scorecardresearch
 

इंदौर: MY हॉस्पिटल से नर्स बनकर चुराया था नवजात, थाने के गेट पर रोता हुआ मिला

मध्य प्रदेश के इंदौर में एमवाय अस्पताल से 15 नवंबर को चोरी हुआ बच्चा मिल गया है. बच्चे को पांच दिन बाद कोई संयोगितागंज थाने के बाहर छोड़ गया. जब सुबह के समय थाने के पास नगर निगम के सफाई कर्मचारियों ने इस बच्चे को रोते हुए देखा, तो पुलिस को जानकारी दी. पुलिस बच्चे को अस्पताल लेकर पहुंची, जहां उसे चिकित्सों की निगरानी में रखा गया है. 

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 15 नवंबर को चोरी हुआ था बच्चा
  • थाने के गेट पर रोता हुआ मिला
  • इंदौर के एमवाय अस्पताल का मामला

मध्य प्रदेश के इंदौर में एमवाय अस्पताल से 15 नवंबर को चोरी हुआ बच्चा मिल गया है. बच्चे को पांच दिन बाद कोई संयोगितागंज थाने के बाहर छोड़ गया. जब सुबह के समय थाने के पास नगर निगम के सफाई कर्मचारियों ने इस बच्चे को रोते हुए देखा, तो पुलिस को जानकारी दी. पुलिस बच्चे को अस्पताल लेकर पहुंची, जहां उसे चिकित्सों की निगरानी में रखा गया है. 

इंदौर के एमवाय अस्पताल में 15 नवंबर की सुबह पंचम की फेल में रहने वाली रानी बियानी ने बेटे को जन्म दिया. बताया गया है कि शाम के समय अस्पताल में एक महिला नर्स बनकर आई. इस महिला ने बच्चे की धड़कन की जांच कराने के ​नाम पर उसे हॉस्पिटल से चुरा लिया और फरार हो गई.

काफी देर तक जब वह बच्चे को लेकर नहीं लौटी, तो परिजनों ने बच्चे की तलाश शुरू कर दी. पूरा हॉस्पिटल छान मारा, लेकिन न तो बच्चे का कोई पता चला और ना ही उस महिला का, जो नर्स बनकर आई थी. 

इस मामले में परिवारीजनों ने एफआईआर दर्ज कराई. वहीं शहर में हुई बच्चे के अपहरण की इस घटना से पुलिस प्रशासन के पसीने छूट गए. डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्र के निर्देश पर पुलिस टीम इस मामले की छानबीन में जुट गई. हॉस्पिटल के सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए.

बच्चे को चोरी करने वाली महिला दो पहिया वाहन से भागी थी, जिसके बाद पुलिस उन करीब 450 लोगों तक पहुंची, जिनके पास उस तरह का दो पहिया वाहन था. पुलिस की लाख कोशिशों के बाद भी मामले में कोई सुराग नहीं मिल पा रहा था, जिसके बाद पुलिस ने महिला को पकड़ने के लिए 20 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया. 

देखें: आजतक LIVE TV 

वहीं घटना के पांच दिन बाद 20 अक्टूबर को सुबह मासूम बच्चे को कोई संयोगितागंज थाने के गेट पर छोड़कर भाग गया. नगर निगम सफाई कर्मचारियों ने इस बच्चे को देखा और पुलिस को सूचना दी. दिन रात बच्चे की तलाश में जुटी पुलिस को जब जानकारी हुई कि बच्चा थाने के गेट पर मिल गया है, तो राहत की सांस ली. हालांकि, अपहरणकर्ता महिला को दबोचने के लिए पुलिस अभी भी प्रयास कर रही है. माना जा रहा है कि पुलिस के बढ़ते दबाव के कारण बच्चे को पुलिस थाने के गेट पर छोड़ दिया गया.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें