scorecardresearch
 

पंजाब: फरीदकोट सेंट्रल जेल में ड्रग्स सप्लाई करते पकड़ा गया डिप्टी सुपरिंटेंडेंट

एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले कुछ वर्षों में फरीदकोट मॉडर्न सेंट्रल जेल में 70 से ज्यादा कैदियों की मौत हो चुकी है. इनमें से कुछ ने आत्महत्या करके अपनी जान दे दी है. वहीं एसडीएम कोटकपूरा ने राज्य सरकार को अपनी रिपोर्ट में बताया था कि नशे की लत के कारण जेल में ज्यादातर कैदी आत्महत्या कर रहे हैं. एसडीएम ने रिपोर्ट में कहा था कि जेल कर्मचारियों की मिलीभगत के बिना ड्रग्स जेल में नहीं आ सकती.

X
फरीदकोट मॉर्डन सेंट्रल जेल कैदियों के पास ड्रग्स मिलने के मामले में बदनाम है (सांकेतिक फोटो) फरीदकोट मॉर्डन सेंट्रल जेल कैदियों के पास ड्रग्स मिलने के मामले में बदनाम है (सांकेतिक फोटो)

पंजाब की फरीदकोट मॉर्डन सेंट्रल जेल अभी डोप टेस्ट को लेकर सुर्खियों में बनी हुई है. अब एक और विवाद उसके साथ जुड़ गया है. दरअसल  जेल के डिप्टी सुपरिंटेंडेंट विनि ढांग को जेल में ड्रग्स ले जाते हुए पकड़ा गया है.

जानकारी के मुताबिक उनके पास से करीब 80 ग्राम हेरोइन के पांच पैकेट बरामद हुए हैं. वह छोटे-छोटे पैकेटों को एक फाइल में छुपाकर जेल में ले जा रहे थे, तभी सुरक्षाकर्मियों ने तलाशी के दौरान उन्हें पकड़ लिया. इसके बाद उन्हें हिरासत में ले लिया गया है. उनके खिलाफ एनडीपीएस और जेल एक्ट समेत अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है.

सेंट्रल जेल में डोप टेस्ट में 45% कैदी मिले पॉजिटिव

पंजाब की फरीदकोट सेंट्रल जेल में बंद कैदियां का हाल ही में डोप टेक्ट कराया गया था. रिपोर्ट में पाया गया कि जेल बंद 45 प्रतिशत कैदी ड्रग्स लेते हैं. 155 महिला कैदी भी पॉजिटिव पाई गईं.

जेल में कुल 2,333 कैदियों में से 1,064 डोप टेस्ट में फेल हो गए. 1,064 पॉजिटिव कैदियों में से 725 का जेल के आउट पेशेंट ओपिओइड असिस्टेड ट्रीटमेंट नशा मुक्ति केंद्र में इलाज चल रहा है. जांच में 721 कैदी ब्यूप्रेनोर्फिन की गोलियां, दर्द निवारक, ट्रामाडोल के सेवन के आदी पाए गए हैं.

नशा सप्लाई के आरोप में पकड़ा गया था एएसआई

फरीदकोट पुलिस ने इस हफ्ते की शुरुआत में सेंट्रल जेल में बंद कैदियों को नशा सप्लाई करने के आरोप में मोगा में तैनात एएसआई राज सिंह को गिरफ्तार किया था. दरअसल दो प्रत्यर्पण कैदियों को मोगा कोर्ट में पेश किया गया था. पेशी से लौटने के बाद चेकिंग के दौरान उनके पास नशीला पदार्थ मिला था.

पूछताछ में उन्होंने बताया था कि उन्हें राज सिंह ने यह नशीला पदार्थ दिया था. इसके बाद जेल प्रशासन की शिकायत पर एएसआई के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें