scorecardresearch
 

गेम खेलने से पिता ने मना किया तो दो बच्चों ने की सुसाइड की कोशिश

बिहार के गोपालगंज में दो बच्चों के पिता ने ऑनलाइन गेम खेलने पर फटकार लगाई. इसके बाद दोनों बच्चों ने सुसाइड करने की कोशिश की. फिलहाल दोनों खतरे से बाहर है.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार के गोपालगंज का मामला
  • दोनों को गोरखपुर किया गया रेफर

बिहार के गोपालगंज में मोबाइल गेम खेलने को लेकर विवाद में दो बच्चों ने सुसाइड करने की कोशिश की. मामला उच्चकागांव और मांझागढ़ का है. दोनों जगह पर बच्चों के पिता ने ऑनलाइन गेम खेलने पर फटकार लगाई. इसके बाद दोनों बच्चों ने सुसाइड करने की कोशिश की. फिलहाल दोनों खतरे से बाहर है.

उच्चकागांव थाना के आरना बाजार के बैलिस्टर साह अपने 12 वर्षीय पुत्र  छांगुर को ऑनलाइन गेम खेलते हुए देखा तो  जमकर फटकार लगा दी. डांट के बाद छांगुर इतना जज्बाती हो गया कि उसने गले में फांसी लगा ली. परिजनों ने जब उसे फंदे में झूलते देखा तो उसे आनन-फानन में बेहोशी हालत में गोपालगंज सदर अस्पताल में लाए.

सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में प्रारंभिक इलाज किये जाने के बाद चिकित्सक ने नाजुक स्थिति पाकर गोरखपुर रेफर कर दिया. वहीं दूसरी घटना उसी दिन मांझागढ़ थाना के रामनगर गांव के मिलोटन चौधरी के घर हुई. उन्होंने अपने 14 वर्षीय पुत्र राजन कुमार को ऑनलाइन गेम खेलते हुए देखा तो उसे फटकार लगायी.

इसका इतना प्रभाव पड़ा कि राजन कुमार ने अपने गले में कपड़े का फंदा लगा लिया. परिजनों ने उसे फंदे के माध्यम से झूलते देखा तो आनन फानन में गोपालगंज सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में लाए. जहां प्रारम्भिक इलाज करने के बाद चिकित्सक ने गोरखपुर रेफर कर दिया.

गोपालगंज सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक डॉ पीसी सिन्हा के अनुसार, गले में फंदे डालने का दोनों मामला रविवार को आया था, दोनों को रेफर कर दिया गया. सदर अस्पताल के ही मनीष कुमार ने बताया कि छांगुर और राजन कुमार के पिता ने गेम खेलने पर फटकार लगाई थी तो दोनों ने फांसी लगाकर जान देने की कोशिश की.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें