Vivo TWS Neo Review: क्या हैं इस इयरफोन्स की खूबियां और कमियां

Vivo TWS Neo Review: ट्रू वायरलेस इयरफोन्स की िडमांड बढ़ रही है और मार्केट में ये पॉपुलर भी हो रहे हैं. भारत में वीवो ने भी अपना TWS Neo लॉन्च किया है. पढ़ें इसका रिव्यू.

Vivo TWS Neo Review
मुन्ज़िर अहमद
  • नई दिल्ली,
  • 07 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 5:52 PM IST

वीवो ने भारत में अपने फ़्लैगशिप X50 साीरीज के साथ TWS Neo इयरफोन्स भी लॉन्च किए हैं. इन दिनों मार्केट Apple AirPods जैसे दिखने वाले कई इयरफोन्स उपलब्ध हैं. वीवो के नए इयरफोन्स का डिजाइन भी ऐपल एयरपॉड्स से ही इंस्पायर्ड है.

इसके दो कलर वेरिएंट्स हैं - ब्लू और व्हाइट. मैंने इनका ब्लू वेरिएंट रिव्यू किया है. इस रिव्यू में हम आपको बताएंगे कि ये इयरफोन्स रियल लाइफ में कैसा परफ़ॉर्म करते हैं और कंपनी के दावों पर कितने खरे उतरते हैं.

डिज़ाइन और बिल्ड क्वॉलिटी की बात करें तो इस फ़्रंट पर वीवो के ये वायरलेस इयरफोन्स सॉलिड हैं. मैंने ब्लू कलर वेरिएंट रिव्यू किया है और ये दूसरों से काफ़ी अलग कलर दिखता है. इसके साथ दिया गया चार्जिंग केस ग्रेडिएंट डिज़ाइन का है और ये ऐग शेप का है.

शुरुआत में तो शायद आपको ऐसा लगेगा कि ये इयरफोन्स स्लिपरी हैं और कान में लंबे समय तक नहीं लगे रह सकते हैं. इस तरह के वायरलेस इयरफोन्स में मूवमेंट के दौरान गिनाने का डर हमेशा बना रहता है.

हालांकि कान में ये इयरफोन्स अच्छे से फ़िट होते हैं और मूवमेंट के दौरान भी गिरने की कोई समस्या मैंने फ़ेस नहीं की है. ख़ास कर जब चल रहे होते हैं तो ये आपके कानों से नहीं गिरेगा. जॉगिंग करते वक्त ये कानों से गिर जाता है.

वीवो ट्रू वायरलेस इयरफोन्स - फ़ीचर्स

वीवो के इस इयरफोन्स में कई फ़ीचर्स दिए गए हैं जो प्रैक्टिकल हैं. जैसे आप साउंड बढ़ाने के लिए इयरफोन्स पर ही स्वाइप अप या स्वाइप डाउन कर सकते हैं. इसमें टच कंट्रोल दिया गया है और साथ ही डबल टैप करके गाने को प्ले और पॉज़ किया जा सकता है.

कॉलिंग की बात करें तो किसी की कॉल उठाने के लिए प्रेस करके होल्ड कर सकते हैं. इसी तरह आप गाने सुनने के दौरान अगर इयरफोन्स कान से हटाएंगे तो गाना या यूट्यूब वीडियो पॉज हो जाएगा.

कॉलिंग के लिए इन इयरफोन्स में अच्छी बात ये है कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस बेस्ड नॉयज कैंसिलेशन का भी फ़ीचर दिया गया है. कॉलिंग के दौरान विंड नॉयज या बाहरी साउंड आपको महसूस नहीं होगा.

ऑडियो क्वॉलिटी और कनेक्टिविटी

इसमें 14.2mm के ड्राइवर्स दिए गए हैं और ये क्वॉल्कॉम aptX ब्लूटूथ सपोर्ट करता है. इसके इसमें वीवो का DeepX स्टीरियो साउंड इन्हैंसमेंट भी दिया गया है. हालांकि ये इनहैंसर तब ही काम करेगा जब आप इसे वीवो स्मार्टफोन्स के साथ कनेक्ट करेंगे.

ऑडियो क्वॉलिटी की बात करें तो आप इससे शानदार बेस की उम्मीद नहीं कर सकते. म्यूज़िक सुनने के दौरान हमारा अनुभव अच्छा रहा, लेकिन हमेशा ये कमी महसूस हुई कि इसकी ऑडियो क्वॉलिटी को और बेहतरीन किया जा सकता था.

इस इयरफोन्स की ख़ासियत ये भी है कि कनेक्टिविटी में कभी कोई दिक़्क़त नहीं आई. इसका रेंज अच्छा है और ये भारत में शायद पहला है जिसमें ब्लूटूथ 5.0 की कनेक्टिविटी दी गई है.

इसे फ़ोन से कनेक्ट करना भी आसान है. वीवो के स्मार्टफोन्स के साथ ये ऐपल की तरह ही एक पॉप अप के साथ कनेक्ट हो जाता है.

दूसरे स्मार्टफ़ोन से कनेक्ट करने के लिए इसके चार्जिंग केस में दिए गए बटन को लॉन्ग प्रेस करना है. कलर चेंज होते ही ये डिस्कवरेबल हो जाता है और एक दूसरे से कनेक्ट होते ही फ़ोन के साथ इसकी कनेक्टिविटी हो जाती है.

कंपनी ने दावा किया था कि चार्जिंग केस के साथ ये 22 घंटे की बैटरी बैकअप दे सकता है. इयरफोन्स को लगातार यूज करने पर इससे आप 4 घंटे तक की बैटरी बैकअप निकाल सकते हैं.

डेली यूज के लिए आप इसे रखेंगे और चार्जिंग केस फ़ुल चार्ज है तो आप इसे ऐवरेज यूज में हफ़्ते भर आराम से बिना चार्ज के चला सकते हैं. (हफ़्ते भर लगातार नहीं).

बॉटम लाइन

Vivo TWS Neo का ओवरऑल परफॉर्मेंस अच्छा रहा है. इसे एंड्रॉयड या आईओएस किसी भी डिवाइस के साथ आसानी से कनेक्ट करके यूज किया जा सकता है. इसे मैकबुक या विंडोज पीसी से भी आसानी से कनेक्ट कर सकते हैं. यूजर एक्सपीरिएंस फ्रंट पर भी ये इयरफोन्स आपको निराश नहीं करेंगे. बिल्ड क्वॉलिटी भी अच्छी है और देखने में ये प्रीमियम लगते हैं. साउंड क्वॉलिटी ऐवरेज से थोड़ा ज्यादा है, वीवो के साथ बेहतरीन है.

आज तक टेक रेटिंग - 8/10

Read more!

RECOMMENDED