scorecardresearch
 

बिहारः JDU की युवा इकाई के प्रवक्ता ने ही खोल दी नीतीश सरकार की पोल

5 दिन पहले पीएमसीएच में अमित कुमार सिंह के जीजा की मौत हो गई और उन्होंने आरोप लगाया कि डॉक्टरों की लापरवाही की वजह से ऐसा हुआ. इस घटना से अमित कुमार सिंह इतने खफा हुए कि उन्होंने अपनी ही सरकार की पोल खोलना शुरू कर दिया और फिर फेसबुक लाइव के जरिए पीएमसीएच की बदहाल तस्वीरों को दिखाया.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो) बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

  • JDU की युवा इकाई के प्रवक्ता के जीजा की PMCH में मौत
  • फेसबुक लाइव के जरिए दिखाई PMCH की बदहाली की तस्वीरें

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) की युवा इकाई के अमित कुमार सिंह ने अपनी ही सरकार की पोल खोल दी. पटना महानगर के जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) की युवा इकाई के प्रवक्ता अमित कुमार सिंह ने फेसबुक लाइव के जरिए पटना के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल पीएमसीएच की बदहाली की तस्वीरें दिखाईं.

दरअसल, 5 दिन पहले पीएमसीएच में अमित कुमार सिंह के जीजा की मौत हो गई और उन्होंने आरोप लगाया कि डॉक्टरों की लापरवाही की वजह से ऐसा हुआ. इस घटना से अमित कुमार सिंह इतने खफा हुए कि उन्होंने अपनी ही सरकार की पोल खोलना शुरू कर दिया और फिर फेसबुक लाइव के जरिए पीएमसीएच की बदहाल तस्वीरों को दिखाया.

फेसबुक लाइव में अमित कुमार सिंह बार-बार कह रहे थे कि पीएमसीएच के किसी भी वार्ड में डॉक्टर और नर्स मौजूद नहीं रहते हैं. फेसबुक लाइव के दौरान अमित कुमार सिंह बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जेडीयू सांसद आरसीपी सिंह का भी नाम ले रहे थे.

इसे भी पढ़ेंः बिहार के CM आवास में कोरोना की दस्तक, CM नीतीश कुमार की भतीजी संक्रमित

इस बीच अमित कुमार सिंह ने अपनी ही पार्टी के नेताओं पर अनदेखी का आरोप भी जड़ा. फेसबुक लाइव में अमित कुमार सिंह बार-बार कह रहे थे कि उन्होंने अपने जीजा को बचाने के लिए पार्टी के कई बड़े नेताओं को फोन लगाया, मगर किसी ने भी फोन नहीं उठाया और न ही कोई मदद की.

आपको बता दें कि बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में जेडीयू-बीजेपी गठबंधन की सरकार है. अमित कुमार सिंह ने अपनी सरकार के खिलाफ उस समय मोर्चा खोला है, जब बिहार में विधानसभा चुनाव बेहद करीब आ गए हैं. कोरोना और लॉकडाउन की वजह से स्वास्थ्य सेवाओं की बदहाली और आम लोगों को हो रही परेशानियों को विपक्षी दल बिहार चुनाव में मुद्दा बनाने की कोशिश में हैं.

इसे भी पढ़ेंः बिहार में आज से 31 जुलाई तक लॉकडाउन, जानें क्या रहेंगी पाबंदियां

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें