scorecardresearch
 

UP: लड़की को जिंदा जलाने का आरोपी बेल पर छूटा, अब उसी जगह मिली जली हुई डेडबॉडी

सचेंडी इलाके में युवक की जली हुई लाश मिलने से सनसनी फैल गई. इस मामले का कनेक्शन ज्योति मिश्रा हत्याकांड से निकलकर आ रहा है. अमित और उसकी गर्लफ्रेंड पर ज्योति की हत्या का आरोप लगा था, लेकिन दोनों को जमानत मिल गई थी. वहीं, अब अमित के घर वालों ने ज्योति के परिवार वालों पर हत्या का आरोप लगाया है.

X
मृतक अमित और ज्योति (फाइल फोटो)
मृतक अमित और ज्योति (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश के कानपुर में जेल से जमानत पर छूटे एक युवक का जला हुआ शव सचेंडी इलाके की झाड़ियों में पड़ा हुआ मिला, जिससे इलाके में हड़कंप मच गया. बताया जा रहा है कि यह वही शख्स था जिस पर लड़की को जलाकर हत्या करने का आरोप लगा था. हैरानी की बात यह रही कि अमित नामक यह शख्स भी उसी तरह मारा गया जिस तरह उसने लड़की को जलाकर मारा था.

मृतक के पिता ने लड़की के मां-बाप और भाई पर अमित को जिंदा जलाकर मारने का आरोप लगाते हुए FIR दर्ज करवाई है. वहीं, लड़की के घर वालों ने का कहना है कि उनका इस हत्या से कोई लेना-देना नहीं है. बता दें, 25 अक्टूबर 21 को अमित और उसकी गर्लफ्रेंड पर लड़की को जलाकर मारने का आरोप लगा था.

जानकारी के मुताबिक, शनिवार को अमित अपने घर से नौबस्ता में किसी व्यक्ति का आरो ठीक करने आया था. रात को जब अमित घर नहीं लौटा तो परिवार वालों ने नौबस्ता थाने में उसकी गुमशुदगी लिखाई. लेकिन रविवार को सचेंडी इलाके के एक खाली प्लॉट में अमित की जली हुई लाश पड़ी मिली. अमित की लाश के ऊपर उसका बैग भी रखा था, जिसमें रखे कागजों के आधार पर परिजनों को सूचना दी गई. अमित के घर वाले मौके पर पहुंचे तो अमित की बुरी तरह जली हुई लाश देखकर ही दंग रह गए. अमित अभी एक महीने पहले ही हाईकोर्ट से जमानत पाकर कानपुर जेल से छूट कर आया था.

अमित के ऊपर 25 अक्टूबर 21 को उसकी अपनी पूर्व सहकर्मी ज्योति मिश्रा की हत्या का आरोप था. अमित के खिलाफ ज्योति के पिता ने उसको जिंदा जलाकर मारने की चकेरी थाने में FIR दिखाई थी, जिसमें अमित और उसकी गर्लफ्रेंड को पुलिस ने गिरफ्तार करके जेल भेजा था. दरअसल, ज्योति ने मरने से पहले आखरी कॉल अमित को ही की थी. ज्योति के घर वालों ने भी आरोप लगाया था कि अमित ज्योति के ऊपर गलत नजर रखता था. इसीलिए उसने ज्योति को जलाकर मार डाला.

ज्योति की लाश जली हुई लाश रेलवे लाइन के किनारे पाई गई थी. पोस्टमार्टम में भी इस बात की पुष्टि हुई थी कि ज्योति को जिंदा जलाकर मारा गया था. इस मामले में अमित जेल में बंद था. 1 महीने पहले वह जमानत पर छूटकर बाहर आया था.

इस मामले में एडीसीपी अंकिता शर्मा का कहना है कि अमित के परिजनों की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया गया है. मामले की हर एंगल से जांच की जा रही है. जल्द ही आरोपियों का पता लगा लिया जाएगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें