scorecardresearch
 

हाथरस कांड में योगी सरकार का बड़ा एक्शन, SP, DSP और इंस्पेक्टर सस्पेंड

हाथरस कांड में योगी सरकार की ओर से बड़ी कार्रवाई की गई है. हाथरस के एसपी, डीएसपी और इंस्पेक्टर पर गाज गिरी है. तीनों को सस्पेंड कर दिया गया है. वहीं, थाने के सभी पुलिसकर्मियों का नारको पॉलीग्राफ टेस्ट कराया जाएगा. 

हाथरस कांड में योगी सरकार ने की बड़ी कार्रवाई (फाइल फोटो- PTI) हाथरस कांड में योगी सरकार ने की बड़ी कार्रवाई (फाइल फोटो- PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हाथरस कांड में योगी सरकार ने की बड़ी कार्रवाई
  • हाथरस के SP, DSP और इंस्पेक्टर को किया गया सस्पेंड
  • थाने के सभी पुलिसकर्मियों का नारको पॉलीग्राफ टेस्ट कराया जाएगा

हाथरस कांड में योगी सरकार की ओर से बड़ी कार्रवाई की गई है. हाथरस के एसपी, डीएसपी और इंस्पेक्टर पर गाज गिरी है. तीनों को सस्पेंड कर दिया गया है. सभी का नारको पॉलीग्राफ टेस्ट भी कराया जाएगा. इसमें पीड़िता का परिवार भी है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर मौजूदा एसपी, डीएसपी, इंस्पेक्टर और कुछ अन्य के खिलाफ सस्पेंशन की कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

चंदपा थाने के पुलिसकर्मियों, वादी, प्रतिवादी सभी का पॉलीग्राफी टेस्ट कराया जाएगा. निलंबित होने वाले अधिकारियों के नाम एसपी विक्रांत वीर, सीओ राम शब्द, इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, एसआई जगवीर सिंह हैं. बता दें कि इससे पहले खबर आई थी कि हाथरस के जिलाधिकारी पर भी कार्रवाई हो सकती है. लेकिन फिलहाल उनका नाम लिस्ट में नहीं है. जिस तरीके से हाथरस प्रशासन ने इस पूरे मामले को हैंडल किया है उससे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज हैं. 

इस पूरे केस में हाथरस के जिलाधिकारी प्रवीण कुमार और एसपी ने जिस तरह से कार्रवाई की, उसके बाद से ही वो निशाने पर हैं. DM प्रवीण कुमार पर तो गैंगरेप पीड़िता के परिवार ने गंभीर आरोप भी लगाए हैं. पीड़िता के परिजनों ने प्रशासन पर धमकाने और दबाव डालने का आरोप लगाया है.

गुरुवार को एक वीडियो सामने आया, जिसमें हाथरस के डीएम पीड़ित परिवार को धमकी देते दिख रहे हैं. हाथरस के डीएम कह रहे हैं कि मीडिया वाले तो चले जाएंगे, लेकिन प्रशासन को यहीं रहना है. हाथरस के पीड़ित परिवार का कहना है कि उनको धमकाया जा रहा है. केस को रफा-दफा करने के लिए दवाब डाला जा रहा है. 

प्रियंका बोलीं-कुछ मोहरों को सस्पेंड करने से क्या होगा 

इस बीच, योगी सरकार की इस कार्रवाई पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रतिक्रिया दी है. प्रियंका गांधी ने कहा कि कुछ मोहरों को सस्पेंड करने से क्या होगा? हाथरस की पीड़िता, उसके परिवार को भीषण कष्ट किसके ऑर्डर पर दिया गया? हाथरस के डीएम, एसपी के फोन रिकार्ड्स पब्लिक किए जाएं.

वहीं आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा कि ये क्या अन्याय है योगी जी? गुड़िया तो अपने साथ हुई दरिंदगी का बयान देकर दुनिया से चली गई. उसका शव जबरन जला दिया गया. सारे सबूत मिटा दिये गये. अब परिवार का नार्को टेस्ट करायेंगे. क्या उस गुड़िया के बयान पर भरोसा नहीं?

उमा भारती बोलीं- पुलिसिया कार्रवाई से बीजेपी की छवि पर आंच

इससे पहले  बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने हाथरस कांड पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि देश में रामराज्य लाने का दावा किया गया है, किन्तु इस घटना पर पुलिस की संदेहपूर्ण कार्रवाई से आपकी यूपी सरकार और भारतीय जनता पार्टी की छवि पर आंच आई है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें