scorecardresearch
 

Lakhimpur violence: पुलिस कस्टडी में भी मूंछों पर ताव देता दिखा आशीष मिश्रा, फुल टशन का सामने आया Video

Lakhimpur violence accused Ashish Mishra: लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा का पुलिस कस्टडी में फुल टशन का वीडियो सामने आया है. उसे आज पेशी के लिए लखीमपुर कोर्ट में ले जाया गया था.

X
लखीमपुर हिंसा का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा.
लखीमपुर हिंसा का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का बेटा है आशीष
  • आशीष मिश्रा बहुचर्चित लखीमपुर हिंसा में है आरोपी

लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा के तेवर आज भी ढीले नहीं पड़े हैं. एक नए वीडियो से इस बात की पुष्टि हुई है. मंगलवार को लखीमपुर कोर्ट में पेशी पर जाते हुए आरोपी फुल टशन में दिखाई दिया. वह पुलिस कस्टडी में भी मीडिया के कैमरों को देखते ही मूंछों पर ताव देता नजर आया. देखें Video:

सुप्रीम कोर्ट ने रद्द की जमानत 

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे और लखीमपुरखीरी हिंसा में मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा उर्फ मोनू ने बीते माह निचली में सरेंडर कर दिया था. सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिलने के बाद आशीष मिश्रा के पास कोई विकल्प नहीं बचा था, क्योंकि शीर्ष अदालत से आशीष मिश्रा की जमानत रद्द हो गई थी. फिलहाल आशीष मिश्रा जेल में है. उसे आज सीजेएम कोर्ट में पुलिस कस्टडी में पेशी पर लाया गया था.  

इलाहाबाद हाईकोर्ट में दोबारा होगी सुनवाई

बता दें कि किसान आंदोलन के दौरान केस दर्ज होने पर लखीमपुर खीरी हिंसा के मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा मोनू ने 4 माह जेल में बिताए थे. फिर इसी साल 10 फरवरी को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने आरोपी को जमानत दे दी थी. इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया था. सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी को मिली जमानत रद्द कर दी थी, तो फिर उसने आत्मसमर्पण कर दिया. हालांकि, अब फिर मुख्य आरोपी ने जमानत के लिए उच्च अदालत का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन सोमवार को ही उसकी जमानत अर्जी जस्टिस कृष्ण पहल की सिंगल बेंच ने 25 मई तक टाल दी.  

ये है पूरा मामला 

गौरतलब है कि पिछले साल 3 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले के तिकुनिया में नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान सड़क पर उतर प्रदर्शन कर रहे थे. डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य को तब बनबीरपुर गांव जाने वाले थे. नए कृषि कानूनों को लेकर डिप्टी सीएम के विरोध में किसान सड़क पर उतर आए थे.

इस दौरान किसानों को गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी की तेज रफ्तार महिंद्रा थार ने रौंद दिया जिससे चार किसानों और एक पत्रकार की मौत हो गई थी. घटना के बाद आक्रोशित प्रदर्शनकारियों ने थार के चालक समेत 3 लोगों को पीट-पीटकर मार डाला था. इस हिंसा में कुल 8 लोग मारे गए थे. चश्मदीदों ने दावा किया था कि मंत्री अजय मिश्र का बेटा आशीष भी एक वाहन में सवार था.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें