scorecardresearch
 

पटना में 10 से 16 जुलाई तक संपूर्ण लॉकडाउन, डीएम ने दिए आदेश

बुधवार को बिहार में कोरोना के 739 मामले सामने आए, जिसमें पटना में 234 केस दर्ज किए गए. राज्य में अब कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 13,274 है.

फाइल फोटो-पीटीआई फाइल फोटो-पीटीआई

  • पटना में बुधवार को कोरोना के 234 नए केस
  • तेजस्वी ने टेस्टिंग को लेकर सवाल उठाए थे

बिहार की राजधानी पटना में 10 से 16 जुलाई तक के लिए संपूर्ण लॉकडाउन घोषित किया गया है. इस बाबत डीएम ने आदेश जारी कर दिया है. बुधवार को बिहार में कोरोना के 739 मामले सामने आए, जिसमें पटना में 234 केस दर्ज किए गए. राज्य में अब कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 13,274 है.

राज्य में कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर विपक्षी दल नीतीश सरकार पर हमलावर है. मंगलवार को तेजस्वी यादव ने टेस्टिंग को लेकर सवाल उठाए थे. इस मसले पर उनके निशाने पर प्रदेश के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी रहे. तेजस्वी ने सरकार को चुनौती दी कि वह साबित करे कि किस दिन 9 हजार टेस्ट हुए. अगर ऐसा है तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा.

उन्होंने कहा कि बिहार में कोरोना संक्रमण अप्रत्याशित रूप से बढ़ चुका है. सरकार को कहीं कोई चिंता नहीं. ना जांच की, ना इलाज की. पूरा मंत्रिमंडल, प्रशासन और सरकार चुनावी तैयारियों में व्यस्त है. सरकार आंकड़े छिपा रही है. अगर सरकार नहीं संभली तो अगस्त-सितंबर तक स्थिति और विस्फोटक हो सकती है.

आरजेडी नेता ने कहा कि बिहार में स्वास्थ्य विभाग आईसीयू में है. पिछले 2 सालों में कोई स्वास्थ्य केंद्र स्थापित नहीं किया गया है. सीएम नीतीश कुमार लाशों के ढेर पर चुनाव करवाना चाहते हैं. वो राष्ट्रपति शासन से डर रहे हैं.

बिहार के सीएम का यू-टर्न

वहीं, सीएम आवास पर कोविड-19 हॉस्पिटल खोले जाने के मसले पर फजीहत के बाद सीएम नीतीश कुमार ने यू-टर्न ले लिया है. नीतीश कुमार के आवास, एक अणे मार्ग में कोविड-19 हॉस्पिटल खोलने की बात PMCH अधीक्षक की ओर से कही गई थी.

आरजेडी छोड़ने वाले नेताओं का आखिर जेडीयू ही क्यों बन रहा सियासी ठिकाना?

इस मसले को लेकर तेजस्वी यादव ने कहा था कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भतीजी के संक्रमित हो जाने के बाद उन्होंने घर में ही वेंटिलेटर युक्त अस्पताल बनवा लिया है. सीएम की कोरोना जांच 2 घंटे में हो जाती है और रिपोर्ट भी आ जाती है. वहीं, 4 महीने के बाद भी आम आदमियों के लिए इस प्रकार की सुविधा क्यों उपलब्ध नहीं है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें