साहित्य आजतक 2019: अरूणिमा सिन्हा ने बताया, पैर गंवाने के बाद कैसे फतह किया एवरेस्ट

अरूणिमा ने 2011 में हुए इस हादसे के दो साल बाद 2013 में अपने कृत्रिम पैरों से दुनिया की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट फतह कर इतिहास रच दिया था. अरूणिमा ने साहित्य आजतक के एवरेस्ट से भी ऊंचा सत्र में एवरेस्ट फतह करने की कहानी के साथ ही हादसे का मंजर भी बयान किया.

साहित्य आजतक के मंच पर एवरेस्ट विजेता अरूणिमा सिन्हा
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 03 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 6:07 PM IST

  • पैरों से नहीं, दिल और दिमाग से किया एवरेस्ट फतह
  • लक्ष्य को पाने के लिए जरूरत सोच, गोल और फोकस की

वॉलीबाल में राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी रहीं अरूणिमा सिन्हा. वही अरूणिमा सिन्हा, जिन्हें बदमाशों ने लूट का विरोध करने पर चलती ट्रेन से नीचे फेंक दिया था. अरूणिमा ने 2011 में हुए इस हादसे के दो साल बाद 2013 में अपने कृत्रिम पैरों से दुनिया की सबसे ऊंची चोटी एवरेस्ट फतह कर इतिहास रच दिया था. अरूणिमा ने साहित्य आजतक के एवरेस्ट से भी ऊंचा सत्र में एवरेस्ट फतह करने की कहानी के साथ ही हादसे का मंजर भी बयान किया.अरूणिमा ने उस हादसे को याद करते हुए कहा कि वह हादसा मेरी जिंदगी का यू टर्न था. तब मैं एक जॉब के लिए इंटरव्यू देने दिल्ली जा रही थी. तभी ट्रेन में कुछ लोगों ने लूटपाट शुरू कर दी. मैंने अपनी चेन छीनने से मना किया, हाथापाई हुई और बदमाशों ने ट्रेन से नीचे फेंक दिया. उन्होंने कहा कि एक पैर कट चुका था, जींस में झूल रहा था जबकि दूसरे की टूटी हड्डियां जींस से इधर-उधर से निकल रही थीं. एक के बाद एक कई ट्रेनें पैर से ऊपर से गुजर गईं. ट्वायलेट भी आसपास गिर रहा था, छींटे भी पड़ रहे थे, मैं उठने की कोशिश करती रही लेकिन असफल रही. सुबह ग्रामीणों ने अस्पताल पहुंचाया. अरूणिमा ने कहा कि अस्पताल में एनेस्थिसिया और ऑक्सीजन नहीं था. देख नहीं पा रही थी, लेकिन डॉक्टरों की बात सुनकर बिन एनेस्थेसिया के ही पैर काटने को कहा क्योंकि पेन बहुत ज्यादा हो रहा था. डॉक्टरों ने ऐसा ही किया भी. डॉक्टरों ने वह सभी किया, जो वह कर सकते थे. उन्होंने बताया कि फार्मासिस्ट बीसी यादव ने अपना खून दिया. तब तक यह मामला मीडिया में आ गया और मुझे किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज से दिल्ली एम्स लाया गया. अरूणिमा ने कहा कि अस्पताल में लोगों को मेरा पैर कट जाने के कारण अधिक चिंता शादी की थी. तब काफी कंट्रोवर्सी भी हुई कि सुसाइड के लिए गई, टीटी आया तो टिकट नहीं था इसलिए कूद गई आदि.उन्होंने कहा कि तब सब समय पर छोड़ दिया और ठान लिया कि मुझे एवरेस्ट फतह करना है. डॉक्टर भी कहते हैं कि स्टिक के सहारे चलना सीखने में 4-5 साल लग जाते हैं, मैंने दो साल में यह कर दिखाया. अरूणिमा ने कहा कि डॉक्टर बोलते थे स्टिक लेकर चलो, व्हीलचेयर ले लो, लेकिन मैंने तय कर लिया था कि मुझे व्हीलचेयर पर बैठना ही नहीं है. दीवारों के सहारे आठ महीने में चलना सीखा. एवरेस्ट पर जाने की बात सुन लोग कहते थे पागलअरूणिमा ने कहा कि एवरेस्ट की चढ़ाई में फिट लोग भी असफल हो जाते थे. मेरा एरक पैर नहीं दूसरा था भी तो मूव नहीं कर रहा था. ऐसे में कृत्रिम पैरों के साथ एवरेस्ट पर जाने की बात सुनकर लोग पागल भी बोलते थे. मेरी मां ने मेरा सपोर्ट किया और स्पॉन्सर न मिलने की स्थिति में कहा कि इसके लिए वह अपना घर भी बेच देंगी. हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होते ही घर नहीं, सीधे बछेंद्री पाल से मिलने उनके दफ्तर गई.

उन्होंने उस पल को याद करते हुए बताया कि तब मेरे पैरों से खून निकल रहा था. बछेंद्रीजी ने पूछा कि यह क्या तो मैंने बताया कि जो लड़की आजकल टीवी पर आ रही है, जिसके पैर कट गए हैं, मैं वही लड़की हूं. मैंने जब अपना प्रपोजल बताया तो उनकी आंखों में भी आंसू आ गए और उन्होंने कहा कि अपने अंदर के एवरेस्ट पर तुमने फतह कर लिया है, अब तो बस दुनिया को दिखाने के लिए एवरेस्ट फतह करना है. उन्होंने मुझे सपोर्ट किया. अरूणिमा ने कहा कि आपको लोग जब पागल बोलना शुरू कर दें, समझ लेना आपका गोल उतना ही करीब है.एवरेस्ट की चढ़ाई में भी आई मुश्किलअरूणिमा ने बताया कि ट्रेनिंग के दौरान 30 से 35 किलो वजन लेकर 14 हजार फीट की ऊंचाई वाले सूर्याटॉप पर चढ़ना होता था, शुरू में इस पर भी चढ़ाई नहीं कर पाई. वापस आई और खुद से वादा किया कि सूर्याटॉप पर जाना है. फिर अगली बार में सबसे 20 मिनट पहले चोटी पर थी. अन्य लोगों ने पूछे कि आप खाते क्या हो. उन्होंने बताया कि जब एवरेस्ट जाने के लिए काठमांडू पहुंची, तब शेरपा ने कहा कि यह नहीं जा सकती. कम तापमान में पैर क्रैक हो जाएगा, लेकिन नहीं मानी.

अरूणिमा ने बताया कि एवरेस्ट के रास्ते में भी कई मुश्किलें आईं. रॉकी एरिया बेस्ट चली, ग्रीन ब्लू पहुंच पैर स्लिप हो जाता था. टो पर हिट करना होता था, करती तो टो हिल पर आ जाता. शेरपा बोले चलेगी कैसे. पांच-पांच बार टो हिट कर ऊपर गई. उन्होंने कहा कि मेरा आर्टिफिशियल पैर दुनिया की नजर में आर्टिफिशियल था, मेरी नजर में नहीं. एवरेस्ट फतह देश का सपना बन चुका थाअरूणिमा ने बताया कि अन्य लोगों से स्लो थी. बालकनी एरिया में ऑक्सीजन कम हो रहा था, तब शेरपा ने वापस चलने को कहा. उन्हें गुस्सा आ रहा था. उन्होंने बताया कि तब शेरपा से कहा कि तुम जाओ या न जाओ, मुझे जाना है. रास्ता ऐसा कि वहां से कोई नहीं ला सकता. रास्ते में 90 के दशक की डेड बॉडी पड़ी थीं.

एवरेस्ट विजेता ने बताया कि मेरी रोप में एक बांग्लादेशी की डेथ हो गई. उसे क्रॉस कर आगे बढ़ीं और पैर फिसल गया तो उसी बॉडी पर आकर रूकी. उन्होंने कहा कि पहले एवरेस्ट पर चढ़ना केवल मेरा सपना था, लेकिन जब वहां पहुंच गई तब यह पूरे देश का सपना बन चुका था. ले गई थी विवेकानंद की तस्वीरअरूणिमा ने बताया कि वह अपने साथ अपने आध्यात्मिक गुरु स्वामी विवेकानंद की तस्वीर ले गई थीं और कैमरे भी. चोटी पर पहुंचकर कैमरा निकाल शेरपा से फोटो खींचने को बोला तो वह गुस्सा गया. उन्होंने बताया कि ऑक्सीजन कम था, शेरपा को भी पता था कि इतने ऑक्सीजन में कैंप-4 तक भी नहीं पहुंच सकती. उसने फोटो खींच ली, लेकिन जब वीडियो बनाने को बोली तो उसने कैमरा पटक दिया. उन्होंने बताया कि जिंदा बचूंगी या नहीं, वीडियो से युवाओं को प्रेरणा मिलेगी, यह सोचकर वीडियो बनवाया था.पैर नहीं, दिल और दिमाग से फतह किया एवरेस्टअरूणिमा ने कहा कि एवरेस्ट पैरों से नहीं, दिल और दिमाग से फतह किया. किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए जरूरत सोच, गोल और फोकस की होती है. उन्होंने इसके बाद अन्य पहाड़ों की चोटियों को फतह करने से जुड़ी अपनी यादों को भी साझा किया.

Read more!

RECOMMENDED