scorecardresearch
 

Tesla की भारत में एंट्री पर फंसा पेंच, Elon Musk की नहीं बन रही है सरकार से बात!

Tesla की इलेक्ट्रिक कारों का इंडिया में लंबे समय से इंतजार हो रहा है. लेकिन इंडियन मार्केट में इसकी एंट्री को लेकर मामला थोड़ा पेचीदा बना हुआ है. सरकार चाहती है कि टेस्ला इंडिया में Make In India कारों की सेल करे. अब इसे लेकर कुछ नए अपडेट सामने आए हैं. पढ़ें ये खबर...

X
Tesla Tesla
स्टोरी हाइलाइट्स
  • Tesla लंबे समय से भारत आना चाहती है
  • मस्क लंबे समय उठा रहे हैं टैरिफ का मुद्दा

Tesla की कारों की डिमांड पूरी दुनिया में है. आकर्षक डिजाइन और बेहतरीन फीचर्स की वजह से भारत में भी लोग इन कारों का बेसब्री से वेट कर रहे हैं. लेकिन टेस्ला (Tesla) की भारत में एंट्री में पेंच फंसा हुआ है. सूत्रों की मानें तो Tesla और भारत सरकार के बीच अभी भी बात नहीं बन पाई है. टेस्ला की टैक्स बेनिफिट्स की मांग को लेकर सरकार बहुत अधिक रुचि नहीं दिखा रही है, क्योंकि वह कंपनी से भारत में प्रोडक्शन को लेकर कमिटमेंट चाहती है. 

मस्क ने की है ये मांग

Elon Musk की भारत सरकार से इलेक्ट्रिक कारों पर आयात शुल्क (इम्पोर्ट फीस) कम करने की मांग हैं. इस बारे में वह सोशल मीडिया पर भी लिख चुके हैं कि भारत में अपनी कार लॉन्च करने के लिए उन्हें भारत सरकार के साथ काम करते हुए ‘चुनौतियों’ का सामना करना पड़ रहा है. लेकिन यह मस्क का एक तरह का दांव है. दअरसल, मस्क टेस्ला की कारों के भारत में उत्पादन की ‘कमिटमेंट’ के बिना ही आयात शुल्क में कमी चाहते हैं. सरकार ने मस्क के ‘चुनौतियां’ पेश आने के दावे को खारिज कर दिया था.

उनके सोशल मीडिया पर ‘चुनौतियों’ के दावे का सबसे पहले जवाब तेलंगाना के उद्योग मंत्री के. टी. रामा राव ने दिया था और उन्हें राज्य में प्लांट लगाने के लिए आमंत्रित किया था. उसके बाद कई और राज्यों ने भी एलन मस्क के सामने ऐसे प्रस्ताव सार्वजनिक मंच पर रखे.

Tesla को इस स्कीम का मिलेगा फायदा

भारत सरकार ने ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए PLI Scheme लॉन्च की है. ऐसे में मस्क की कंपनी अगर भारत में प्रोडक्शन करती है तो उसे इस स्कीम का फायदा मिलेगा. कंपनी जीरो फीसदी आयात शुल्क पर अपनी कारों को अलग-अलग हिस्सों में भारत ला सकती है और यहां उन्हें असेंबल कर सकती है. 

लंबे समय से भारत आना चाहती है टेस्ला

Tesla लंबे समय से भारत आना चाहती है. रिपोर्ट्स की मानें तो कंपनी भारत में अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल की बिक्री को लेकर बेकरार है. कंपनी के अधिकारी लंबे समय से टैरिफ घटाने की मांग को लेकर नई दिल्ली में कोशिशों में लगे हैं. कंपनी के अरबपति सीईओ मस्क के मुताबिक भारत का टैरिफ दुनिया के सबसे ज्यादा टैरिफ रेट में से एक है. 

तुर्की में कंपनी ने की एंट्री

Tesla ने एक साल पहले अपनी भारतीय यूनिट ‘टेस्ला इंडिया मोटर्स एंड एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड’ को रजिस्टर कराया था. लेकिन कंपनी देश में अब तक अपनी इलेक्ट्रिक व्हीकल लॉन्च नहीं कर पाई है. इसी बीच कंपनी ने एक अन्य अधिक आबादी वाले देश तुर्की में एंट्री कर ली है. कंपनी ने Kemal Geçer को इस नए मार्केट में अपना जनरल मैनेजर नियुक्त किया है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें