scorecardresearch
 

इफको की सफाई- पुराने दाम पर ही किसानों को मिलेगा उर्वरक, स्टॉक में 11.26 लाख टन खाद

देश के किसानों के लिए राहत की खबर है. सहकारी क्षेत्र के इंडियन फारमर्स फर्टिलाइजर्स कोऑपरेटिव (IFFCO) ने कहा कि किसानों को पुरानी कीमतों पर ही उर्वरक की सप्लाई होगी. इफको का कहना है कि बाजार में उर्वरकों की नई दरें किसानों को बिक्री के लिए नहीं है.

किसानों के लिए राहत की खबर किसानों के लिए राहत की खबर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • उर्वरकों की नई दरें किसानों को बिक्री के लिए नहीं
  • उर्वरक की कीमतों से किसी सरकार को जोड़ना गलत
  • किसानों के लिए डीएपी 1200 रुपये बोरी

देश के किसानों के लिए राहत की खबर है. सहकारी क्षेत्र के इंडियन फारमर्स फर्टिलाइजर्स कोऑपरेटिव (IFFCO) ने कहा कि किसानों को पुरानी कीमतों पर ही उर्वरक की सप्लाई होगी. इफको का कहना है कि बाजार में उर्वरकों की नई दरें किसानों को बिक्री के लिए नहीं है.

दरअसल, इफको की ओर से डाई-अमोनियम फास्फेट (डीएपी) उर्वरक और नाइट्रोजन, फॉस्फोरस और पोटेशियम (एनपीके) उर्वरक की कीमतें बढ़ा देने की खबरें आई थीं. जिसे इफको ने खारिज कर दिया है. इफको का कहना है कि पहले से पैक हो चुका खाद पुरानी कीमत पर बिकता रहेगा. इफको की मानें तो मार्केटिंग टीम को यह निर्देश दिया गया है कि किसानों को केवल पुराने मूल्ययुक्त पैकशुदा सामान ही बेचे जाएं. हम हमेशा किसानों के सर्वोपरि हित को ध्यान में रखकर ही कोई निर्णय लेते हैं.

स्टॉक में कोई कमी नहीं 

इफको के पास 11.26 लाख टन उर्वरक का पुराना स्‍टॉक है, जो किसानों को पुराने दाम पर ही मिलेंगे. इफको ने बताया कि डीएपी को 1200 रुपये, एनपीके 10:26:26 को 1175 रुपये, एनपीके 12:32:16 को 1185 रुपये और एनपीएस 20:20:0:13 को 925 रुपये प्रति बैग की पुरानी कीमत पर ही किसानों को उपलब्‍ध कराया जाएगा. उन्‍होंने कहा कि नई कीमत के साथ आने वाले बैग की बिक्री किसी को नहीं की जाएगी.
   
इफको ने अपने बयान में कहा है कि खाद की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर किसी राजनीतिक दल या सरकार से जोड़ने वाली खबरों या ट्वीट पर हमें कड़ी आपत्ति है. इन उर्वरकों का मूल्य नियंत्रण-मुक्त है, इसलिए किसी राजनीतिक दल या किसी सरकार से इसका कोई संबंध नहीं है.

बोरी पर प्रिंट नई कीमतें लागू नहीं 

इफको द्वारा खाद की कीमतों में बढ़ोतरी की केवल अस्थाई हैं. कंपनियों द्वारा कच्चे माल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों को अंतिम रूप दिया जाना अभी बाकी है. इफको का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे माल की कीमतों में तेजी देखी जा रही है.

इफको ने बताया कि पैकिंग के दौरान नई बोरी पर लागत को प्रिंट करना एक मैन्यूफैक्चरर के लिए जरूरी है. इसलिए उर्वरक की बोरी पर लिखा गया दाम अस्थाई है, जो केवल दिखाने के लिए प्रिंट है. वह कीमत लागू नहीं है. हम यह बताना चाहते हैं कि पुरानी दरों पर ही बाजार में पर्याप्त उर्वरक उपलब्ध है. 

इफको ने कहा कि हमने अपनी मार्केटिंग टीम को किसानों को पुरानी दर पर ही पहले से पैक खाद को बेचने का निर्देश दिया है. हम हमेशा किसानों के दृष्टिकोण से ही फैसला लेते हैं.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें