साहित्य आजतक: 'घुल गए होठों पर सबके खट्टे-मीठे जायके, मैंने उसकी सांवली रंगत को जामुन कह दिया'

साहित्य आजतक 2019 के तीसरे और आखिरी दिन मुशायरे की महफिल सजी. इस मुशायरे में कई जाने-माने शायर शामिल हुए.

साहित्य आजतक 2019 के मुशायरे में राहत इंदौरी
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 03 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 12:55 PM IST

  • 'साहित्य आजतक 2019' के तीसरे दिन सजी मुशायरे की महफिल
  • साहित्य आजतक 2019 में मुशायरे में राहत इंदौरी भी हुए शामिल
'साहित्य आजतक 2019' के तीसरे और आखिरी दिन मुशायरे की महफिल सजी. इस मुशायरे में कई जाने-माने शायर शामिल हुए. मुशायरे में वसीम बरेलवी, राहत इंदौरी, नवाज देवबंदी, अभिषेक शुक्ला, जीशान नियाजी, कुंवर रंजीत चौहान ने शिरकत की और अपने शेरों से खूब वाहवाही लूटी. साहित्य आजतक 2019 में हुए मुशायरे में शायर राहत इंदौरी ने भी अपने परिचित अंदाज में शेर पढ़े. उनके शेर कुछ इस तरह से रहे...

अपना आवारा सर पटकने को तेरी दहलीज देख लेता हूंऔर फिर कुछ दिखाई दे, न दे काम की चीज देख लेता हूंतेरी परछाई, मेरे घर से नहीं जाती हैतू कहीं हो, मेरे अंदर से नहीं जाती हैआसमां मैंने तुझे सर पर उठा रखा हैये है तोहमत, जो मेरे सर से नहीं जाती हैदुख तो ये है कि अभी अपनी सफहें तिरछीं हैंये खराबी मेरे लश्कर से नहीं जाती हैताज मछली ने सफाई का पहन रखा हैगंदगी है कि समंदर से नहीं जाती हैजिंदगी को साज, सांसों को नई धुन कह दियाकौन है जिसने बिना सोचे हुए कुन कह दियाउसने इतना भी नहीं सोचा कि ना भी न हूं मैंतीर मेरे हाथ में था तो मुझको अर्जुन कह दियादेखना तकरीर का रुख कैसे बदला जाएगाखून में लथपथ हुआ मौसम तो फागुन कह दियाउसको हर एक रोग का नुस्खा जुबानी याद हैमेरे मुंह से जख्म निकला, उसने नाखुन कह दियाघुल गए होठों पर सबके खट्टे-मीठे जायकेमैंने उसकी सांवली रंगत को जामुन कह दियाहमने खुद अपनी रहनुमाई कीऔर शोहरत हुई खुदाई कीमैंने दुनिया से, और मुझसे दुनिया नेसैकड़ों बार बेवफाई कीखुले रहते हैं सारे दरवाजेकोई सूरत नहीं रिहाई कीमेरे कमरे में दो परिंदों नेइंतिहा कर दी बेहयाई की

Read more!

RECOMMENDED