scorecardresearch
 

मुंबई पुलिस ने 7 हजार गाड़ियों का किया चालान, BJP नेता बोले- ये कैसा तुगलकी फरमान?

बीजेपी नेता राम कदम ने कहा कि लगभग 7075 वाहनों को पूरे मुम्बई में जब्त किया गया. कारण यह बताया गया की अपने घर से 2 किलोमीटर के दायरे के बाहर आप नहीं जा सकते है. महाराष्ट्र सरकार का यह कैसा तुगलकी फरमान है.

पैदल मार्च निकालते मुंबई पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान (फोटो-PTI) पैदल मार्च निकालते मुंबई पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान (फोटो-PTI)

  • घर से 2 किलोमीटर बाहर नहीं निकलने की इजाजत
  • बाहर निकलने वाले लोगों पर पुलिस ने की कार्रवाई

महाराष्ट्र में कोरोना के रोकथाम को लेकर सरकार के एक आदेश पर बवाल जारी है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता राम कदम ने गृह मंत्री अनिल देशमुख को खत लिखकर कई सवाल पूछे हैं. उनका कहना है कि घर से 2 किलोमीटर के दायरे के कोई बाहर नहीं जा सकता है. महाराष्ट्र सरकार का यह कैसा तुगलकी फरमान है ?

बीजेपी नेता राम कदम ने कहा, 'कल मुंबई में हजारों प्राइवेट गाड़ियों को रोक कर पुलिस ने कार्यवाई की. लगभग 7075 वाहनों को पूरे मुम्बई में जप्त किया गया. कारण यह बताया गया की अपने घर से 2 किलोमीटर के दायरे के बाहर आप नहीं जा सकते है. महाराष्ट्र सरकार का यह कैसा तुगलकी फरमान है?'

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

गृह मंत्री अनिल देशमुख से राम कदम ने पूछा, 'पब्लिक ट्रांसपोर्ट से किसी का निजी वाहन क्या ज्यादा सुरक्षित नहीं है? मेडिकल, हॉस्पिटल, प्राइवेट दफ्तर, दुकान, मार्केट, होलसेल मार्केट, लोकल पुलिस स्टेशन, बीएमसी कार्यालय क्या यह सब किसी के घर के 2 किलोमीटर के दायरे में उपलब्ध है?'

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

बीजेपी नेता राम कदम ने कहा, 'निजी वाहन से कार्यालय जाना है जिसकी दूरी 10 किलोमीटर है तो क्या नही जाने दिया जाएगा ? महाराष्ट्र सरकार का यह कैसा मिशन बिगिन है ? महाराष्ट्र सरकार के कंफ्यूज पालिसी का शिकार मुंबई के लोग बनते जा रहे हैं.' इसके साथ ही बीजेपी नेता ने उद्धव सरकार पर निशाना साधा.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

बीजेपी नेता राम कदम ने कहा कि तीन महीने में महाराष्ट्र सरकार ने जनता को एक पैसे की भी मदज नहीं की. कम से कम उन्हें तकलीफ में डालने वाले फैसले ना करे. सुप्रीम कोर्ट ने भी स्वत: संज्ञान लिया है. सरकार से मांग है की नागरिकों को परेशान और पीड़ित करने वाला यह आदेश तुरंत वापस लें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें