scorecardresearch
 

RBI ने दी बैंकों को राहत, क्या ग्राहकों को मिलेगी EMI पर छूट? यहां करें क्लियर

भारतीय रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में भारी कटौती की है और बैकिंग सेक्टर को काफी राहत दी है. सभी तरह के टर्म लोन एनपीए में न बदलने की तीन महीने की राहत बैंकों और एनबीएफसी को दी गई है. इस छूट का फायदा छोटे कारोबारियों, होम लोन या ऑटो लोन लेने वालों, या बड़े कारोबारियों को हो सकता है.

 रिजर्व बैंक ने दी बैंकों को बड़ी राहत (फोटो: PTI) रिजर्व बैंक ने दी बैंकों को बड़ी राहत (फोटो: PTI)

  • कोरोना की वजह से कर्ज के मामले में बड़ी राहत दी रिजर्व बैंक ने
  • बैंकों और एनबीएफसी के लोन तीन महीने तक एनपीए नहीं होंगे
  • अब उम्मीद है कि बैंक इसका लाभ होम लोन—ऑटो लोन में देंगे
  • आम लोन ग्राहकों को लोन ईएमआई में राहत देने का निर्णय बैंकों के हाथ में

कोरोना वायरस की वजह से इकोनॉमी को लगने वाले बड़े झटके को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में भारी कटौती की है और बैकिंग सेक्टर को काफी राहत दी है. सभी तरह के टर्म लोन एनपीए में न बदलने की तीन महीने की राहत बैंकों और NBFC को दी गई है. अब इसकी पूरी उम्मीद है कि बैंक इसका लाभ ग्राहकों तक पहुंचाएंगे.

क्या कहा रिजर्व बैंक ने

इस छूट का फायदा छोटे कारोबारियों, होम लोन या ऑटो लोन लेने वालों, या बड़े कारोबारियों को हो सकता है. कोरोना वायरस के प्रकोप की वजह से यह राहत दी गई है. रिजर्व बैंक ने कहा कि तीन महीने तक लोन न चुकाने पर भी कर्जधारक की क्रेडिट हिस्ट्री खराब नहीं होगी.

क्या कहते हैं जानकार

बिजनेस टुडे के संपादक राजीव दुबे कहते हैं कि बैंकों को राहत तो मिली है, लेकिन अब इसका लाभ लोन ग्राहकों को किस तरह से मिलता है, यह देखना होगा. होम लोन, ऑटो लोन आदि में किस तरह से ईएमआई को टालने की सुविधा बैंक देते हैं यह देखना होगा. हो सकता कि किसी मामले में वे इसकी छूट दें या किसी लोन में न दें.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

जिनके पास पैसा हो उन्हें बचना चाहिए

जानकारों का कहना है कि ईएमआई को टालने की सुविधा उन्हीं के लिए होगी जो अपना कारोबार न चलने या किसी और वजह से लोन चुकाने में सक्षम नहीं हैं. जो लोग वेतन पा रहे हैं या जिनको पैसे की तंगी नहीं है उन्हें अपना ईएमआई भुगतान टालने से बचना चाहिए, क्योंकि आगे उनके लिए ही बोझ बढ़ेगा.

बैंकों को होगा फायदा

रिजर्व बैंक ने रेपो रेट को 75 बेसिस पाइंट घटाकर 4.4 फीसदी कर दिया जिसके बाद इंडसइंड बैंक, एक्सिस बैंक और एसबीआई के शेयर चढ़ गए. रिजर्व बैंकों ने टर्म लोन पर राहत बैंकों को देते हुए उन्हें ये सलाह दी है कि वे अपने ग्राहकों को 3 महीने तक ईएमआई पर राहत दें. हालांकि, आरबीआई ने सिर्फ सलाह दी है. अब गेंद बैंकों के पाले में है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

RBI ने कैश रिजर्व रेशियो (CRR) में 100 बेसिस प्वाइंट की कटौती करके 3 प्रतिशत कर दिया गया है. यह एक साल तक की अवधि के लिए किया गया है.आरबीआई गवर्नर के मुताबिक सभी कमर्शियल बैंकों को ब्याज और कर्ज अदा करने में 3 महीने की छूट दी जा रही है. इस फैसले से 3.74 लाख करोड़ रुपये की नकदी सिस्टम में आएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें