scorecardresearch
 

Fortune Global 500 List: Reliance Industries से भी आगे निकली LIC, टॉप पर अमेरिका की ये कंपनी

ताजी फार्च्यून ग्लोबल 500 लिस्ट में पहली बार एलआईसी को जगह मिली है. इस बार लिस्ट में भारत की 9 कंपनियों को जगह मिली है. इनमें से 5 कंपनियां सरकारी हैं, जबकि बाकी 4 कंपनियां निजी क्षेत्र की हैं. रेवेन्यू (Revenue) के आधार पर तैयार होने वाली इस लिस्ट में एलआईसी को 98वां स्थान मिला है.

X
पहली बार मिली LIC को जगह पहली बार मिली LIC को जगह
स्टोरी हाइलाइट्स
  • फार्च्यून ग्लोबल 500 लिस्ट का ताजा संस्करण
  • भारत की नौ कंपनियों को मिली लिस्ट में जगह

शेयर मार्केट (Share Market) में हाल ही में लिस्ट हुई सरकारी बीमा कंपनी एलआईसी (LIC) के नाम एक और कीर्तिमान जुड़ गया है. शेयर मार्केट में भले ही एलआईसी का अब तक का परफॉर्मेंस कुछ खास नहीं रहा है, लेकिन फार्च्यून ग्लोबल 500 लिस्ट (Fortune Global 500 List) में इसने सभी अन्य भारतीय कंपनियों को मीलों पीछे छोड़ दिया है. यहां तक कि भारत की सबसे बड़ी लिस्टेड कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) भी एलआईसी से काफी पीछे रह गई है.

पहली बार एलआईसी को मिली जगह

ताजी फार्च्यून ग्लोबल 500 लिस्ट में पहली बार एलआईसी को जगह मिली है. इस बार लिस्ट में भारत की 9 कंपनियों को जगह मिली है. इनमें से 5 कंपनियां सरकारी हैं, जबकि बाकी 4 कंपनियां निजी क्षेत्र की हैं. रेवेन्यू (Revenue) के आधार पर तैयार होने वाली इस लिस्ट में एलआईसी को 98वां स्थान मिला है. कंपनी करीब 97.27 बिलियन डॉलर रेवेन्यू और 553.8 मिलियन डॉलर प्रॉफिट के साथ भारत में पहले पायदान पर रही है.

लिस्ट में टाटा समूह की 2 कंपनियां

फार्च्यून ग्लोबल 500 लिस्ट में भारत की ओर से दूसरे पायदान पर रिलायंस इंडस्ट्रीज शामिल है. रिलायंस इंडस्ट्रीज पिछले 19 साल से लगातार इस लिस्ट का हिस्सा है. ग्लोबल आधार पर रिलायंस को 93.98 बिलियन डॉलर रेवेन्यू और 8.15 बिलियन डॉलर नेट प्रॉफिट के साथ 104वें स्थान पर रखा गया है. रिलायंस इंडस्ट्रीज की रैंकिंग पिछले साल की तुलना में 51 पायदान सुधरी है. एलआईसी और रिलायंस इंडस्ट्रीज के अलावा जो भारतीय कंपनियां इस लिस्ट में जगह बनाने में कामयाब हुई हैं, उनमें एसबीआई (SBI) बैंकिंग सेक्टर से एकमात्र नाम है. वहीं टाटा समूह (Tata Group) की दो कंपनियां टाटा मोटर्स (Tata Motors) और टाटा स्टील (Tata Steel) को भी लिस्ट में जगह मिली है.

इन सरकारी कंपनियों ने बनाई जगह

भारत से लिस्ट में जगह बना पाने में कामयाब हुई कंपनियों में सरकारी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल (Indian Oil) 142वें स्थान पर है. कंपनी की रैंकिंग साल भर पहले की तुलना में 28 स्थान सुधरी है. वहीं एक अन्य सरकारी कंपनी ओएनजीसी (ONGC) 16 स्थान की छलांग लगाकर 190वां रैंक हासिल करने में कामयाब रही है. पब्लिक सेक्टर की ही बीपीसीएल (BPCL) को 295वां स्थान मिला है. पिछले साल की तुलना में बीपीसीएल की रैंकिंग में 19 पायदान का सुधार हुआ है. एसबीआई को 17 पायदान की छलांग लगाकर 236वां रैंक हासिल करने में कामयाबी मिली है.

टॉप के दोनों पायदान पर अमेरिकी कंपनियां

लिस्ट में शामिल प्राइवेट कंपनियों को देखें तो रिलायंस इंडस्ट्रीज टॉप पर है. इसके अलावा टाटा समूह की टाटा मोटर्स को 370वां स्थान मिला है. इसी तरह टाटा स्टील 435वां स्थान पाने में कामयाब हुई है. राजेश एक्सपोर्ट्स (Rajesh Exports) 437वें स्थान पर रही है. लिस्ट में टॉप5 की कंपनियों में 2 अमेरिका की हैं, जबकि चीन की 3 कंपनियां टॉप5 में जगह बनाने में कामयाब हुई हैं. अमेरिकी रिटेलर कंपनी वालमार्ट (Wallmart) लगातार 9वें साल इस लिस्ट में टॉप पर रही है. दूसरा स्थान जेफ बेजोस की कंपनी अमेजन (Amazon) को मिला है. यह अमेजन की अब तक की सबसे बेहतर रेटिंग है.

चीन की इन कंपनियों ने दिखाया जलवा

चीन की स्टेट ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ चाइना (State Grid Corporation Of China) इस साल की लिस्ट में तीसरे स्थान पर रही है, जबकि चौथा स्थान चाइना नेशनल पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (China National Petroleum Corporation) को मिला है. चीन की ही सिनोपेक ग्रुप लिस्ट (Sinopec Group) में पांचवें स्थान पर है. सऊदी अरब की अरामको (Saudi Aramco) को लिस्ट में छठा स्थान मिला है. फॉक्सवैगन (Volkswagen), चाइना स्टेट कंस्ट्रक्शन इंजीनियरिंग (China State Construction Engineering), सीवीएस हेल्थ (CVS Health) जैसी कंपनियां भी टॉप10 में शामिल हुई हैं. लिस्ट में शामिल 500 कंपनियों का टोटल सेल इस दौरान 19 फीसदी बढ़कर 37.8 ट्रिलियन डॉलर पर पहुंच गया है. यह किसी भी एक साल के दौरान टॉप500 कंपनियों की सेल में सबसे शानदार ग्रोथ है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें