scorecardresearch
 

असम में कोरोना से जंग की तैयारी, अब तक कोई नहीं, तैयार किया क्वारनटीन सेंटर

असम सरकार ने गुवाहाटी के सारुसाजय इनडोर स्टेडियम को क्वारनटीन केंद्र में तब्दील कर दिया है. स्टेडियम में बने इस क्वारनटीन केंद्र में 1000 बेड का इंतजाम किया गया है.

गुवाहाटी का सारुसाजय इनडोर स्टेडियम क्वारनटीन केंद्र में तब्दील (फोटो-हेमंत कुमार नाथ) गुवाहाटी का सारुसाजय इनडोर स्टेडियम क्वारनटीन केंद्र में तब्दील (फोटो-हेमंत कुमार नाथ)

  • असम में अभी तक कोरोना का कोई केस नहीं आया सामने
  • सारुसाजय स्टेडियम को क्वारनटीन केंद्र में किया है तब्दील

असम में अभी तक कोरोना वायरस का कोई केस सामने नहीं आया है, लेकिन राज्य सरकार ने सजगता दिखाते हुए पहले ही एक स्टेडियम को क्वारनटीन सेंटर में तब्दील कर दिया है.

असम सरकार ने गुवाहाटी के सारुसाजय इनडोर स्टेडियम को क्वारनटीन केंद्र में तब्दील कर दिया है. स्टेडियम में बने इस क्वारनटीन केंद्र में 1000 बेड का इंतजाम किया गया है. क्वारनटीन केंद्र का निर्माण कार्य लगभग पूरा हो चुका है.

quarantine-centre2_033020043533.jpgसारुसाजय इनडोर स्टेडियम क्वारनटीन केंद्र में तब्दील

राज्य में अभी तक COVID-19 के किसी भी पॉजिटिव केस की पहचान नहीं की गई है, लेकिन असम स्वास्थ्य विभाग ने किसी भी स्थिति से निपटने के लिए सामूहिक क्वारनटीन केंद्र पहले ही तैयार कर लिया है.

सामूहिक क्वारनटीन केंद्र के निर्माण कार्य में जुटे एक स्वास्थ्यकर्मी उदीप्ता चौधरी ने बताया कि सारुसाजय इनडोर स्टेडियम के कर्मबीर नबीन चंद्र बोरदोलोई इंडोर हॉल के अंदर 270 बेड रखे गए हैं जबकि बाकी बेड हॉल के बाहर लगाए जाएंगे. उदीप्ता चौधरी ने बताया, क्वारनटीन सेंटर में सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं. इसका निर्माण कार्य तकरीबन पूरा हो चुका है.

इससे पहले, असम के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने कहा था कि गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (GMCH), असम मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल (AMCH), डिब्रूगढ़ एवं सिलचर मेडिकल कॉलेज अस्पताल (SMCH) कोरोना वायरस संक्रमितों के इलाज के लिए तैयार हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

बहरहाल, पूरी दुनिया न दिखाई देने वाले एक दुश्मन से जंग लड़ रही है. पॉलिसीमेकर्स और रिसर्चर्स दिन रात कोरोना वायरस के फैलाव और असर का अनुमान लगाने के लिए समाधानों की तलाश कर रहे है. अभी तक नोवेल कोरोना वायरस उनके प्रयासों से कहीं तेज़ साबित हुआ है जिसकी वजह से उस पर नियंत्रण रख पाना मुश्किल हो रहा है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से जुड़े भारतीय मूल के दो स्कॉलर्स ने एक नया मैथमेटिकल मॉडल तैयार किया है. इस मॉडल का अनुमान है कि भारत में 21 दिन के मौजूदा लॉकडाउन से वायरस पर नियंत्रण पाना मुमकिन नहीं लगता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें