scorecardresearch
 

गुरुग्रामः रोडरेज में यूपी के इंजीनियर की पीट-पीटकर हुई थी हत्या, आरोपियों तक ऐसे पहुंची पुलिस

पुलिस की माने तो यह मामला बेहद शर्मनाक था कि छोटे से सड़क हादसे के बाद एक शख्स को अपनी जान गंवानी पड़ी. नेत्रपाल के साथ एक महिला गाड़ी में मौजूद थी जिसने युवकों के सामने हाथ-पैर जोड़े और रोती रही, लेकिन युवकों ने नेत्रपाल को अधमरा हालात में छोड़कर मौके से फरार हो गए.

यूपी के नेत्रपाल की पिछले दिनों गुरुग्राम में कर दी गई थी हत्या (फाइल फोटो) यूपी के नेत्रपाल की पिछले दिनों गुरुग्राम में कर दी गई थी हत्या (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गुरुग्राम के खेड़कीदौला थाना क्षेत्र की घटना
  • वारदात में स्कूटी सवार रोहित ने किया रोडरेज
  • 10-15 युवकों ने लाठी-डंडों से हमला किया
  • पुलिस ने खंगाले 300 CCTV कैमरों के फुटेज

पुलिस ने गुरुग्राम में 11 अक्टूबर को एक शख्स की रोडरेज की घटना के बाद हत्या मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार कर ब्लाइंड मर्डर केस का खुलासा कर दिया है. हालांकि पुलिस अभी अन्य आरोपियों की तलाश में जुटी है. इस हत्याकांड में 10 से 15 लोग शामिल बताए जा रहे हैं.

दरअसल, उत्तर प्रदेश के वसुंधरा के रहने वाले 49 वर्षीय नेत्रपाल काम के सिलसिले में खेड़कीदौल इलाका क्षेत्र में आए थे और जैसे ही IVC कंपनी के पास पहुंचे वैसे ही स्कूटी सवार रोहित उर्फ मोनू उनकी गाड़ी के आगे स्कूटी लगाकर उनसे झगड़ा करने लगा.

49 वर्षीय नेत्रपाल ने युवक को बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन युवक नहीं माना और युवक ने फोन कर 10 से 15 लड़कों को बुला लिया जो कि लाठी-डंडों से लैस थे, उन्होंने आते ही नेत्रपाल को बेरहमी से पीटना शुरू कर दिया.

पुलिस की माने तो नेत्रपाल को गंभीर हालत में फोर्टिस अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां 3 से 4 दिन के इलाज के बाद उनकी मौत हो गई.

वहीं इस मामले में पुलिस की माने तो यह मामला बेहद शर्मनाक था कि छोटे से सड़क हादसे के बाद एक शख्स को अपनी जान गंवानी पड़ी. नेत्रपाल के साथ एक महिला गाड़ी में मौजूद थी जिसने युवकों के सामने हाथ-पैर जोड़े और रोती रही, लेकिन युवकों ने नेत्रपाल को अधमरा हालात में छोड़कर मौके से फरार हो गए.

देखें: आजतक LIVE TV 

एसीपी क्राइम की माने तो घटना रात की थी और आसपास सीसीटीवी कैमरे तक मौजूद नहीं थे, लेकिन क्राइम ब्रांच ने मुखबिरों का जाल बिछाकर इस वारदात का खुलासा कर वारदात में शामिल मुख्य आरोपी स्कूटी चालक को गिरफ्तार कर बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास तेज कर दिए हैं.

एसीपी क्राइम की माने तो इस ब्लाइंड मर्डर केस की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पुलिस ने आसपास के तकरीबन 250 से 300 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगाले, जिसके बाद इस वारदात में रोहित उर्फ मोनू को गिरफ्तार कर मामले का खुलासा कर दिया.

रोडरेज का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले भी दर्जनों ऐसे मामले साइबर सिटी के विभिन्न थानों में दर्ज किए गए जिसमें गाड़ी में मामूली खरोंच या टक्कर के बाद विवाद इतने बढ़े कि लोगों को अपनी जान तक गंवानी पड़ी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें