scorecardresearch
 

बिहार: गया में पितृपक्ष मेले पर प्रशासन ने लगाई रोक, बाहर से आने वालों का कोरोना टेस्ट अनिवार्य

कोरोना के चलते ये फैसला लिया गया है. पिछले साल भी मेले का आयोजन नहीं किया गया था. दूसरे राज्य के लोगों से भी कोरोना संकट के चलते यहां आने से परहेज करने की अपील की गई है.

गया में पितृ पक्ष मेले का आयोजन रद्द कर दिया गया है. (फाइल फोटो) गया में पितृ पक्ष मेले का आयोजन रद्द कर दिया गया है. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बड़े समूह में भी लोगों के आने पर रोक
  • बाहर से आने वालों का कोरोना टेस्ट अनिवार्य
  • कोरोना के मद्देनजर प्रशासन ने लिया फैसला

कोरोना महामारी (Corona Virus Pandemic) के मद्देनजर इस साल भी बिहार (Bihar) के गया में पितृपक्ष मेले (Pitri Paksha Mela) का आयोजन नहीं किया जाएगा. दूसरे राज्य के लोगों से भी कोरोना संकट के चलते यहां आने से परहेज करने की अपील की गई है.

इसके अलावा लोगों के बड़े समूह में आने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है. गया जिला प्रशासन के मुताबिक बाहर से आ रहे लोगों के लिए कोरोना टेस्ट (Corona Virus Test) अनिवार्य किया गया है.

बता दें कि मोक्षनगरी गया में हर साल विश्व प्रसिद्ध पितृपक्ष मेले में देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु पहुंचकर अपने पितरों के आशीर्वाद के लिए पिंडदान और तर्पण करते हैं. लेकिन इस बार कोरोना वायरस की वजह से विश्व प्रसिद्ध पितृपक्ष मेला रद्द कर दिया गया है.

कोरोना के चलते ना ही पिंडदानियों के लिए व्यवस्था की जा रही है, ना ही आगंतुकों के लिए कोई अन्य विशेष व्यवस्था की जा सकेगी. यह दूसरी बार है जब कोरोना के चलते मेले का आयोजन रद्द किया गया है. इससे पहले बीते साल भी गया में पितृ पक्ष मेले के आयोजन पर रोक लगाई गई थी.

इसपर भी क्लिक करें- Coronavirus: स्कूल खुलने के बाद पंजाब-बिहार जैसे राज्यों में 17 साल से कम उम्र के बच्चों के सैंपल मिले पॉजिटिव

गौरतलब है कि धार्मिक ग्रंथों में ऐसा कहा गया है कि गयाजी में साक्षात् भगवान विष्णु का दर्शन करके मानव सभी ऋणों से मुक्त हो जाता है. भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म ग्रंथों में पितृऋण से मुक्ति पाने के लिए अपने माता-पिता और परिवार के मृत प्राणियों के निमित्त गया श्राद्ध करने की अनिवार्यता बताई गई है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें