scorecardresearch
 

PAK के झूठ का सबूत, बलूचिस्तान में लोगों पर जुल्मो सितम की इंतहा!

पाकिस्तान के अंदर उन्हें मारा जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके घरों को जलाया जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके खज़ानों को लूटा जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके विरोध को दबाया जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके शहरों को नर्किस्तान बनाया जा रहा है.

पाकिस्तानी सेना आए दिन बलूचिस्तान में कहर बरपाती है पाकिस्तानी सेना आए दिन बलूचिस्तान में कहर बरपाती है

पाकिस्तान की सियासत कश्मीर से शुरू होती है और कश्मीर पर खत्म. वहां की सरकार और सेना दोनों को पता है कि कश्मीर का राग छेड़ते रहो बाकी सारी धुनें उसके आगे दब जाएंगी. फिर चाहे वो धुन खुद पाकिस्तान के सबसे बड़े राज्य बलूचिस्तान की ही क्यों ना हो. पाकिस्तान का हिस्सा होने के बावजूद बलूचिस्तान के लोगों को जिस तरह चुन चुनकर मौत के घाट उतारा जा रहा है. उनके घरों और गांवों को जलाया जा रहा है. वो साफ बताता है कि पाकिस्तान को कश्मीर के मुसलमानों से कितनी मुहब्बत और हमदर्दी है. आपको बता दें कि बलूच लोग पाकिस्तान से आजादी चाहते हैं.

पाकिस्तान के अंदर उन्हें मारा जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके घरों को जलाया जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके खज़ानों को लूटा जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके विरोध को दबाया जा रहा है. पाकिस्तान के अंदर उनके शहरों को नर्किस्तान बनाया जा रहा है.

ये बलूचिस्तान है. कश्मीर की तरह यहां की अवाम भी मुसलमान है. मगर जितना दर्द पाकिस्तानी सरकार और सेना के दिल में कश्मीरियों के लिए है. उतनी ही नफरत पारकिस्तन में रहने वाले इन बलूचियों के लिए है. पाकिस्तान में बलूचिस्तान वो सूबा है जो नक्शे में तो पाकिस्तान के अंदर आता है. मगर उसने खुद को कभी पाकिस्तान का हिस्सा माना ही नहीं. आधे से ज़्यादा पाकिस्तान इस एक सूबे में समाया है. बावजूद इसके यहां के लोगों पर ज़ुल्मों सितम जारी है. आए दिन यहां धमाके होते हैं. बेगुनाह लोगों को उठा लिया जाता है. उन्हें ज़िंदा जला दिया जाता है.

बलूचिस्तान में पाकिस्तानी सेना किस तरह कहर ढा रही है उसकी हज़ारों तस्वीरें हैं. मगर आप सबसे ताज़ा तस्वीर ही देख लीजिए. जिसमें पाकिस्तानी सेना के सैनिकों ने एक गांव पर हमला कर पूरे गांव को ही आग के हवाले कर दिया. वीडियो बनाने वाले शख्स लगातार पाकिस्तानी सैनिकों की ज़्यादती की दास्तान बता रहा है. क्योंकि इनकी आखों के सामने इनका सब कुछ जलकर राख हो गया. इतना ही नहीं विरोध करने पर इन्हें पीटा भी गया.

मुमकिन है कि आपके ज़हन में ये सवाल उठे कि आखिर मुसलमान होने के बावजूद पाकिस्तानी आर्मी इन पर क्यों ये ज़ुल्म-ओ-सितम कर रही है. तो उसका जवाब ये है कि इन बलूचियों को आज़ादी के वक्त जबरन पाकिस्तान का हिस्सा बना दिया गया था. ये तब भी संस्कृति और सभ्यता के हिसाब से अपने लिए नए मुल्क की मांग कर रहे थे और इनकी अब भी यही मांग है. ये पाकिस्तान के साथ नहीं रहना चाहते. क्योंकि इनसे उनकी सभ्यता मेल नहीं खाती मगर फिर भी इन्हें पाकिस्तान के साथ रहने के लिए जबरन मजबूर किया जा रहा है.

पाकिस्तानी सेना के ज़ुल्म से ये इस कदर तंग आ चुके हैं कि इन्हें अब छुटकारा चाहिए पाकिस्तान से और आज़ादी चाहिए सेना के ज़ुल्म से. पिछले दो से ज़्यादा दशकों से पाकिस्तानी आर्मी ने बलूचिस्तान को नर्किस्तान बना रखा है.. क्योंकि पाकिस्तान को डर है कि अलग देश की इनकी मांग कहीं उसके टुकड़े टुकड़े न कर दे.

वहां कि तस्वीरें उसी डर को कुचलने की है. पाकिस्तान की आर्मी बलूच लोगों पर अत्याचार कर रही है. बलूचिस्तान के अवारन और सिब्बी इलाकों में पाकिस्तानी सेना का कहर बरपा रही है. घरों में घुसघुसकर आग लगाई जा रही है. हवाई हमले किए जा रहे हैं. लोगों को ज़िंदा जलाया जा रहा है. जिसमें औरतें, बुज़ुर्ग और बच्चे भी शामिल हैं. इतना ही नहीं किसी को भी कहीं से भी लोगों को जबरन उठा लिया जा रहा है.

बलूचिस्तान के अवारन और सिब्बी इलाकों में हुए नरसंहार के बारे में आपको बताएंगे लेकिन उससे पहले समझिए आखिर ये बलूचिस्तान है क्या. नक्शे में अगर आपको समझाएं तो मौजूदा पाकिस्तान का आधे से ज़्यादा हिस्सा पहले बलूचिस्तान कहलाता था. जहां बलूच कबीले के लोग रहते हैं. ये लोग एक अर्से से अपने लिए अलग राष्ट्र की मांग कर रहे हैं लेकिन पाकिस्तान जानता है कि अगर ये मांग सर उठाने लगी तो पाकिस्तान बर्बाद हो जाएगा. लिहाज़ा इन लोगों की आवाज़ को दबाने के लिए आए दिन पाकिस्तान यहां तबाही का खेल खेलता है. ताकि लोग खौफ में जियें और उनके दिलो दिमागों में अलग बलूचिस्तान का बीज उपजने ही न पाए.

बलूचिस्तान के जिन इलाकों में पाकिस्तानी आर्मी तबाही मचाती है उनमें अवारन, सिब्बी, हरनई, मारवार, पीर इस्माइल, जलादी और बाबर कच्छ शामिल है. एक आंकड़े के मुताबिक नापाक आर्मी अब तक 20-25 हज़ार बेगुनाह बलूचिस्तानियों का बेरहमी से कत्ल कर चुकी है. हज़ारों लाखों की तादद में बलूचिस्तानियों को अगवा कर लिया गया जो अब तक घर नहीं लौटे हैं.

बलूचिस्तान की आज़ादी की बात करने वाले बलूचिस्तान लिबरेशन फ्रंट को कुचलने के नाम पर पाकिस्तान सरकार पिछले कई सालों में बेगुनाहों को मौत के घाट उतार रही है. पाकिस्तान की दरिंदगी की तस्वीरें दुनिया के सामने आई हैं. दुनिया के सामने शराफत का जो नकाब पाकिस्तान ओढ़ने की कोशिश करता रहा है वो हट गया है. और उसकी हैवानियत की पोल खुल गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें