scorecardresearch
 

'सबसे खतरनाक हत्यारा' जिसे अंडरग्राउंड जेल में कांच के बक्से में किया गया बंद

यूके के सबसे खतरनाक सीरियल किलर (Serial Killer) में से एक 68 वर्षीय रॉबर्ट मौडस्ले (Robert Maudsley) की मौत एक भूमिगत कांच के बक्से (Underground Glass Box) में हो जाएगी.

X
सांकेतिक फोटो (गेटी) सांकेतिक फोटो (गेटी)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यूके का सबसे खतरनाक सीरियल किलर
  • अंडरग्राउंड जेल में है बंद
  • कांच के बक्से में किया गया कैद

ब्रिटेन के सबसे खतरनाक सीरियल किलर (Serial Killer) में से एक 68 वर्षीय रॉबर्ट मौडस्ले (Robert Maudsley) की मौत एक भूमिगत कांच के बक्से (Underground Glass Box) में हो जाएगी. रॉबर्ट को आगे भी जेल की तन्हाई में ही रहना होगा. उसकी दूसरे कैदियों के साथ रहने की इजाजत देने की अपील ठुकरा दी गई. 

'डेली मेल' की रिपोर्ट के मुताबिक, 1974 और 1978 के बीच चार लोगों की हत्या करने वाले रॉबर्ट मौडस्ले को जेल में एक भूमिगत सेल (Underground Cell) में रखा जा रहा है. रॉबर्ट को इस सप्ताह बताया गया कि जब तक वह मर नहीं जाता, तब तक उसे 'ग्लास बॉक्स' में ही कैद रखा जाएगा. 

रॉबर्ट अन्य लोगों की उपस्थिति में क्रिसमस बिताना चाहता था, लेकिन उसकी अपील को खारिज कर दिया गया. जेल के अधिकारियों ने उसे वेस्ट यॉर्कशायर जेल में कैदियों और गार्डों से मिलने में बेहद खतरनाक बताया. साथ ही कहा कि रॉबर्ट लंबे समय से अकेले रह रहा है, इसलिए वे जोखिम नहीं ले सकते. 

'भूमिगत कांच के बक्से में होगी मौत'

लिवरपूल के सजायाफ्ता हत्यारे रॉबर्ट की आखिरी अपील खारिज होने के बाद अब उसे अपनी जिंदगी के बचे दिनों को 5.5 x 4.5 मीटर सेल में गुजारना होगा, जो विशेष रूप से उसके लिए 1983 में बनाया गया था. ये सेल बुलेट प्रूफ ग्लास द्वारा बना है. 

रिपोर्ट के मुताबिक, वह हर दिन 23 घंटे इसी कांच की कोठरी में बिताता है. एक कंक्रीट की फर्श पर सोता है और एक टॉयलेट-एक सिंक का उपयोग करता है. सेल में एक मेज और कुर्सी भी है. 

21 साल की उम्र में की पहली हत्या 

रॉबर्ट ने 21 साल की उम्र में की पहली हत्या की थी. इसके बाद उसपर नृशंस हत्याओं, बच्चों के शोषण, पत्नी की हत्या समेत तमाम केस साबित हुए. कभी उसने चाकू से हत्या की तो कभी सिर धड़ से अलग कर दिया. वह 1983 से जेल में है, जहां उसकी खूंखार हरकतों को देखते हुए उसे भूमिगत कांच के बक्से में रखा गया है. अब वहीं उसे आखिरी दम तक रहना होगा. 



 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें