scorecardresearch
 

Rajasthan: बहुचर्चित भाजपा नेता के हत्यारे पांचों बदमाश गिरफ्तार, जुलूस निकालकर थाने से ले गई कोर्ट

पुलिस ने भरतपुर में चर्चित भाजपा नेता कृपाल सिंह हत्याकांड में शामिल पांच बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस को सूचना मिली थी कि हत्याकांड को अंजाम देने वाले पांच बदमाश महाराष्ट्र के कोल्हापुर में छिपे हैं. कोल्हापुर पुलिस की मदद से भरतपुर पुलिस ने पांचों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के मुताबिक हत्याकांड को अंजाम देने वाली गैंग का सरगना कुलदीप सिंह हिस्ट्रीशीटर रह चुका है.

X
थाने से कोर्ट तक निकाला गया जुलूस
थाने से कोर्ट तक निकाला गया जुलूस

राजस्थान के भरतपुर में चर्चित भाजपा नेता कृपाल सिंह की हत्या में शामिल पांच बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया गया है. सोमवार को थाने से बदमाशों का जुलूस निकालते पुलिस उन्हें कोर्ट में पेशी पर लेकर गई.

कोर्ट ने पांचों बदमाशों को पांच दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है. गिरफ्तार बदमाशों की पहचान कुलदीप सिंह, प्रभाव सिंह, राहुल सिंह, विजयपाल सिंह और विश्वेंद्र सिंह के रूप में हुई है.

हर बदमाश पर घोषित किया था 5 हजार का इनाम 
दरअसल, 4 सितंबर की देर रात बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग करते हुए भाजपा नेता कृपाल सिंह की हत्या कर दी थी. वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश फरार हो गए थे. हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की कई टीम गठित की गई थी. पुलिस ने हर बदमाश पर 5 हजार रुपये का इनाम घोषित किया था. 

पुलिस को मिली थी आरोपी की सूचना
पुलिस को सूचना मिली थी कि हत्याकांड को अंजाम देने वाले पांच बदमाश महाराष्ट्र के कोल्हापुर में छिपे हैं. कोल्हापुर पुलिस की मदद से भरतपुर पुलिस ने पांचों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया. 
 
पुलिस के मुताबिक, हत्याकांड को अंजाम देने वाले गैंग का सरगना कुलदीप सिंह हिस्ट्रीशीटर है. वह शहर की बेशकीमती जमीन पर कब्जा कर रहा था, जिसका विरोध भाजपा नेता कृपाल सिंह कर रहे थे. 

इसलिए गैंग का सरगना कुलदीप सिंह ने साथियों के साथ मिलकर भाजपा नेता कृपाल सिंह को मौत के घाट उतार दिया. मृतक कृपाल सिंह भरतपुर से भाजपा सांसद रंजीता कोली के करीबी कार्यकर्ता थे.

लोगों में कम होगा बदमाशों का खौफ
मामले में भरतपुर जिला के पुलिस अधीक्षक श्याम सिंह ने बताया, “कृपाल सिंह हत्याकांड के पांच बदमाशों को महाराष्ट्र के कोल्हापुर से गिरफ्तार किया गया. उनको गिरफ्तार करने के बाद सोमवार को कोर्ट में पेश किया गया.” 

उन्होंने आगे बताया, “जहां तक बदमाशों का जुलूस निकालने की बात है, तो बदमाशों को थाने से कोर्ट तक पैदल ले जाया गया. जुलूस निकालने का उद्देश्य आम जनता के बीच इन बदमाशों का खौफ कम करना है.”

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें