scorecardresearch
 

साइरस मिस्त्री का आज अंतिम संस्कार, दोनों बच्चे करते हैं पढ़ाई, पत्नी भी कॉर्पोरेट आइकन.. जानें- कितनी नेटवर्थ

साल 1865 में स्थापित 157 साल पुराने शापूरजी पालोनजी ग्रुप (SP Group) का कारोबार भारत, पश्चिम एशिया समेत अफ्रीका तक फैला हुआ है. साइरस मिस्त्री को टाटा संस का चेयरमैन (Tata Sons Chairman) नियुक्त किए जाने के बाद से ही उनके बड़े भाई शापूर मिस्त्री फैमिली बिजनेस को संभाल रहे थे.

X
पत्नी-बच्चों के लिए इतनी संपत्ति छोड़ गए साइरस मिस्त्री
पत्नी-बच्चों के लिए इतनी संपत्ति छोड़ गए साइरस मिस्त्री

टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री का आज अंतिम संस्कार किया जाएगा. साइरस मिस्त्री (Cyrus Mistry) का कार एक्सीडेंट में 4 सितंबर को निधन हो गया था. दिग्गज भारतीय बिजनेस टायकून दिवंगत शापूरजी पालोनजी मिस्त्री के छोटे बेटे साइरस कम समय में ही अपनी काबिलियत की दम पर बुलंदियों पर पहुंच गए थे. उनका जाना परिवार के लिए एक बड़ा सदमा है. साइरस मिस्त्री दो बेटों के पिता थे. आइए जानते हैं बच्चों के लिए वे कितनी संपत्ति छोड़कर गए हैं.      

इन क्षेत्रों में एसपी ग्रुप का कारोबार
शापूरजी पलोनजी ग्रुप (SP Group) का कारोबार इंजीनियरिंग और कंस्ट्रक्शन से लेकर रियल एस्टेट, टेक्सटाइल, होम अप्लाइंसेज, शिपिंग, पब्लिकेशन, पावर और बायोटेक्नोलॉजी सेक्टर में फैला हुआ है. इस समूह में करीब 25,000 कर्मचारी काम करते हैं. 1991 में भारत समेत दुनियाभर में फैले इस फैमिली बिजनेस के साथ साइरस मिस्त्री (Cyrus Mistry Family Business) जुड़े थे और 1994 में उन्हें कंपनी का मैनेजिंग डायरेक्टर बनाया गया था. उन्होंने 2012 तक अपने कारोबार का नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया. 

टाटा संस में परिवार की 18.4% हिस्सेदारी
2012 में उन्हों टाटा संस (Tata Sons) की कमान मिली और चार साल तक उन्होंने इस जिम्मेदारी को संभाला. पद छोड़ने के बाद उन्होंने टाटा ग्रुप से कानूनी लड़ाई लड़ते हुए अपने फैमिली बिजनेस का रुख कर लिया. साल 1865 में स्थापित 157 साल पुराने शापूरजी पालोनजी मिस्त्री परिवार की टाटा संस में 18.4 फीसदी हिस्सेदारी है. वहीं ग्रुप का कारोबार दुनिया के 50 से ज्यादा देशों में फैला हुआ है. ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स (Bloomberg Billionaires Index) के मुताबिक, साल 2022 में SP Group की नेटवर्थ 30 अरब डॉलर है. 

रतन टाटा और साइरस मिस्त्री
रतन टाटा और साइरस मिस्त्री

रतन टाटा के साथ है गहरा संबंध
उद्योग जगत में पालोनजी परिवार (Pallonji Family) का बड़ा नाम है. साइरस मिस्त्री (Cyrus Mistry) और उनके पिता के निधन के बाद अब परिवार में उनकी मां पाट्सी पेरिन डुबास ( Patsy Perin Dubash), बड़े भाई शापूर मिस्त्री (Shapoor Mistry) के अलावा दो बहनें लैला मिस्त्री (Laila Mistry) और अलू मिस्त्री (Allu Mistry) के अलावा उनकी पत्नी रोहिका छागला और दो बेटे फिरोज मिस्त्री व जहान मिस्त्री हैं. यहां बता दें साइरस उनकी एक बहन की शादी रतन टाटा (Ratan Tata) के सौतेले भाई नोएल टाटा से हुई है. 

पत्नी-बच्चों के लिए इतनी संपत्ति छोड़ी
कारों और घुड़सवारी के शौकीन हंसमुख मिजाज वाले साइरस मिस्त्री की निजी जिंदगी पर नजर डालें को उन्होंने साल 1992 में रोहिका छागला से शादी की थी. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो रोहिका छागला खुद एक कॉर्पोरेट आइकन रही हैं और कुछ निजी व सार्वजनिक लिमिटेड कंपनियों में निदेशक का पद संभाल चुकी हैं. रोहिका के पिता इकबाल छागला बड़े वकील और उनके दादा एमसी छागला पूर्व कैबिनेट मंत्री थे. 

शादी के बाद साइरस मिस्त्री, फिरोज मिस्त्री और जहान मिस्त्री नाम के दो बच्चों के पिता बने, हालांकि उनके बारे में ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स की मानें वो पढ़ाई करते हुए कहीं न कहीं दुनिया भर में फैसे अपने पारिवारिक बिजनेस से जुड़े हुए हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, साइरस अपनी पत्नी और बच्चों के लिए करीब 70,000 करोड़ रुपये की संपत्ति (Cyrus Mistry Net Worth) छोड़ गए हैं. गौरतलब है कि साइरस मिस्त्री ने 2012 तक कंपनी के कारोबार में सक्रिय भूमिका निभाई थी. लेकिन दिसंबर 2012 में उन्हें टाटा संस का चेयरमैन नियुक्त किया गया. इसके बाद फैमिली बिजनेस का पूरा दारोमदार उनके बड़े भाई शापूर मिस्त्री (Shapoor Mistry) पर आ गया. 

परिवार के ये सदस्य संभाल रहे बिजनेस
रिपोर्ट की मानें तो साल 2019 में SP Group में कई फेरबदल देखने को मिले थे. परिवार की नई पीढ़ी को भी बड़ी जिम्मेदारियां दी गईं. इसके तहत ग्रुप की कमान थामने वाले शापूर मिस्त्री के 26 वर्षीय बेटे पैलोन मिस्त्री को ग्रुप की होल्डिंग कंपनी के बोर्ड में शामिल किया गया था. पैलोन कंपनी के शीर्ष पैनल में शामिल हैं और रणीनीतिक व प्रभावशाली फैसले लेते है. वहीं उनकी बेटी तान्या मिस्त्री ग्रुप की कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (CSR) की गतिविधियों को संभालने का जिम्मा सौंपा गया था.  

साइरस मिस्त्री के बड़े भाई शापूर मिस्त्री
साइरस मिस्त्री के बड़े भाई शापूर मिस्त्री

इन बड़ी इमारतों का निर्माण कराया
देश की पुरानी और विश्वसनीय कंस्ट्रक्शन कंपनी की बात होती है, तो शापूरजी पालोनजी मिस्त्री ग्रुप का नाम सबसे ऊपर आता है. शापूरजी पालोनजी ने अपनी शुरुआत लिटिलवुड पालोनजी से की, जिसकी स्थापना उनके पिता शापूरजी मिस्त्री ने की थी. इसके बाद आगे बढ़ते हुए एसपी ग्रुप ने अपना कारोबार दुनियाभर में फैला लिया. इस समूह ने देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी बड़ी-बड़ी इमारतें बनाई हैं.

मुंबई के ताजमहल पैलेस होटल और द ओबेरॉय होटल का निर्माण भी शापूरजी पालोनजी ग्रुप ने ही किया है. इसके अलावा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की पुरानी और नई दोनों बिल्डिंग, मुंबई का लीलावती अस्पताल, बैंक ऑफ इंडिया और बॉम्बे सेंट्रल रेलवे स्टेशन की इमारतें भी इस ग्रुप द्वारा बनाई गई हैं. मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे का कंस्ट्रक्शन हो या फिर पश्चिम एशिया में ओमान के सुल्तान का महल और अफ्रीका में घाना में राष्ट्रपति का महल सभी का निर्माण भी शापूरजी पालोनजी मिस्त्री समूह ने करवाया है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें