scorecardresearch
 

कल वैक्सीनेशन के साथ Co-Win ऐप होगा लॉन्च, मार्च तक आम लोग कर पाएंगे रजिस्ट्रेशन

केंद्र सरकार ने CoWIN (Covid Vaccine Intelligence Work) शुरू किया है. वैक्सीनेशन के पहले चरण में इस नेटवर्क से जुड़े 80 लाख लोगों को वैक्सीन की खुराक दी जाएगी. इस ऐप के जरिए भारत के स्वास्थ्य डेटा को एक जगह पर एकत्रित करने में मदद मिलेगी.

यहां जानिए CoWin ऐप से जुड़ी सभी जानकारियां.(Photo: Reuters) यहां जानिए CoWin ऐप से जुड़ी सभी जानकारियां.(Photo: Reuters)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वैक्सीन लगने के बाद मिलेगा सर्टिफिकेट
  • मार्च में मिलेगी आम लोगों को रजिस्ट्रेशन की सुविधा
  • तैयार किए गए हैं चार मॉड्यूल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वैक्सीनेशन अभियान का शुभारंभ 16 जनवरी, 2021 को करेंगे. देशभर में फ्रंटलाइन वॉरियर्स को वैक्सीन की पहली खुराक दी जाने की तैयारी है. भारत का यह टीकाकरण अभियान दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन अभियान है. सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि वर्चुअल तौर पर वैक्सीनेशन अभियान के लॉन्च के साथ ही पीएम मोदी Co-WIN ऐप को भी आधिकारिक तौर पर लॉन्च करेंगे. 

केंद्र सरकार ने CoWIN (Covid Vaccine Intelligence Work) शुरू किया है. वैक्सीनेशन के पहले चरण में इस नेटवर्क से जुड़े 80 लाख लोगों को वैक्सीन की खुराक दी जाएगी. इस ऐप के जरिए भारत के स्वास्थ्य डेटा को एक जगह पर एकत्रित करने में मदद मिलेगी. 23 दिसंबर 2020 को सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने CoWin सिस्टम को और मजबूत बनाने का ऐलान भी किया था, जिसमें कहा गया था कि इस संदर्भ में मदद करने वाले पहले और दूसरे प्रतिभागी को 40 लाख और 20 लाख का कैश इनाम दिया जाएगा.

देखें-आजतक LIVE TV

क्या अभी कर सकते हैं रजिस्ट्रेशन?

अगर आपके मन में यह सवाल है कि क्या CoWin पर अभी रजिस्टर किया जा सकता है तो इसका जवाब है ऐप अभी फंक्शन में नहीं आया है. अगर गूगल से आपने इससे मिलता जुलता कोई ऐप डाउनलोड किया है तो यह ऐप फिलहाल काम नहीं करने वाला है. अगर ऐसा कोई ऐप आपके फोन में निजी जानकारियां मांग रहा है तो सतर्क हो जाएं. मौजूदा  CoWin ऐप बैक एंड सॉफ्टवेयर के तौर पर काम कर रहा है जिसे हेल्थवर्क्स के पहले चरण के वैक्सीनेशन के लिए इस्तेमाल किया जाना है. मार्च के महीने से आम लोगों को रजिस्ट्रेशन की सुविधा मिलेगी.

स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि इस ऐप के तहत 80 लाख लाभार्थियों का पहले से ही रजिस्ट्रेशन किया जा चुका है. फिलहाल इस ऐप के जरिए कोई भी रजिस्ट्रेशन नहीं कर सकता है केवल अधिकारियों को ही इस ऐप का एक्सेस दिया गया है. आम लोगों के इसके तहत रजिस्टर होने के लिए चार मॉड्यूल बनाए गए हैं.

क्या हैं चार मॉड्यूल

पहला बैक एंड मॉड्यूल है जिसके आधार पर ऐप फिलहाल काम कर रहा है. दूसरा एडमिनिस्ट्रेटर मॉड्यूल है इसके तहत बताया जाएगा कि एक समय पर कितने लोगों को वैक्सीन दी जा सकती है. इसमें एडमिन वैक्सीन का सेशन भी निर्धारित कर सकता है. रजिस्ट्रेशन मॉड्यूल के तहत कोई भी खुद के वैक्सीनेशन के लिए रजिस्टर कर सकता है.यह मॉड्यूल वैक्सीन  का डाटा रिकॉर्ड मेंटेन करने के लिए है. यहां वैक्सीनेशन का डेटा वेरिफाई किया जाएगा और यह भी बताया जाएगा कि अगली खुराक कब दी जाएगी. ब्लॉक स्तर पर भी ऐसे मॉड्यूल के तहत रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है.

वैक्सीन लगने के बाद लाभार्थी को सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा. क्यूआर कोड के जरिए यह प्रमाण पत्र दिया जाएगा. सेशन प्लान्ड और सेशन हेल्ड की भी निगरानी की जाएगी. यानी वैक्सीनेशन के लिए कितना समय रखा गया था और वैक्सीनेशन के दौरान कितना समय लगा इसपर भी सरकार आंकड़ा जुटाएगी.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें