scorecardresearch
 

एंटीलिया के बाहर मिली कार के मालिक मनसुख हिरेन की संदिग्ध मौत, ATS करेगी जांच

मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के आलीशान बहुमंजिला घर एंटीलिया के बाहर मिली संदिग्ध स्कॉर्पियो कार के मालिक मनसुख हिरेन मृत अवस्था में पाए गए हैं. उनके परिवार ने उनकी हत्या का आरोप लगाया है.

मुकेश अंबानी के घर के बाहर एक संदिग्ध कार से जिलेटिन की छड़ें बरामद हुई थी मुकेश अंबानी के घर के बाहर एक संदिग्ध कार से जिलेटिन की छड़ें बरामद हुई थी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एंटीलिया के बाहर मिली कार के मालिक थे हिरेन
  • चोरी कर ली गई थी उनकी काली स्कॉर्पियो कार
  • संदिग्ध हालात में मिली है हिरेन मनसुख की लाश

मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के आलीशान बहुमंजिला घर एंटीलिया के बाहर मिली संदिग्ध स्कॉर्पियो कार के मालिक हिरेन मनसुख मृत अवस्था में पाए गए हैं. उनकी लाश संदिग्ध अवस्था में पाई गई. उनके परिवार ने उनकी हत्या का आरोप लगाया है. उधर, महाराष्ट्र सरकार ने मनसुख की मौत के मामले की जांच एटीएस से कराने का ऐलान किया है.

सूचना मिलने पर नौपाड़ा पुलिस मौके पर पहुंची है और मामले की छानबीन कर रही है. पुलिस का कहना था कि यह मामला आत्महत्या जैसा ही लग रहा है. अब ऐसे में बड़ा सवाल ये है आखिर हिरेन ने खुदकुशी क्यों की? वो ऐसा क्यों करते?  

हिरेन मनसुख वही शख्स थे, जिनकी स्कॉर्पियो कार का इस्तेमाल उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के पास जिलेटिन ले जाने के लिए किया गया था. उसी कार से धमकी भरा पत्र और कुछ वाहनों की नंबर प्लेट भी मिली थी.

मनसुख हिरेन ठाणे के रहने वाले थे. ठाणे में ही उनका ऑटोमोबाइल पार्ट्स का बिजनेस था. शुक्रवार को ठाणे क्रीक में संदिग्ध अवस्था में मनसुख की लाश मिलने के बाद उनके परिवार ने आरोप लगाया है कि मनसुख हिरेन को मारकर पानी में डुबाया गया है. 
 
परिवार का कहना है कि मनसुख गुरुवार से गायब थे. परिवार के लोग आज ठाणे में मनसुख के गायब होने की शिकायत दर्ज कराने पहुंचे थे. अभी शिकायत दर्ज ही हो रही थी, तब तक खबर आई कि ठाणे की खाड़ी में एक शव मिला है. पानी में होने की वजह से शव फूल गया था. 
 
मनसुख की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करा रहे परिवार को वहां ले जाया गया, जहां पर बॉडी मिली थी. परिवार ने पहचान करके बताया कि ये शव मनसुख का ही है.  

मनसुख के परिवार ने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि मनसुख हिरेन को मार कर डुबाया गया है. परिवार का आरोप है कि इसके पीछे बड़ी साजिश है. परिवार का कहना है कि मनसुख की लास्ट मोबाइल लोकेशन विरार दिखा रही है. जबकि उनका शव दूसरी जगह मिला है. दोनों लोकेशन में काफी अंतर है.

बता दें कि अंबानी के घर के करीब चोरी की कार में विस्फोटक मिले थे. वो जिलेटिन की 20 छड़ें थीं. जिनका इस्तेमाल विस्फोट के लिए किया जाता है. और धमकीभरी चिट्ठी मिली थी. चिट्ठी में कहा गया था कि ये सिर्फ ट्रेलर है. नीता भाभी, मुकेश भैया.. ये तो सिर्फ एक झलक है. अगली बार ये सामान पूरा होकर तुम्हारे पास आएगा और पूरा इंतजाम हो गया है.

इसके बाद जांच अधिकारियों ने खुलासा किया था कि उस दिन रात 1 बजे के करीब स्कॉर्पियो कार वहां खड़ी की गई थी. वहां दो वाहन देखे गए थे, जिनमें स्कॉर्पियो कार के अलावा एक इनोवा भी थी. स्कॉर्पियो कार का ड्राइवर उसे वहां छोड़कर चला गया था. संदिग्ध कार की सूचना अंबानी के घर की सुरक्षा में तैनात कर्मियों ने स्थानीय पुलिस को दी थी.

इस घटना के बाद से ही मुकेश अंबानी और उनके घर की सुरक्षा में इजाफा कर दिया गया था. इस मामले की जांच मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच कर रही है. इस मामले में एक कथित संगठन ने दावा भी किया था. हालांकि अभी तक इस बात की पुष्टि नहीं हुई कि इस वारदात के पीछे किसी संगठन का हाथ है या नहीं. लेकिन पुलिस और अन्य एजेंसियों ने मामले को गंभीरता से लिया है. जांच जारी है. 

हिरेन मनसुख की लाश मिलने के बाद पुलिस सकते में आ गई है. मुंबई पुलिस के कमिश्नर परमबीर सिंह और संयुक्त पुलिस आयुक्त मिलिंद भारम्बे अभी विधान भवन पहुंचे हैं. 

मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह और ज्वाइंट कमिश्नर मिलिंद भाराम्बे वहां से निकल गए. उन दोनों ने हिरेन मनसुख की मौत के बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि हिरेन मनसुख ने आत्महत्या की है, इस बात की पुष्टि हो गई है. बाकि जानकारी हम बाद में अपडेट करेंगे.

इस मामले में ये भी पता चला है कि हिरेन के परिवार ने आज ही गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी. वहीं मनसुख हिरेन का शव ठाणे के नाले से बरामद किया गया. पुलिस इस मामले की जांच पड़ताल में जुट गई है.

उधर, आदित्य ठाकरे ने कहा कि हमें अभी पता चला है. इसकी जानकारी लेकर बताते हैं. यह बहुत बड़ी घटना है. इसकी पुलिस जांच चल रही है. कुछ जानकारी लेने दीजिए अभी हम भी हाउस में थे. आदित्य से जब यह सवाल पूछा गया कि क्या वह इस मामले की जांच एनआईए को देंगे? उनका कहना था कि गृहमंत्री का इस पर बोलना उचित होगा.

एनआईए करे जांच: फडणवीस

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र के नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने इस मामले की NIA (राष्ट्रीय जांच एजेंसी) से जांच करवाने की मांग की है. उन्होंने कहा कि इस घटना और धमकी भरे खत ने कई सारे सवाल खड़े कर दिए हैं. 'एंटीलिया' के बाहर दो कार खड़ी थीं- स्कॉर्पियो और इनोवा. दोनों कार ठाणे शहर से आई थीं. दोनों एक ही रूट के जरिए 'एंटीलिया' के बाहर पहुंचीं. सचिन वजे पहले पुलिस अधिकारी थे जो सबसे पहले घटनास्थल पर पहुंचे और बाद में उन्हें इंवेस्टीगेशन ऑफिसर नियुक्त कर दिया गया. लेकिन तीन दिन पहले उन्हें जांच से हटा दिया गया. मुझे समझ नहीं आ रहा उन्हें क्यों हटाया गया. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें