scorecardresearch
 

'नीतीश Must Quit', बिहार में क्वारनटीन मजदूरों की बेबसी देख भड़के प्रशांत किशोर

प्रशांत किशोर ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के सरकारी प्रयासों की एक और भयावह तस्वीर. भारी तकलीफ और मुसीबतों को झेलकर देश के कई हिस्सों से बिहार पहुंचने वाले गरीब लोगों के लिए नीतीश कुमार की सोशल डिस्टेंसिंग और क्वारनटीन की ये व्यवस्था दिल दहलाने वाली है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फोटो- पीटीआई) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फोटो- पीटीआई)

  • प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार का इस्तीफा मांगा
  • क्वारनटीन के इंतजामों में अव्यवस्था का आरोप

चुनावी रणनीतिकार और पूर्व जेडीयू उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने बिहार के मजदूरों के साथ हो रहे दुर्व्यवहार को लेकर बिहार के सीएम नीतीश कुमार का इस्तीफा मांगा है. प्रशांत किशोर नीतीश कुमार के कभी विश्वस्त सहयोगी रहे हैं.

घर लौटकर भी बेबस मजदूर

प्रशांत किशोर ने कहा कि देश के अलग-अलग इलाकों से तकलीफ और जिल्लत सहकर बिहार पहुंचने वाले मजदूरों के साथ बेहद बुरा बर्ताव किया जा रहा है. प्रशांत किशोर ने एक वीडियो शेयर किया है. इस वीडियो में बड़ी संख्या में मजदूर एक स्थान पर बंद दिख रहे हैं. ये मजदूर रो रहे हैं. मजदूरों का कहना है कि यूपी सरकार ने उन्हें यहां भेज दिया है. लेकिन बिहार सरकार उन्हें अपने घर नहीं जाने की दे रही है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

दूसरे राज्यों से बिहार आ रहे मजदूर

बता दें कि देश के अलग अलग हिस्सों से बड़ी संख्या में बिहार के कामगार अपने गांव लौट रहे हैं. लेकिन प्रदेश सरकार कोरोना का संक्रमण रोकने के उद्देश्य से इन्हें अपने गांव नहीं जाने दे रही है. दूसरे प्रदेशों से बिहार पहुंचे मजदूरों को 14 दिनों के लिए क्वारनटीन किया जा रहा है, ताकि गांवों तक संक्रमण नहीं पहुंचे. इसके लिए बिहार सरकार ने सीमावर्ती जिलों में आपदा शिविर बनाए हैं.

नीतीश मस्ट QUIT

प्रशांत किशोर ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए कहा, " कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के सरकारी प्रयासों की एक और भयावह तस्वीर. भारी तकलीफ और मुसीबतों को झेलकर देश के कई हिस्सों से बिहार पहुंचने वाले गरीब लोगों के लिए नीतीश कुमार की सोशल डिस्टेंसिंग और क्वारनटीन की ये व्यवस्था दिल दहलाने वाली है. नीतीश मस्ट क्विट."

गुस्से में हैं वापस आए मजदूर

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक दूसरे राज्यों से बिहार आने वाले मजदूरों की संख्या इतनी ज्यादा है कि प्रशासन इन्हें संभाल नहीं पा रहा है. मजदूरों के गुस्से को देखते हुए राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन उन्हें रोक नहीं पा रही है और मजदूर सीधे अपने घर जा रहे हैं.

प्रशांत किशोर बिहार में कोरोना से निपटने के इंतजामों पर लगातार सवाल उठा रहे हैं. उन्होंने 21 दिनों के लॉकडाउन पर भी सवाल उठाया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें