scorecardresearch
 

वेबसाइट के जरिए सस्ते EMI पर मोबाइल बेचने वाला ठग अरेस्ट, 2500 लोगों को लगाया चूना

पूछताछ में पकड़े गए ठग जितेंद्र सिंह ने बताया कि वो अपने साथी राजेश शुक्ला और प्रवीण के साथ मिलकर ठगी करता था. अब तक की जांच में पता चला है कि ये ठग करीब 2500 लोगों को चूना लगा चुके हैं.

पुलिस की गिरफ्त में आरोपी जितेंद्र सिंह पुलिस की गिरफ्त में आरोपी जितेंद्र सिंह
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गोविंदपुरी थाना पुलिस ने गाजियाबाद से पकड़ा
  • पकड़े गए ठग के दो साथियों की तलाश में पुलिस
  • अब तक ढाई हजार लोगों को लगा चुके हैं चूना

साउथ दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे ठग को गिरफ्तार किया है जो वेबसाइट के जरिए महंगे मोबाइल पर लुभावने ऑफर देकर ठगी करता था. पकड़ा गया ठग महंगे मोबाइल फोन को महज 2000 से 8000 रुपये के डाउन पेमेंट और आसान ईएमआई पर देने का झांसा देकर फंसाता था.

पुलिस के मुताबिक, 9 सितंबर को गोविंदपुरी थाने में एक शख्स पहुंचा और वहां उसने बताया कि वह गूगल पर एक फोन सर्च कर रहा था, उसी दौरान उसकी नजर एक वेबसाइट पर पड़ी जहां पर उसे ईएमआई पर फोन मिलता हुआ दिखा. उसने जब उस वेबसाइट की जांच पड़ताल की तो से सब ठीक लगा. फिर उसने वेबसाइट पर दिए नंबर पर बात की तो ठग ने सिर्फ 1499 रुपये वीपीएन के जरिए जमा करने को कहा.  

पीड़ित ने 1499 रुपये जमा कर दिए, लेकिन जब उसे फोन नहीं आया तो उसने दोबारा कॉल किया. फिर ठग की तरफ से जवाब आया कि 5999 रुपये और जमा करने पड़ेंगे. पीड़ित के कुछ पैसे पहले ही फंस गए थे, इसलिए उसने बात मान ली और 5999 रुपये और जमा कर दिए. फोन की डिलिवरी नहीं होने पर पीड़ित ने ठग के नंबर पर दोबारा फोन किया तो उसका मोबाइल बंद था. इसके बाद पीड़ित थाने आया और शिकायत दी, जिसके बाद एफआईआर दर्ज की गई. 

पुलिस को पता लगा कि जो पैसा वीपीएन के जरिए लिया गया था वो पहले एक बैंक में ट्रांसफर किया गया था. उसके तत्काल बाद दूसरे बैंक के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया गया. पहला बैंक अकाउंट रजत शुक्ला के नाम पर था, जबकि दूसरा बैंक अकाउंट जितेंद्र सिंह के नाम पर था.

पुलिस ने उस मोबाइल नंबर को भी वेरीफाई किया जो वेबसाइट पर मौजूद था, उसके सीडीआर की जांच की और इसके बाद पुलिस गाजियाबाद में जितेंद्र के घर तक पहुंची और उसे गिरफ्तार किया. पूछताछ में पकड़े गए ठग जितेंद्र सिंह ने बताया कि वो अपने साथी राजेश शुक्ला और प्रवीण के साथ मिलकर ठगी करता था. अब तक की जांच में पता चला है कि ये ठग करीब 2500 लोगों को चूना लगा चुके हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें