scorecardresearch
 

बिहार: पूर्णिया में दारोगा को घूस लेते विजिलेंस की टीम ने रंगे हाथों पकड़ा, चाय दुकान पर ले रहा था पैसे

बिहार के पूर्णिया में विजिलेंस विभाग की टीम ने एक दारोगा को घूस लेते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया. आरोपी दारोगा चाय की दुकान पर केस से नाम हटवाने के लिए घूस ले रहा था.

X
विजिलेंस की टीम ने घूसखोर दारोगा को किया गिरफ्तार
विजिलेंस की टीम ने घूसखोर दारोगा को किया गिरफ्तार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विजिलेंस के हत्थे चढ़ा घूसखोर दारोगा
  • पूर्णिया के सदर थाने में तैनात था आरोपी

बिहार के पूर्णिया जिले में सदर थाना के सब इंस्पेक्टर संतोष कुमार और उनके सहयोगी (दलाल ) मो एनुल हक उर्फ सोनू कुमार को  विजिलेंस विभाग की टीम ने रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया.

दरअसल, टीम ने इन्हें 40 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए पकड़ा था. थाने के बगल में चाय की दुकान से एसआई को गिरफ्तार किया गया है. इसके बाद SI संतोष कुमार और उनके सहयोगी को  निगरानी की टीम ने दबोच लिया.

पूर्णिया सदर थाना के सब इंस्पेक्टर संतोष कुमार को 30 हज़ार और बिचौलिया मो एनुल हक उर्फ सोनू कुमार को 10 हजार रुपये रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है. रिश्वत लिए जाने की शिकायत के बाद निगरानी की टीम ने पहले सत्यापन किया और फिर जाल बिछा कर सब इंस्पेक्टर संतोष कुमार और बिचौलिए को गिरफ्तार कर लिया.

विजिलेंस की टीम में  3 डीएसपी स्तर के पदाधिकारि शामिल थे. सबसे बड़ी बात ये है कि विजिलेंस की टीम ने बताया की ये दारोगा कमर में पिस्टल लटका कर अपने दलाल के साथ केस से नाम हटाने के नाम पर पैसा ले रहा था. 

महिला शिकायतकर्ता ने विजिलेंस टीम (पटना) में कंप्लेन किया जिसके बाद में ये पूरी कार्रवाई की गई. इससे पहले संतोष कुमार पूर्णिया जिले के कसबा थाने के थानेदार हुआ करते थे, वहां भी कार्य में लापरवाही करने के कारण जिले के एसपी ने उन्हें सस्पेंड कर लाइन हाजिर कर दिया था.

पूर्णिया जिले में विजिलेंस की ये दूसरी सबसे बड़ी कार्रवाई है. इससे पहले विजिलेंस ने बायसी थाने के दारोगा को  पकड़ कर जेल भेजा था.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें