scorecardresearch
 

दिल्ली एम्स में COVAXIN का ह्यूमन ट्रायल, पहले 50 लोगों को दी जाएगी वैक्सीन

पूरी दुनिया को कोरोना की वैक्सीन का इतंजार है. इस दिशा में भारत में एक बड़ी पहल हुई है. कोरोना की वैक्सीन COVAXIN का ह्यूमन ट्रायल शुरू हो गया है. दिल्ली के एम्स अस्पताल में 100 वॉलियंटर्स पर कोवैक्सीन का ट्रायल होना है, इनमें से पहले 50 लोगों को वैक्सीन दी जाएगी.

COVAXIN का ह्यूमन ट्रायल COVAXIN का ह्यूमन ट्रायल

  • एम्स में COVAXIN का ह्यूमन ट्रायल
  • 100 लोगों पर पहले फेज में ट्रायल
  • गुरुवार को दी जाएगी पहली वैक्सीन

पूरी दुनिया को कोरोना की वैक्सीन का इतंजार है. इस दिशा में भारत में एक बड़ी पहल हुई है. यहां कोरोना की स्वदेशी वैक्सीन COVAXIN का ह्यूमन ट्रायल शुरू हो गया है. पहले फेज में 375 वॉलंटियर्स को कोवैक्सीन दी जाएगी. दिल्ली के एम्स अस्पताल में 100 वॉलंटियर्स पर कोवैक्सीन का ट्रायल होना है, इनमें से पहले 50 लोगों को वैक्सीन दी जाएगी. एम्स में पहली कोवैक्सीन गुरुवार को दिए जाने की संभावना है.

स्वेदशी कोरोना वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू होना, भारत में कोरोना के खिलाफ जंग का एक बड़ा कदम माना जा रहा है.COVAXIN पर ट्रायल में बड़ी संख्या में वॉलंटियर्स ने शामिल होने की इच्छा जताई थी. इनमें से 375 वॉलंटियर्स को चुना गया है. इन सभी COVAXIN का ट्रायल किया जाना है. दिल्ली के एम्स में 100 लोगों पर ट्रायल होना है जबकि बाकी 275 लोगों पर देश के बाकी सेंटर्स पर ट्रायल किया जाएगा.

एम्स में ट्रायल के लिए 100 वॉलंटियर्स को चुना गया है. पहले 50 लोगों को ही वैक्सीन दी जाएगी. अगर बेहतर रिजल्ट आते हैं तो फिर रिपोर्ट डेटा मॉनिटरिंग कमेटी को भेजी जाएगी. अगर सब कुछ सही रहता है तो फिर बाकी लोगों को भी वैक्सीन दी जाएगी. बताया जा रहा है इसी हफ्ते गुरुवार या शुक्रवार को पहली हन्यूमन ट्रायल के तहत पहली वैक्सीन दी जाएगी.

एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने बताया है कि ट्रायल में हिस्सा लेने के लिए बड़ी संख्या में रजिस्ट्रेशन करा गए हैं. रणदीप गुलेरिया के मुताबिक, फेज-1 में 18 से 55 साल के बीच उम्र वाले 100 स्वस्थ वॉलंटियर्स पर ट्रायल किया जाएगा जबकि फेज-2 में 12 से 65 उम्र के लोगों पर ट्रायल किया जाएगा.

AIIMS में COVAXIN का ट्रायल, डॉ गुलेरिया बोले, 2-3 महीने में मिलेंगे रिजल्ट

हैदराबाद की भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और नैशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वॉयरलॉजी (NIV) के साथ मिलकर COVAXIN बनाई है. इस वैक्‍सीन का कोडनेम BBV152 है. केंद्र सरकार भी इस वैक्सीन से काफी खुश है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने हाल ही में ट्वीट करते हुए लिखा था, ''स्वदेशी कोरोना #Vaccine का #humantrials शुरू! #COVID19 के खिलाफ ज़ंग अब निर्णायक दौर में है. पिछले कई महीनों से कोरोना वैक्सीन के विकास के लिए जारी प्रयास के सकारात्मक संकेत मिलने लगे हैं. हम जल्द ही इस महामारी पर पूरी तरह जीत प्राप्त कर लेंगे.''

इस दिशा में अब काम शुरू हो गया है. देश के 12 सेंटरों में COVAXIN पर ह्यूमन ट्रायल होना है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें