scorecardresearch
 

आज का दिन: कोरोना की जांच के लिए CT स्कैन कराने पर कैंसर का खतरा कैसे?

'आजतक रेडियो' के मॉर्निंग न्यूज़ पॉडकास्ट 'आज का दिन' में सुनेंगे कोरोना की जाँच के लिए सीटी स्कैन कराया तो कैंसर का ख़तरा कैसे, पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स में शामिल करने पर क्या सवाल उठे, IPL को क्यों टाला नहीं जा रहा.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

आजतक रेडियो पर हम रोज़ लाते हैं देश का पहला मॉर्निंग न्यूज़ पॉडकास्ट 'आज का दिन', जहां आप हर सुबह अपने काम की शुरुआत करते हुए सुन सकते हैं आपके काम की ख़बरें और उन पर क्विक एनालिसिस. साथ ही, सुबह के अख़बारों की सुर्ख़ियां और आज की तारीख में जो घटा, उसका हिसाब किताब. आगे लिंक भी देंगे लेकिन पहले जान लीजिए कि आज के एपिसोड में हमारे पॉडकास्टर नितिन ठाकुर किन ख़बरों पर बात कर रहे हैं.

कोरोना जाँच के लिए सीटी स्कैन कराया तो कैंसर!

जब कोरोना डिटेक्ट करने वाले सारे टेस्ट फेल हो रहे थे तो लोगों ने सीटी स्कैन कराना शुरू कर दिया था. अब एम्स के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि सीटी स्कैन से कैंसर का ख़तरा भी हो सकता है. डॉ शुचिन बजाज बता रहे हैं कि कैसे सीटी स्कैन कैंसर का ख़तरा पैदा करता है और कोरोना है या नहीं इसे जाँचने के दूसरे विकल्प आपके पास क्या क्या हैं.

पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स मानने पर सवाल

मध्य प्रदेश, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, बिहार और उत्तराखंड जैसे कई राज्यों ने पत्रकरों को कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ने वाले फ्रंटलाइन वर्कर्स माना है. ऐसे में उन्हें कई सुविधाएँ मिलेंगी और वैक्सीनेशन में प्राथमिकता भी. इससे कई सवाल उठ रहे हैं. एक तो ये कि इससे किन्हें फ़ायदा मिलेगा क्योंकि सरकार किसे किसे पत्रकार मानेगी?  दूसरा ये कि पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स मानने में इतनी देरी क्यों हो गई जबकि कोरोना रिपोर्ट करते हुए कितने ही पत्रकार जान गँवा चुके. इन सवालों का जवाब पत्रकार और लेखक मंजीत ठाकुर दे रहे हैं.

मद्रास हाईकोर्ट की टिप्पणी पर क्या बोली सुप्रीम कोर्ट?

आपको याद होगा कि मद्रास हाईकोर्ट ने इलेक्शन कमीशन को लेकर कुछ सख़्त टिप्पणियाँ की थीं. जिनमें से एक थी कि कोरोना की सेकेंड वेव के लिए आयोग ज़िम्मेदार है और उसके अफ़सरों पर हत्या का मुक़दमा दर्ज कर देना चाहिए. इलेक्शन कमीशन इन्हीं टिप्पणियों के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट पहुँचा तो देश की सबसे बड़ी अदालत ने क्या कहा. आजतक रेडियो रिपोर्टर संजय शर्मा बता रहे हैं कि कोर्टरूम में क्या क्या हुआ और इलेक्शन कमीशन की माँग क्या थी. 

क्यों ना टाला जाए आईपीएल?

आईपीएल के 14वें सीजन में फिर से पिछले साल की तरह कोरोना ने सेंध लगा दी है. कोलकता और बेंगुलरू के बीच होने वाले मुकाबले को टालना पड़ा क्योंकि केकेआर के दो खिलाड़ियों को कोरोना हो गया. इस बीच आईपीएल फिर सवालों का सामना कर रहा है कि क्या अभी ही ये टूर्नामेंट होना ज़रूरी है? क्या इसे टाला नहीं जा सकता जब देश में इतना कुछ टल रहा हो? इन सवालों पर खेल पत्रकार मोहम्मद इक़बाल अपनी राय रख रहे हैं.

इसके अलावा आज के पॉडकास्ट में सुनिए कि आज की तारीख़ में पहले क्या घट चुका है और साथ ही देश-विदेश के अख़बारों की सुर्ख़ियाँ भी, जिन्हें लेकर आए हैं जमशेद.

आज का दिन सुनने के लिए यहां क्लिक करें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें