scorecardresearch
 

फेस्टिव सीजन में इस राज्य के कर्मचारियों की लगी लॉटरी, बढ़ने वाली है सैलरी!

7th Pay Commission In Karnataka: फेस्टिव सीजन में राज्य सरकार के इस बड़े ऐलान के बाद सरकारी कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले हो गई है. अब उनके पे-स्केल में बदलाव होने वाला है और सैलरी बढ़ने वाली है. इससे राज्य के लाखों कर्मचारियों और पेंशनरों को लाभ होगा.

X
फेस्टिन सीजन में इस राज्य के कर्मचारियों की लगी लॉटरी
फेस्टिन सीजन में इस राज्य के कर्मचारियों की लगी लॉटरी

कर्नाटक (Karnataka) राज्य के सरकारी कर्मचारियों के लिए फेस्टिव सीजन में एक खुश कर देने वाली खबर आई है. दरअसल, उनकी सैलरी में जोरदार इजाफा होने वाला है. सरकार ने कर्मचारियों के पे-स्केल (Pay-Scale) में बदलाव के लिए 7वें वेतन आयोग (7th Pay Commission) के गठन का ऐलान कर दिया है. 

लाखों कर्मचारियों-पेंशनरों को फायदा
पीटीआई के मुताबिक, सरकार के इस ऐलान के बाद राज्य सरकार के लाखों कर्मचारियों और पेंशनरों (Pensioners) को फायदा होगा और उनकी सैलरी में बड़ी बढ़ोतरी (Salary Hike) देखने को मिलेगी. सरकार की ओर से साफ किया गया है कि यह 7वां वेतन आयोग इसी साल अक्टूबर में लागू हो जाएगा. इसके साथ ही सरकार की ओर से कर्मचारियों के लिए पुण्यकोटि दत्तू योजना (Punyakoti Dattu Yojana) की भी शुरुआत की गई है. 

पुण्यकोटि योजना की भी शुरुआत
कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई (Basavaraj Bommai) ने पहले राज्य स्तरीय राज्य सरकार कर्मचारी दिवस और राज्य स्तरीय सर्वोत्तम सेवा पुरस्कार समारोह के दौरान इसे लॉन्च किया. उन्होंने कहा कि A और B ग्रेड के कर्मचारी पुण्यकोटि योजना के अंतर्गत 11,000 रुपये की वार्षिक फीस का भुगतान करके गायों को गोद ले सकेंगे. मुख्यमंत्री के अनुसार, इस योजना के तहत विभिन्न गोशालाओं में गोद लेने के लिए 1 लाख से अधिक गाय मौजूद हैं.

गोशाला के लिए 50 करोड़ रुपये मंजूर 
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक जिले में एक गोशाला का निर्माण करने के लिए 50 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं, लेकिन इस में राज्य के लोगों की भागीदारी महत्वपूर्ण है. समारोह के दौरान मुख्यमंत्री ने एक और ऐलान किया. उन्होंने कहा कि सरकारी कर्मचारियों को आरोग्य संजीवनी योजना के तहत कवर करने के लिए एक सरकारी आदेश जारी कर दिया गया है.

मोदी के नेतृत्व में भारत मजबूत
कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मई ने इस बात पर भी जोर दिया कि विकास कार्य, प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसलों को होने वाले नुकसान, जन और संपत्ति की हानि के लिए दिए जाने वाले मुआवजे के लिए अच्छी अर्थव्यवस्था जरूरी है. ऐसे में सरकार की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है. इस दौरान उन्होंने कहा कि दुनिया के सबसे मजबूत देश भी कोरोना के कारण कठिनाइयों का सामना कर रहे थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मजबूत नेतृत्व के साथ, भारत मजबूती से खड़ा है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें