scorecardresearch
 

भतीजे ने आसाराम पर लगाए संगीन आरोप

एक तरफ करोड़ों में खेलनेवाले आसाराम और उनके बेटे नारायण साईं और दूसरी तरफ़ फुटपाथ पर जिंदगी गुजारता एक इंसान. एक तरफ दुनिया को सदाचार और प्रेम की सीख देनेवाले आसाराम और दूसरी तरफ़ जिंदा रहने की जद्दोजहद में लोगों से भीख मांगता एक इंसान. लेकिन हर रोज जमीन बिछा कर आसमान को ओढ़नेवाले इसी शख्स के सीने में आसाराम और नारायण साईं के वो राज दफन हैं, जो शायद इस दुनिया में इन तीनों के अलावा और कोई नहीं जानता.

X
भतीजे की खोली आसाराम की पोल भतीजे की खोली आसाराम की पोल
11:34

एक तरफ करोड़ों में खेलनेवाले आसाराम और उनके बेटे नारायण साईं और दूसरी तरफ़ फुटपाथ पर जिंदगी गुजारता एक इंसान. एक तरफ दुनिया को सदाचार और प्रेम की सीख देनेवाले आसाराम और दूसरी तरफ़ जिंदा रहने की जद्दोजहद में लोगों से भीख मांगता एक इंसान. लेकिन हर रोज जमीन बिछा कर आसमान को ओढ़नेवाले इसी शख्स के सीने में आसाराम और नारायण साईं के वो राज दफन हैं, जो शायद इस दुनिया में इन तीनों के अलावा और कोई नहीं जानता.

अब आप पूछेंगे कि भला फुटपाथ पर भीख मांगनेवाले इस गरीब के साथ आसाराम का ऐसा कौन सा रिश्ता हो सकता है, जो ये आसाराम और नारायण साईं को इतने करीब से जानता है. दरअसल, मुफलिसी में जीने वाला यह शख्स और कोई नहीं, बल्कि खुद आसाराम का सगा भतीजा विनोद सिरुमलानी है. भतीजा, यानी आसाराम के सगे बड़े भाई जेठाराम सिरुमलानी का बेटा. विनोद सिरुमलानी. लेकिन अब सवाल यह है कि आखिर एक इतने बड़े और अमीर शख्स के भतीजे की हालत ऐसी कैसे हो सकती है कि उसे जीने के लिए लोगों से भीख मांगनी पड़े? तो, इस सवाल के जवाब में भी आसाराम की वो हक़ीकत छिपी है, जिसे जानने के बाद कोई भी शर्मसार हो जाएगा.

इस शख्स की बातों पर यकीन करें तो उसका परिवार कभी लाखों में खेला करता था और उनकी जिंदगी भी अच्छी खासी थी, लेकिन ये आसाराम ही हैं, जिन्होंने इसके पूरे परिवार को सड़क पर ला दिया. आसाराम ने धोखे से अपने ही बड़े भाई जायदाद हड़प ली और इससे पहले कि वो संभल पाते, उनका पूरा परिवार सड़क पर आ गया. यही वजह रही कि आसाराम के बड़े भाई ने अपनी मौत से पहले खुद अपने इस बेटे से आसाराम को कभी माफ नहीं करने की बात कही थी लेकिन तकदीर और तिकड़मों के सहारे आसाराम ने ना सिर्फ़ सबको खामोश कर दिया, बल्कि उनका अपना सगा भतीजा ही सड़कों पर आ गया.

फुटपाथ पर जी रहे आसाराम के भतीजे विनोद सिरुमलानी का कभी भरापूरा परिवार हुआ करता था. उसने अपनी पसंद की एक लड़की से लव मैरिज भी की थी और प्यार की निशानी के तौर पर अपनी बांह पर अपना और अपनी पत्नी का नाम भी गुदवा लिया था लेकिन खुद अपने ही चाचा आसाराम की सूरत में विनोद की तक़दीर उससे कुछ ऐसी रूठी कि वो जीते-जी कहीं का नहीं रहा. उसके पिता की मौत हो गई, घर-बार छिन गया और बीवी आसाराम के पास चली गई.

जी हां, उसी आसाराम के पास, जो कहने को तो विनोद का चाचा था, लेकिन विनोद की मानें तो उसी चाचा ने उसकी पत्नी कोमल को ऐसी पट्टी पढ़ाई कि वो फिर लौट कर कभी नहीं आई. विनोद की मानें तो आसाराम के सम्मोहन की कोई ऐसी विद्या है, जिसके चलते जब लड़कियां उनकी तरफ देखती हैं, तो फिर वो उन्हीं की दीवानी हो कर रह जाती है और उसकी पत्नी भी आसाराम की इसी गुप्त विद्या की शिकार बन गई.

विनोद कहता है कि आज उसकी पत्नी कहां है, वो नहीं जानता लेकिन वो आज भी उससे बेइंतेहा प्यार करता है. वैसे विनोद की इन आंखों ने सिर्फ अपने और अपने परिवार की बर्बादी ही नहीं देखी. आसाराम के साथ-साथ नारायण साईं की वो करतूतें भी देखीं, जिसे सुन कर किसी के लिए अपने कानों पर भी यकीन करना मुश्किल हो जाए. विनोद कहता है कि नारायण साईं को लोगों के कपड़े उतारने का बड़ा शौक है और तो और नारायण के बचपन के एक बार खुद उसके भी कपड़े उतारने की कोशिश की थी.

विनोद की जिंदगी अब बेशक इन टुकड़ों में सिमटी हो, लेकिन इसकी आंखों ने आसाराम और नारायण साईं का जो सच देखा है, वो चौंकानेवाला है. विनोद ने सिर्फ अपनी पत्नी को आसाराम के पास जाते हुए नहीं देखा, बल्कि कभी आसाराम के आश्रम में रहने के दौरान उसने कई और लड़कियों को भी आसाराम का शिकार बनते हुए देखा था.

ज़ाहिर है, विनोद की ये आंखों देखी आसाराम के खिलाफ़ बोलनेवाली दूसरी तमाम लड़कियों और पुराने साधकों की शिकायतों से मेल खाती हैं और चूंकि विनोद खुद आसाराम का सगा भतीजा है, उसकी बातों का वजन कहीं और भी ज़्यादा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें