scorecardresearch
 

रूस-यूक्रेन युद्ध ने छीनी भारत के इस शहर की 'हीरे' जैसी चमक, 20 लाख लोगों के रोजगार पर संकट!

तापी नदी के मुहाने पर बसे इस शहर को मूल रूप से एक बंदरगाह वाले नगर के तौर पर बसाया गया, लेकिन आजादी के बाद 60 और 70 के दशक में इसने Diamond City का रुतबा हासिल कर लिया.

X
खो रही इस शहर की 'हीरे' जैसी चमक (Photo : AFP) खो रही इस शहर की 'हीरे' जैसी चमक (Photo : AFP)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 60 के दशक में बनी Diamond City
  • दुनिया के 90% हीरे होेते हैं कट और पॉलिश

रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine War) के शुरू होने के बाद से दुनिया में काफी कुछ बदला है. गेहूं से लेकर कच्चा तेल और नेचुरल गैस की कीमतें आसमान छूने लगी. लेकिन भारत का एक शहर ऐसा भी है जिसकी 'हीरे' जैसी चमक इस युद्ध से उठे धूल के गुबार में खोती जा रही है. असर ये है कि इस शहर में काम करने वाले करीब 20 लाख लोगों के लिए रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है.

सूरत के 'हीरा उद्योग' का बुरा हाल 
जी हां, हम बात कर रहे हैं भारत की डायमंड सिटी (Diamond City of India) सूरत की, रूस और यूक्रेन के बीच छिड़े युद्ध ने इस शहर में हीरा पॉलिश करने के काम में लगे करीब 20 लाख हीरा कारीगरों के लिए रोजी-रोटी का संकट खड़ा किया है. एएफपी ने अपनी एक रिपोर्ट में ऐसे कई मजदूरों की आपबीती बताई है.

'13 से 44 की उम्र हीरा पॉलिश करके बिताई'
सूरत की ही एक हीरा पॉलिश फैक्टरी में काम करने वाले 44 साल के योगेश जंजामेरा का कहना है कि शहर में अब पर्याप्त मात्रा में कच्चा हीरा नहीं है. इसलिए उनके पास ज्यादा काम भी नहीं है. योगेश जब 13 साल के थे तब स्कूल छोड़ने के बाद हीरा पॉलिश करने के काम में लग गए. अब ये काम करते हुए उन्हें 31 साल हो चुके हैं. वो चाहते हैं कि रूस-यूक्रेन का युद्ध खत्म होना चाहिए, यहां हर किसी की जिंदगी उसी पर निर्भर करती है.'

योगेश पहले ही करीब 20,000 रुपये महीने की इनकम पर काम करता रहा है. अब इस युद्ध की वजह से काम की जो कमी हुई है, उससे योगेश की इनकम 20 से 30 प्रतिशत और कम हो गई है. इतना ही नहीं सूरत की स्थानीय ट्रेड यूनियन का अनुमान है कि अब तक सूरत में 30,000 से 50,000 हीरा कारीगरों की जॉब चली गई है. जबकि इस काम पर निर्भर लोगों की संख्या 15 से 20 लाख तक है.

60 के दशक में बनी Diamond City
सूरत को पुर्तगालियों के समय में बड़ी पहचान मिली. तापी नदी के मुहाने पर बसे इस शहर को मूल रूप से एक बंदरगाह वाले नगर के तौर पर बसाय गया, लेकिन आजादी के बाद 60 और 70 के दशक में इसने Diamond City का रुतबा हासिल कर लिया. वैसे सूरत कपड़े के थोक व्यापार का भी एक बड़ा सेंटर है. दुनिया के 90% हीरों को सूरत में ही तराशा और पॉलिश (Cut & Polishing) किया जाता है.

चिराग जेम्स के सीईओ चिराग पटेल का कहना है- अगर कोई हीरा सूरत से होकर नहीं गया है, इसका मतलब वो हीरा ही नहीं है. यहां के महिधापुर बाजार में हर रोज खुले में सड़कों पर ही करोड़ों के हीरों का व्यापार हो जाता है. कागज की मामूली पुड़ियों में लोग हीरों का लेनदेन पूरा कर लेते हैं.

रूस रत्नों का सबसे बड़ा सप्लायर
सूरत के इस संकट की वजह रूस पर लगे अंतरराष्ट्रीय आर्थिक प्रतिबंध है. इन प्रतिबंधों की वजह से भारत के लिए रूस से हीरे और अन्य रत्नों का आयात करना मुश्किल हो गया है, जबकि इस मामले में रूस भारत के लिए सबसे बड़ा सप्लायर है.

सूरत के व्यापारी रूस से लगभग 27 प्रतिशत कच्चे हीरे का आयात कर रहे थे, लेकिन युद्ध के कारण अब इतनी मात्रा गुजरात की हीरा यूनिट्स तक नहीं पहुंच पा रही है. इसकी वजह से काम प्रभावित हो रहा है. युद्ध से पहले गुजरात पॉलिश करने के लिए कुल कच्चे हीरे में से लगभग 30 प्रतिशत रूसी हीरा खनन कंपनी अलरोसा से आयात करता था. गुजरात में कट और पॉलिश किए गए हीरे में से 60 प्रतिशत रूसी मूल के होते हैं, जिनमें से ज्यादातर छोटे आकार के हीरे होते हैं.

ये भी पढ़ें: 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें