scorecardresearch
 

भोपाल से फरार गैंगस्टर मुख्तार मलिक की राजस्थान में मौत, गैंगवार में हुआ था घायल

मुख्तार मलिक को भोपाल का डॉन भी कहते थे. जमीन से जुड़े विवादों को सुलझाना ही उसका मुख्य पेशा था. मुख्तार का भोपाल और आसपास के जिलों में प्रभाव था. मलिक आईपीएस अफसर को थप्पड़ मारने के बाद चर्चा में आया था.

X
मुख्तार मलिक (फाइल फोटो) मुख्तार मलिक (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • झालावाड़ में हुई गैंगवार में घायल हुआ था मुख्तार
  • अस्पताल में इलाज के दौरान हुई मौत

भोपाल से फरार गैंगस्टर मुख्तार मलिक की राजस्थान के झालावाड़ में मौत हो गई. मुख्तार मलिक असनावर में दो दिन पहले हुई गैंगवार के बाद से लापता था. बताया जा रहा है कि वह फायरिंग में जख्मी हो गया था. पुलिस को उसके असनावर के जंगलों में होने की सूचना मिली थी. इसके बाद पुलिस ने उसे घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया था. मुख्तार मलिक ने झालावाड़ अस्पताल में दम तोड़ दिया. 

पुलिस के मुताबिक, बुधवार को झालावाड़ के असनावर में मछली ठेकेदार और ग्रामीणों के बीच संघर्ष हो गया था. इस दौरान दोनों पक्षों की ओर से फायरिंग हुई थी. इस दौरान मुख्तार मलिक के मैनेजर की मौत हो गई थी. जबकि मुख्तार लापता हो गया था. हालांकि, इसक बाद पुलिस ने जंगलों में सर्च ऑपरेशन भी चालाया था. शुक्रवार को पुलिस को मुख्तार मलिक के असनावर के जंगलों में होने की खबर मिली. इसके बाद जब पुलिस पहुंची तो वह घायल अवस्था में मिला. 
 
कौन था मुख्तार मलिक ?

मुख्तार मलिक को भोपाल का डॉन भी कहते थे. जमीन से जुड़े विवादों को सुलझाना ही उसका मुख्य पेशा था. मुख्तार का भोपाल और आसपास के जिलों में प्रभाव था. मलिक उसकी तलाश में आए आईपीएस अफसर को थप्पड़ मारने के बाद चर्चा में आया था. इस घटना के बाद वह फरार हो गया था. हालांकि, उसे जब पता चला कि उसे देखते ही गोली मारने के आदेश जारी हुए हैं, उसने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था. 

मलिक और उसके साथियों पर कोर्ट रूम में फायरिंग करने का भी केस था.  उसे एक अन्य मामले में मौत की सजा भी सुनाई गई थी. हाईकोर्ट ने मौत की सजा जारी रखी थी. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने मलिक को बरी कर दिया.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें