scorecardresearch
 

गैंगस्टर रमेश ढोले 23 साल बाद गिरफ्तार, पहचान छुपाने के लिए झोपड़ी को बनाया था ठिकाना

मुंबई पुलिस ने रविंद्र मारुति उर्फ रमेश ढोले नाम के गैंगस्टर को गिरफ्तार किया है. उसकी गिरफ्तारी पुणे से की गई है. पुलिस को पिछले 23 साल से ढोले की तलाश थी. 50 वर्षीय ढोले डॉन अमर नाईक गैंग का सदस्य था. उस पर डकैती के प्रयास का मामला साल 1999 में दर्ज किया था, जिसमें वो फरार था.

X
प्रतीकात्मक तस्वीर.
प्रतीकात्मक तस्वीर.

मुंबई पुलिस ने डॉन अमर नाईक गैंग के फरार गैंगस्टर को गिरफ्तार किया है. गैंगस्टर की पहचान 50 वर्षीय रविंद्र मारुति ढोले के रुप में हुई है. मुंबई पुलिस को पिछले 23 साल से ढोले की तलाश थी. उसे डकैती के प्रयास मामले में गिरफ्तार किया गया था. लेकिन जमानत पर रिहा होने के बाद उसने कोर्ट सुनवाई में आना बंद कर दिया था और फरार हो गया था. तभी से मुंबई पुलिस उसको ढूंढ रही थी.

जानकारी के मुताबिक, एक समय मुंबई के कुख्यात डॉन अमर नाईक गैंग का सदस्य रहा रविंद्र मारुति ढोले को पुणे के करीब जुन्नर में झोपड़ी से गिरफ्तार किया गया है. आरोपी बीते 23 साल से पहचान छुपाकर यहां पर रह रहा था. 

पुलिस के मुताबिक, रविंद्र मारुति ढोले पर साल 1999 मे डकैती के प्रयास का मामला दर्ज किया गया था. बाद में उसे मामले में जमानत दे दी गई थी. लेकिन सुनवाई के दौरान ढोले अदालत में पेश नहीं होता था. फिर वह मुंबई छोड़कर फरार हो गया था. इसके बाद से ही पुलिस गैंगस्टर ढोले की तलाश में जुटी हुई थी. कोर्ट ने भी उसे फरार घोषित कर दिया था.

ढोले के फरार होने के बाद से ही पुलिस उसकी तलाश में जुटी हुई थी. हाल ही में हमें उसके पुणे में छुपे होने की गुप्ता सूचना मिली थी. इसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया है.पुलिस ने बताया कि रमेश ने फरार होने से पहले ही मुंबई स्थित घर बेच दिया था.

(रिपोर्ट - दीपेश त्रिपाठी)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें