scorecardresearch
 

मोबाइल गेम खेलने पर पिता ने डांटा... गुस्से में 9वीं के छात्र ने दे दी जान

प्रयागराज में 9वीं के छात्र ने फांसी लगाकर सुसाइड कर लिया. रात को मोबाइल पर गेम खलेने को लेकर घरवालों ने उसको डांटा था. इस बात से खफा होकर वो कमरे में चला गया. अंदर से दरवाजा बंद कर लिया. सुबह परिजनों ने उसे कई बार आवाज लगाई. लेकिन, वह अपने कमरे से बाहर नहीं निकला. खिड़की से देखा तो पंखे से लटकता हुआ उसका शव मिला.

X
9वीं कक्षा का छात्र था मृतक सच्चिदानंद (फाइल फोटो) 9वीं कक्षा का छात्र था मृतक सच्चिदानंद (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • डिनर छोड़कर कमरे में चला गया था छात्र
  • सुबह घरवालों को पंखे से लटकी मिली लाश

उत्तर प्रदेश की संगम नगरी प्रयागराज से चौंकाने वाली खबर सामने आई है, जहां पिता की डांट से नाराज होकर 9वीं कक्षा में पढ़ रहे छात्र ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. बताया जा रहा है कि पिता ने उसे मोबाइल पर गेम खेलने पर डांटा था. देर रात जब पिता ने डांटा तो छात्र नाराज होकर कमरे में चला गया. वहां पंखे से फंदा लगाकर जान दे दी.

सुबह जब घर वालों ने दरवाजा खटखटाया तो दरवाजा नहीं खुला. फिर जब खिड़की से झांक कर देखा तो उनके होश उड़ गए. छात्र की लाश पंखे से लटकी हुई थी. तुरंत पुलिस को इसकी सूचना दी गई. मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़ा और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया.

छात्र के पिता रघुनाथ प्रसाद गुप्ता ने बताया कि वह रेलवे में काम करते हैं. परिवार के साथ वह कर्नलगंज इलाके में रहते हैं. उनके दो बेटों हैं, जिनमें से छोटा बेटा सच्चिदानंग बीएचएस स्कूल में कक्षा 9 का छात्र था. वह पढ़ाई की तरफ ध्यान ना देकर मोबाइल में वीडियो गेम खेलता रहता था. मंगलवार रात को डिनर के दौरान भी वह मोबाइल पर गेम खेल रहा था, जिस पर उन्होंने उसे डांट दिया.

डांट से नाराज होकर सच्चिदानंद बिना खाना खाए कमरे में चला गया और अंदर से कुंडी लगा ली. घर वालों ने सोचा कि सुबह तक सब सही हो जाएगा. लेकिन उन्हें नहीं पता था कि सच्चिदानंद इतनी सी बात के लिए जीवनलीला समाप्त कर लेगा. सुबह बेटे की लाश देखने के बाद से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है. पिता बार-बार यही कह रहे हैं कि काश उन्होंने बेटे को डांटा ना होता.

हाल में ही लखनऊ में मोबाइल गेम खेलने पर टोकने पर लड़के ने अपनी मां का कत्ल कर दिया था. प्रयागराज में भी मोबाइल गेम ने इस बच्चे की जान ले ली. हर मां बाप को सचेत होने की जरूरत है क्योंकि कहीं ना कहीं मोबाइल की लत बच्चों की जिंदगी पर बुरा असर डाल रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें