scorecardresearch
 

दिल्ली: केजरीवाल सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे मनोज तिवारी, थाने ले गई पुलिस

दिल्ली में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के साथ राजनीति भी तेज हो रही है. बीजेपी नेताओं ने सोमवार को दिल्ली सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया.

मनोज तिवारी को ले गई पुलिस मनोज तिवारी को ले गई पुलिस

  • केजरीवाल सरकार के खिलाफ बीजेपी का प्रदर्शन
  • राजघाट पर प्रदर्शन कर रहे मनोज तिवारी को पुलिस ने हटाया

देश की राजधानी दिल्ली में एक तरफ कोरोना वायरस के बढ़ते केस के कारण चिंता बढ़ रही है. तो दूसरी ओर दिल्ली में राजनीति का पारा भी लगातार बढ़ता जा रहा है. भारतीय जनता पार्टी ने सोमवार को दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के खिलाफ नौ जगह प्रदर्शन करने का आह्वान किया था. प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी जब राजघाट पर प्रदर्शन करने पहुंचे, तो दिल्ली पुलिस ने उन्हें वहां से हटाया और थाने ले गई.

दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष के अलावा कई नेताओं को दिल्ली पुलिस बस में बैठाकर राजेंद्र नगर पुलिस स्टेशन ले गई. बीजेपी नेता कुलदीप चहल ने ट्विटर पर लिखा कि आज हम केजरीवाल जी को कोविड के कारण मरीज़ों की लापरवाही से कुंभकर्णी निद्रा से जगाने के लिए राजघाट पर मनोज तिवारी के नेतृत्व में आए. लेकिन दिल्ली पुलिस हमें गिरफ्तार कर राजेंद्र नगर ले गई. मनोज तिवारी ने इस ट्वीट को रिट्वीट किया है.

सीमा पर अब सीएम केजरीवाल हुए सख्त, सात दिन के लिए दिल्ली के सारे बॉर्डर सील

आपको बता दें कि दिल्ली बीजेपी की ओर से लगातार आरोप लगाया जा रहा है कि केजरीवाल सरकार कोरोना संकट को संभालने में असफल रही है. पहले प्रवासी मजदूरों का मामला है, अस्पताल का मामला हो या फिर अब कोरोना वायरस के कारण मौत का आंकड़ा. बीजेपी का आरोप है कि दिल्ली सरकार मौत के आंकड़े को छुपा रही है.

इसके अलावा हाल ही में जब दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार से आर्थिक मदद मांगी तो बीजेपी की ओर से हमला किया गया. मनोज तिवारी ने आरोप लगाया कि केजरीवाल सरकार लगातार विज्ञापनों में अपना खर्च कर रही है, ऐसे में फिर पैसा कैसे बचेगा.

दिल्ली के अस्पतालों में सिर्फ दिल्लीवालों का हो इलाज? केजरीवाल ने पब्लिक से मांगे सुझाव

मनोज तिवारी ने लिखा कि दिल्ली की जनता जब प्राइवेट हॉस्पिटल में 5 लाख दे कर इलाज कराएगी, होम आइसोलेशन में रहेगी, होटल में भी 3100/day दे कर quarantine होगी तो सरकार का एक रुपया भी खर्च नहीं होना है. फिर 5000 करोड़ किस लिए?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें