scorecardresearch
 

धर्मांतरण केस में आया था प्रवीण कुमार का नाम, क्लीन चिट मिलने के बाद भी उत्पीड़न का आरोप

धर्मांतरण मामले में यूपी एटीएस पहले ही 10 दिन की जांच के बाद प्रवीण को निर्दोष करार दे चुकी है. जब हमारी टीम ने इस बारे में ग्रामीणों से बात कि तो उन्होंने बताया कि प्रवीण बहुत अच्छा लड़का है और उसके खिलाफ साजिश की गई है.

प्रवीण कुमार अब अपने घर से निकलकर कहीं चला गया है प्रवीण कुमार अब अपने घर से निकलकर कहीं चला गया है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पीएम मोदी पर लिखी थी किताब 'नमो गाथा'
  • यूपी एटीएस ने लखनऊ ले जाकर की थी पूछताछ
  • अब समाज के लोग ही कहते हैं आतंकवादी-गद्दार

उत्तर प्रदेश के सहारनपुर जिले से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. जहां एक गांव में रहने वाले युवक से पूछताछ करने के लिए अचानक यूपी एटीएस की टीम पहुंच गई. एजेंसी को जानकारी मिली थी कि युवक धर्म परिवर्तन कर चुका है. लेकिन एटीएस को मौके पर युवक ने बताया कि उसने कोई धर्म परिवर्तन नहीं किया है, बल्कि उसने पीएम मोदी को लेकर नमो गाथा नामक एक किताब लिखी थी, जिसके कवर पर उसका फोटो लगा था. वो फोटो धर्म परिवर्तन करने वाले दस्तावेजों पर कैसे पहुंची, उसे पता नहीं.

दरअसल, नागल थाना क्षेत्र के गांव शीतला खेड़ा में अब से कुछ दिन पहले एक मामला सामने आया था, जिसमें गांव के रहने वाले युवक प्रवीण कुमार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आधारित नमो गाथा नामक किताब लिखी थी. किताब के कवर पर उसका फोटो भी था. लेकिन एटीएस की टीम ने गांव में जाकर उससे पूछा कि तुमने धर्म परिवर्तन क्यों किया है? तब उसने बताया कि उसने कोई धर्म परिवर्तन नहीं किया है.

उसने एटीएस की टीम को अपनी लिखी किताब दिखाते हुए कहा कि उसने किताब लिखी है. जिस पर उसका फोटो लगा हुआ है. वही फोटो धर्म परिवर्तन करने वाले कागजों में लगी है. तभी से लोग उसे गद्दार, आतंकवादी आदि शब्दों से पुकारने लगे हैं. परेशान होकर उसने सहारनपुर के डीएम को एक प्रार्थना पत्र दिया और कहा कि वो पैदल ही सुप्रीम कोर्ट जाएगा और अपना पक्ष सुप्रीम कोर्ट में रखेगा. 

इसे भी पढ़ें-- धनबाद के जज की संदिग्ध मौत हादसा नहीं मर्डर, पढ़ें इनसाइड स्टोरी 

हालांकि इस मामले में यूपी एटीएस पहले ही 10 दिन की जांच के बाद प्रवीण को निर्दोष करार दे चुकी है. जब हमारी टीम ने इस बारे में ग्रामीणों से बात कि तो उन्होंने बताया कि प्रवीण बहुत अच्छा लड़का है और उसके खिलाफ साजिश की गई है. उसे फंसाया गया है. प्रवीण ने नेट पास किया हुआ है. वह प्रोफेसर की तैयारी कर रहा है. 

वहीं सहारनपुर के जिलाधिकारी अखिलेश सिंह का कहना है कि इस संबंध में एसएसपी को निर्देश दे दिए गए हैं कि वह जाकर पता करें कि कौन कौन प्रवीण कुमार को मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहा है और उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए. डीएम ने कहा कि उन्हें इस संबंध में मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली है. अगर कोई एटीएस का फीडबैक है तो वह भी लिया जाएगा. 

(देवबंद, सहारनपुर से पिंटू शर्मा की रिपोर्ट)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें