scorecardresearch
 

आज भी कैसे 5 रुपये में मिल रहा है Parle-G Biscuit का पैकेट? ये है गणित

Parle G Biscuit : 25 साल तक पारले-जी बिस्किट के छोटे पैकेट की कीमत चार रुपये ही रही. कंपनी ने इस कीमत को कैसे बरकरार रखा है, इसका पूरा गणित स्विगी के डिजाइन डायरेक्टर सप्तर्षि प्रकाश ने समझाया है. प्रकाश ने बताया कि पहले पारले-जी का छोटा पैकेट 100 ग्राम का आता था. कुछ साल बाद इसे घटाकर 92.5 ग्राम कर दिया गया.

X
पारले-जी बिस्किट के छोटे पैकेट की कीमत
पारले-जी बिस्किट के छोटे पैकेट की कीमत
स्टोरी हाइलाइट्स
  • छोटे होते गए बिस्किट पैकेट के साइज
  • अब तक वजन में 45 फीसदी की कटौती

पारले-जी (Parle-G) बिस्किट का स्वाद आज भी लोगों की जुबां पर बरकार है. भारत में ये सिर्फ एक बिस्किट का ब्रांड भर नहीं है, बल्कि इसके साथ लोगों को भावनाएं भी जुड़ी हैं. जब भी पारले-जी बिस्किट का जिक्र होता है, हम अपने बचपन में लौट जाते हैं. समय के साथ पारले-जी बिस्किट में कई बदलाव हुए, लेकिन इसका स्वाद नहीं बदला. इसके साथ एक और चीज लंबे समय तक नहीं बदली, वो है पारले-जी बिस्किट के छोटे पैकेट की कीमत (Parle-G Price). अब यह पैकेट पांच रुपये में मिल रहा है. लेकिन लंबे समय तक इसकी कीमत चार रुपये ही रही थी. ऐसे में बड़ा सवाल है कि लगातार बढ़ती महंगाई और हर रोज वस्तुओं की बदलती कीमतों के दौर में पारले-जी ने पांच रुपये के रेट को कैसे बरकरार रखा है?

25 साल तक एक ही कीमत

25 साल तक पारले-जी बिस्किट के छोटे पैकेट की कीमत चार रुपये ही रही. कंपनी ने इस कीमत को कैसे बरकरार रखा है, इसका पूरा गणित स्विगी के डिजाइन डायरेक्टर सप्तर्षि प्रकाश (Saptarshi Prakash) ने समझाया है. प्रकाश ने लिंक्डइन (Linkedin) पर लिखा कि कभी सोचा है, ऐसा कैसे संभव है? इसके बाद उन्होंने इसका कैलकुलेशन बताया.

मनोवैज्ञानिक तरीके का इस्तेमाल

प्रकाश बताते हैं- 'साल 1994 में पारले-जी बिस्किट के एक छोटे पैकेट की कीमत चार रुपये थी. इसके कई साल बाद रेट में एक रुपये का इजाफा हुआ और पैकेट की कीमत पांच रुपये हो गई. साल 1994 से लेकर 2021 तक पारले-जी के छोटे पैकेट कीमत चार रुपये ही रही'. उन्होंने कहा का पारले-जी ने इतने बड़े स्तर पर अपनी पहचान बनाने के लिए एक जबरदस्त मनोवैज्ञानिक तरीके का इस्तेमाल किया.

 पैकेट की साइज होती गई छोटी

मनोवैज्ञानिक तरीके के बारे में बताते हुए प्रकाश कहते हैं- 'अब जब भी मैं छोटा पैकेट कहता हूं, तो आपके दिमाग में क्या आता है? एक ऐसा पैकेट जो आसानी से आपके हाथ में फिट बैठ जाए. पैकेट के भीतर मुट्ठी भर बिस्किट होते हैं. पारले ने इस तरीके को बखूबी समझा. इसलिए उसने कीमतों में इजाफा करने की बजाए लोगों के दिमाग में अपने छोटे पैकेट की धारणा को बरकरार रखा. फिर धीरे-धीरे इसके साइज कम करने शुरू कर दिए. समय के साथ छोटे पैकेट का साइज छोटा होते गया, लेकिन कीमतों में इजाफा नहीं हुआ'.

कितना कम हुआ वजन

प्रकाश ने बताया कि पहले पारले-जी का छोटा पैकेट 100 ग्राम का आता था. कुछ साल बाद इसे घटाकर 92.5 ग्राम कर दिया गया. फिर 88 ग्राम और आज पांच रुपये में मिल रहा पारले-जी का छोटा पैकेट 55 ग्राम वजन के साथ आता है. 1994 के बाद से लेकर अब तक इसके वजन में 45 फीसदी की कटौती हुई है. वो इस तकनीक को ग्रेसफुल डिग्रेडेशन बताते हैं और कहते हैं कि आलू के चिप्स, चॉकलेट और टूथपेस्ट बनाने वाली कंपनियां इस तरह से काम करती हैं.

कब हुई थी शुरुआत

पारले की शुरुआत साल 1929 में हुई थी. पारले ने पहली बार 1938 में पारले-ग्‍लूको (पारले ग्‍लूकोज) नाम से बिस्किट का उत्पादन शुरू किया था. 1940- 50 के दशक में में कंपनी ने भारत के पहले नमकीन बिस्‍किट 'मोनाको' को पेश किया था.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें