scorecardresearch
 

Jewellery Export: इंडियन झुमका-बाली पर विदेशी फिदा, गजब की डिमांड, ये है आंकड़ा

रत्न और आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद यानी GJEPC के मुताबिक रत्न और आभूषणों का कुल निर्यात बीते महीने 30,195.21 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. ये आंकड़ा सितंबर 2021 के मुकाबले 27.17 फीसदी ज्यादा है. पिछले साल सितंबर में रत्न और आभूषण निर्यात 23,743.46 करोड़ रुपये रहा था.

X
दुनिया में बढ़ रही भारतीय रत्न-आभूषणों की डिमांड
दुनिया में बढ़ रही भारतीय रत्न-आभूषणों की डिमांड

भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा गोल्ड इम्पोर्ट (Gold Import) करने वाला देश है. इसकी वजह है भारतीयों को सोने के गहनों से बेशुमार प्यार. लेकिन जिस सोने को भारत कच्चे माल के तौर पर आयात करता है, वहीं यहां शानदार ज्वैलरी के रूप में तैयार होकर दुनिया भर के लोगों को खूब लुभाता है. दुनिया के दूसरे देशों में इंडियन ज्वैलरी की खासी डिमांड (Indian Jewellery Demand) है और निर्यात के आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हैं. सितंबर महीने में इसमें 27 फीसदी का उछाल आया है. 

पिछले साल की तुलना में इतना ज्यादा
सितंबर 2022 में जब उत्तर भारत में श्राद्ध की वजह से सोने या किसी भी दूसरी कीमती धातु की बिक्री घट जाती है, तब भी विदेशों में भारतीय गहनों की मांग में लगातार तेजी दर्ज की गई. रत्न और आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद यानी GJEPC के मुताबिक रत्न और आभूषणों का कुल निर्यात बीते महीने 30,195.21 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. ये आंकड़ा सितंबर 2021 के मुकाबले 27.17 फीसदी ज्यादा है. पिछले साल सितंबर में रत्न और आभूषण निर्यात 23,743.46 करोड़ रुपये रहा था.

पहली छमाही में 12.82% बढ़ा निर्यात
2022-23 की पहली छमाही यानी अप्रैल-सितंबर 2022 के दौरान रत्न और आभूषणों का कुल निर्यात 1,61,545.06 करोड़ रुपये रहा. ये आंकड़ा अप्रैल-सितंबर 2021 के मुकाबले 12.82 फीसदी ज्यादा है. अप्रैल-सितंबर 2021 में रत्न और आभूषणों का कुल निर्यात 1,43,187.15 करोड़ रुपये था. इसके साथ ही तराशे और पॉलिश किए गए हीरे (CPD) का कुल एक्सपोर्ट सितंबर 2022 में 17,107.64 करोड़ रुपये हो गया. ये सितंबर 2021 के 14,023.78 करोड़ रुपये के मुकाबले 21.99 फीसदी की बढ़ोतरी है.

सादे सोने की ज्वैलरी का निर्यात बढ़ा 
GJEPC के आंकड़ों के मुताबिक, सादे सोने के गहनों का कुल निर्यात सितंबर में 30.78 फीसदी बढ़कर 2,556.40 करोड़ रुपए पर पहुंच गया जबकि सितंबर 2021 में यह 1,954.78 करोड़ रुपये था. सभी तरह के जड़े हुए सोने की ज्वैलरी का कुल एक्सपोर्ट भी सितंबर में 22.57 फीसदी बढ़कर 4,510.77 करोड़ रुपये पर पहुंच गया, जबकि सितंबर 2021 में ये 3,680.08 करोड़ रुपये था.

श्राद्ध का सोने के इम्पोर्ट पर असर
सितंबर में 15 दिन के श्राद्ध पक्ष के चलते शुभ कार्य नहीं होते. इससे उस दौरान गोल्ड समेत तमाम तरह के आइटम्स की डिमांड कम हो जाती है. इसके असर से सितंबर में सोने का आयात भी घट गया. लेकिन इसके बाद नवरात्र और फिर अब आने वाले करवा चौथ, धनतेरस, दिवाली जैसे त्योहारों की वजह से रत्नों और ज्वैलरी की डिमांड में भी बढ़ोतरी होने लगी है. इसके असर से अनुमान है कि अक्टूबर में देश में गोल्ड का इम्पोर्ट भी बढ़ जाएगा जिसका अंदाजा अगले महीने अक्टूबर के आंकड़ों के आने के बाद लगेगा.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें