गगन गिल ने कहा- गायब हो जाएंगे नामवर सिंह, अशोक वाजपेयी ने बताया- अचूक अवसरवादी

नामवर सिंह के बारे में बताते हुए अशोक वाजपेयी ने कहा कि वह एक तरह के लोक शिक्षक थे. उन्होंने कहा कि वह बहुत विद्वान थे लेकिन अपने साहित्य पर कभी इसका बोझ नहीं डालते थे. वाजपेयी ने कहा कि हिन्दी में नामवर सिंह ने ऐसी आलोचना भाषा दी जो आम बातचीत के काफी निकट थी.

साहित्य आजतक में निर्मला जैन और अशोक वाजपेयी (फोटो- प्रेम)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 01 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 4:23 PM IST

  • कृष्णा सोबती और नामवर सिंह को समर्पित सत्र
  • लेखकों के जीवन के अनछुए पहलू
  • सोबती ने क्यों नहीं लिया पद्म पुरस्कार?
  • 'आलोचक नामवर सिंह को भुला देंगे पाठक'

साहित्य आजतक का एक सत्र लेखिका कृष्णा सोबती और हिन्दी के आलोचक नामवर सिंह को समर्पित रहा. इस सत्र में कवि और आलोचक अशोक वाजपेयी, लेखिका और आलोचक निर्मला जैन और कवयित्री गगन गिल ने शिरकत की. तीनों लेखकों ने कृष्णा सोबती और नामवर सिंह के लेखन को याद किया और साहित्य में उनके योगदान के बारे में जानकारी दी.

अशोक वाजपेयी ने अपने संबोधन में कहा कि कृष्णा सोबती भारतीय साहित्य में जीने की प्रबल इच्छा की प्रतीक हैं और यह उनके पहले उपन्यास से ही प्रतीत हो जाती है. वाजपेयी ने कहा कि कृष्णा ने अपनी एक भाषा गढ़ी जिसमें हिन्दी, पंजाबी सभी शामिल है. उनके पास एक सधी हुई भाषा है और हर चरित्र अपनी ही भाषा बोलता है. कठिन हालात में भी मनुष्य होना और मनुष्य बने रहना संभव है, यह कृष्णा सोबती ने हमें बताया.

साहित्य आजतक में रजिस्ट्रेशन के लिए यहां क्लिक करें

नामवर सिंह के बारे में बताते हुए अशोक वाजपेयी ने कहा कि वह एक तरह के लोक शिक्षक थे. उन्होंने कहा कि वह बहुत विद्वान थे लेकिन अपने साहित्य पर कभी इसका बोझ नहीं डालते थे. वाजपेयी ने कहा कि हिन्दी में नामवर सिंह ने ऐसी आलोचना भाषा दी जो आम बातचीत के काफी निकट थी. हिन्दी के 50 साल के साहित्य की बात इन दोनों हस्तियों के बगैर नहीं की जा सकती.

किताब के अलावा कोई शौक नहीं...

लेखिका निर्मला जैन ने कहा कि कृष्णा सोबती मेरी गहरी दोस्त थीं. उन्होंने कहा कि नामवर सिंह मेरी लिए गुरु थे और इन दोनों का जाना हमारे लिए बड़ी क्षति है. निर्मला ने कहा कि पढ़ने-लिखने की कोई उम्र नहीं होती, यह बात मैंने इन्हीं दोनों से सीखी है. हम लोगों को किताब के अलावा कोई और शौक नहीं है और पूरी उम्र इसी शौक में गुजार दी. अगर आपकी आंखें और बुद्धि सलामत रहे तो आप जीवनभर इस शौक को जी सकते हैं.

निर्मला ने बताया कि मेरा जन्म व्यापारी परिवार में हुआ और पिता जौहरी थे शायद इसी वजह से सही की पहचान जल्दी कर पाती हूं. मुझसे चूक कम ही होती है और इसके पीछे मेरे पिता की विरासत का हाथ हो सकता है.

साहित्य आजतक की पूरी कवरेज यहां देखें

गगन गिल ने कृष्णा सोबती को याद करते हुए कहा कि उनसे पहली मुलाकात स्टूडेंट के तौर पर हुई थी. करीब चार दशक पुराने किस्से को याद कर गिल ने बताया कि उनका दुलार और स्नेह मेरे दिल को छू गया. उन्होंने कहा कि कृष्णा जी मुझे लेखन के अलावा व्यवहारिक तौर पर भी याद आती हैं. कृष्णा जी की मां उनके लेखन और मन भी हमेशा रहीं और वह आखिर तक उनकी सेवा करती रहीं. निर्मला ने कहा कि स्त्री विमर्श क्या होना चाहिए ये कृष्णा सोबती ने 50 साल पहले लिखकर बता दिया था.

कृष्णा सोबती ने नहीं लिया पद्म भूषण

अशोक वाजपेयी ने किस्सा याद करते हुए बताया कि मैं अपनी प्रेमिका जो आज जो मेरी पत्नी, के साथ सीपी के एक रेस्तरां में गया था जहां पहली बार कृष्णा सोबती से मुलाकात हुई थी. वह कभी भी जन्मदिन की बधाई देना नहीं भूलती थीं. उनकी ओर से मैं ही ज्ञानपीठ सम्मान लेने गया था और उन्होंने लेखकों के लिए 1.11 करोड़ रुपये दान में दिए थे.

अशोक वाजपेयी ने बताया कि मैंने पद्म पुरस्कार के लिए कृष्णा सोबती के नाम की सिफारिश की थी. लेकिन जब गृह मंत्रालय से उनके पास फोन आया तो उन्होंने मुझसे कहा कि इस सम्मान को वह नहीं लेना चाहतीं. बाद में मुझे ही पत्र लिखकर कहना पड़ा कि कृष्णा सोबती पद्म पुरस्कार नहीं लेना चाहती हैं. आज के जमाने में कौन ऐसा है जो पद्म भूषण को लेने से इनकार कर दे. यह पुरस्कार तब मिल रहा था जब यह निजाम नहीं था. कृष्णा सोबती साहस, स्वाभिमान का प्रतीक हैं.

सत्र कृष्णा और नामवर के नाम (फोटो- प्रेम)

निर्मला जैन ने बताया कि आज की पीढ़ी के काफी लोग इन दोनों के नाम भी नहीं जानते यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है. उन्होंने कहा कि एक बार वह मुझे किसी से मिलाना चाहती थीं और उनसे कृष्णाजी का संबंध था, मुझे लगा कि अब उनकी शादी हो जाएगी, फिर उन्होंने उस व्यक्ति से शादी नहीं की. लेकिन बाद में जाकर उन्होंने शिवनाथजी के साथ संबंध आखिर तक निभाया जो उम्र में उनसे छोटे थे.

अंधेरे दिखाता है नामवर का दिमाग

गगन गिल ने कृष्णा सोबती को याद कर कहा कि उनकी किताब आज भी पढ़कर प्रकृति को निहारने का मन होता है, उस पल को ज्यादा जीने का दिल करता है. वहीं नामवर सिंह के मौजूदगी बड़ी थी लेकिन मुझे लगता है कि वह जल्दी भुला दिए जाएंगे. क्योंकि नामवरजी उदाहरण हैं कि कैसे नहीं पढ़ना चाहिए. गिल ने कहा कि उनका दिमाग उनके पीछे खड़े अंधेरे ही हमें दिखाता है.

निर्माला जैन बताया, नामवर सिंह के साथ दिक्कत थी कि वह जब भी कुछ लिखते थे तो खास किस्म की होशियारी बरतते थे, यह लोगों को हमेशा उनसे शिकायत रही. वह हमेशा खास पाठकवर्ग को ध्यान में रखकर लिखते थे और इसी होशियारी की मार वह जिंदगी में खा गए. वरना वह हर गुत्थी को सुलझाने में काबिल थे.

नामवर सिंह के बारे में अशोक वाजपेयी ने कहा कि मैंने उन्हें अचूक अवसरवादी कहा था क्योंकि वह पाठक को देखकर तय करते हैं कि उनको क्या कहना चाहिए. लेकिन उनके बारे में गगन की आशा निराधार नहीं है.

Read more!

RECOMMENDED