पर हो रही कार्रवाई के बारे में बात किया करता था.

बातों-बातों में ही बिलाल ने मूसा उर्फ खत्ताब कश्मीरी का नंबर दिया जो ISIS का सदस्य है, जिससे आरोपी की बात होने लगी.

कश्मीर में मुजाहिदों पर हो रहे जुल्मों का बदला लेने की योजना के संबंध में मूसा ने ISIS के अबू बकर अल शामी का नंबर दिया जो वर्तमान में सीरिया में है.

अबू बकर अल शामी के सम्पर्क में आने के बाद सबाउद्दीन ने मुजाहिदों पर हो रही कार्रवाई का बदला लेने के लिए ISIS की तरह भारत में भी एक इस्लामिक संगठन बनाने और IED बनाने के संबंध में जानकारी ली.

IED बनाने की दी जा रही थी ट्रेनिंग

शामी ने सबाउद्दीन को IED बनाने की विधि और उसके लिए जरूरी सामग्री बताई. सबाउद्दीन का संपर्क ISIS रिक्रूटर अबू उमर जो मुर्तानिया का रहने वाला है उससे भी कराया था.

रिपोर्ट के मुताबिक अबू उमर द्वारा सोशल मीडिया ऐप्स के माध्यम से हैंड ग्रेनेड, बम और आईडी बनाने की ट्रेनिंग दी जाने लगी. इतना ही नहीं मुजाहिद्दीन संगठन तैयार कर भारत में इस्लामिक स्टेट स्थापित करने और भारत में इस्लामी हुकूमत और शरिया कानून लागू कराने की योजना पर काम करने लगे.

सबाउद्दीन ने RSS के सदस्यों को टारगेट करने के लिए  RRS के नाम से मेल आईडी बनाई और उससे फेसबुक अकाउंट बना कर उन्हें निशाना बनाने की योजना पर काम कर रहा था. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें