scorecardresearch
 

गुजरात में भी वायरस ने पसारे पैर, कोरोना पॉजिटिव की संख्या हुई 30

मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि यह अजीब लग रहा है कि कल तक 18 मामले थे और आज 30 पॉजिटिव मामले सामने आ रहे हैं. अकेले न्यूयॉर्क में एक ही दिन में 5,000 मामले सामने आ चुके हैं, ऐसे में सोशल डिस्टेंस एकमात्र विकल्प है.

गुजरात में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना संक्रमितों के आंकड़ें गुजरात में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना संक्रमितों के आंकड़ें

  • एक ही दिन में कोरोना के 12 केस
  • कुल पीड़ितों की संख्या हुई 30

कोरोना वायरस धीर-धीरे पूरे गुजरात को अपने शिकंजे में ले रहा है. गुजरात में एक ही दिन में कोरोना वायरस के 12 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. जिसके बाद गुजरात में कोरोना पीड़ितों की संख्या 30 तक पहुंच गई है. अहमदाबाद में सबसे ज्यादा 13 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. जबकि वड़ोदरा में 6, सूरत में 4, गांधीनगर में 4 और कच्छ-राजकोट में 1-1 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ चुका है.

बढ़ते कोरोना पॉजिटीव केसों को लेकर उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा, 'कल कोरोना के 18 पॉजिटिव मामले सामने आए थे लेकिन वर्तमान में 30 मामले पॉजिटिव आए हैं. इसलिए सरकार जो निर्देश जारी करती है उसका पालन किया जाना चाहिए. बहुत आवश्यक ना हो तो घर से बाहर ना निकलें.'

उन्होंने कहा कि रविवार को लोगों ने 'जनता कर्फ्यू' को सफलतापूर्वक पूरा किया लेकिन अभी भी कोरोना वायरस से लड़ने के लिए बहुत लंबी लड़ाई लड़नी है. ऐसे में हर जगह हर परिस्थिति में नागरिकों के सहयोग की आवश्यकता है. नागरिक जितना अधिक योगदान देंगे, उतने ही बेहतर तरीके से कोरोना पर नियंत्रण पाया जा सकेगा. हम कोरोना के मामलों को बढ़ने से रोकने के लिए काम कर रहे हैं, लेकिन गुजरात के नागरिकों को भी अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी.

और पढ़ें- कोरोना से जंग: पंजाब के बाद महाराष्ट्र में भी कर्फ्यू का ऐलान, धार्मिक स्थल बंद

वहीं गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा, 'यह अजीब लग रहा है कि कल तक 18 मामले थे और आज 30 पॉजिटिव मामले सामने आ रहे हैं. अकेले न्यूयॉर्क में एक ही दिन में 5,000 मामले सामने आ चुके हैं, ऐसे में सोशल डिस्टेंस एकमात्र विकल्प है. 31 मार्च तक अगर इसके फैलाव पर रोक लगाने में हम कामयाब होते हैं तो गुजरात में नियंत्रण कर सकते हैं.

इतना ही नहीं उन्होंने गुजरात के लोगों से अपील करते हुए कहा कि अगर आज लोग लॉकडाउन में हिस्सेदार नहीं होंगे तो आने वाले दिनों में पश्चाताप करना पड़ेगा. साथ ही साथ उन्होंने कहा कि लोग सरकार के निर्देशों का पालन करें तो यकीनन इसके प्रसार पर रोक लगाया जा सकता है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें